डायबिटीज के शुरुआती लक्षण क्या है?

GoMedii Offer

 

 

 

अगर आपको डायबिटीज है तो आप कैसे पता लगाएंगे ? इसके लिए आपको डायबिटीज के शुरुआती लक्षण क्या होते हैं, इसके बारे में पता होने चाहिए। डायबिटीज के शुरुआती लक्षण आपके रक्त में ग्लूकोज के स्तर अचानक बढ़ता है। लेकिन आपको इसका पता तुरंत नहीं चलता है। दरअसल आपके शरीर में इंसुलिन ठीक से काम नहीं करता है और यही वजह है की आपके शरीर में शुगर अनियांत्रित हो जाती है।

 

डायबिटीज के शुरुआती लक्षण इतने हल्के हो सकते हैं कि आप उन्हें नोटिस भी नहीं करते हैं। यह विशेष रूप से टाइप 2 डायबिटीज के लक्षण हो सकते हैं। प्रीडायबिटीज वाले लोगों में ब्लड शुगर का स्तर सामान्य से अधिक होता है, लेकिन डॉक्टर अभी तक उन्हें डायबिटीज का मरीज नहीं मानते हैं। सीडीसी के अनुसार, प्रीबायबिटीज वाले लोग अक्सर 5 साल के भीतर टाइप 2 डायबिटीज का शिकार हो जाते हैं अगर उन्हें इलाज नहीं मिलता है। टाइप 1 डायबिटीज के लक्षण आमतौर पर जल्दी कुछ दिनों या कुछ हफ्तों में पता चल सकते हैं। वे बहुत अधिक गंभीर भी हैं।

 

 

 

डायबिटीज के शुरुआती लक्षण

 

 

सभी प्रकार के मधुमेह में समान लक्षण दिखाई देते हैं जिनमे शामिल है :

 

 

लगातार पेशाब आना

 

जब रक्त में शर्करा की मात्रा अधिक होती है, तो किडनी अतिरिक्त रक्त छानकर शर्करा को निकालती है। इससे उस व्यक्ति को ज्यादा बार पेशाब आती है, ऐसा ज्यादातर रात में होता है ये डायबिटीज के शुरुआती लक्षणों में सबसे आम है।

 

 

 

बहुत अधिक प्यास लगना

 

बार-बार पेशाब आना, जब आप बहुत अधिक पानी पीते हैं तो आपको पेशाब भी ज्यादा आती है। ऐसा  होने पर ये आपके रक्त से अतिरिक्त शर्करा को हटाने का काम करती है, इसके परिणामस्वरूप शरीर में अतिरिक्त पानी की कमी हो सकती है। तभी सामान्य से अधिक प्यास लगती है।

 

 

 

हमेशा भूख लगना

 

लगातार भूख या प्यास टाइप 2 डायबिटीज के शुरुआती लक्षण हो सकते हैं। डायबिटीज वाले लोगों को अक्सर उनके द्वारा खाए गए भोजन से पर्याप्त ऊर्जा नहीं मिलती है। पाचन तंत्र भोजन को ग्लूकोज में परिवर्तित नहीं कर पता है। जिसका उपयोग शरीर ऊर्जा के रूप में करता है। डायबिटीज वाले लोगों में, इस ग्लूकोज का पर्याप्त हिस्सा रक्तप्रवाह से शरीर की कोशिकाओं में नहीं जाता है। यही वजह है कि टाइप 2 डायबिटीज वाले ज्यादातर लोग लगातार खुद को भूखा महसूस करते हैं, भले ही उन्होंने हाल ही में खाना खाया हो।

 

 

 

बहुत थकान महसूस करना

 

टाइप 2 डायबिटीज किसी व्यक्ति के ऊर्जा स्तर पर प्रभाव डाल सकती है और उनकी ऊर्जा को कम करती है। यही वजह है कि उन्हें बहुत थकान महसूस होती है। यह थकावट रक्त के प्रवाह से शरीर की कोशिकाओं में अपर्याप्त शर्करा के परिणामस्वरूप होती है।

 

 

 

धुंधली दृष्टि

 

रक्त में शर्करा की अधिक मात्रा से आँखों की छोटी रक्त वाहिकाओं को नुकसान हो सकता है, जिसकी वजह से दृष्टि धुंधली हो सकती है। यह धुंधली दृष्टि एक या दोनों आँखों में हो सकती है। यदि डायबिटीज वाला व्यक्ति बिना इलाज के चला जाता है, तो इन रक्त वाहिकाओं को नुकसान अधिक गंभीर हो सकता है, और वह व्यक्ति दृष्टि हीन भी हो सकता है।

 

 

 

घाव का देर से ठीक होना

 

रक्त में शर्करा का उच्च स्तर शरीर की नसों और रक्त वाहिकाओं को नुकसान पहुँचाता है, जो रक्त के प्रवाह को बाधित कर सकता है। नतीजतन, ये आपके शरीर में लगी चोट और घाव को भरने में यदि काफी दिन लगते हैं तो ये डायबिटीज के शुरुआती लक्षण हैं। यदि ऐसा होता है तो धीरे-धीरे घाव भरने से संक्रमण का खतरा भी बढ़ जाता है।

 

 

 

झुनझुनी, सुन्नता, हाथ या पैर में दर्द

 

उच्च रक्त शर्करा का स्तर रक्त के प्रवाह को प्रभावित कर सकता है और शरीर की नसों को नुकसान पहुँचा सकता है। टाइप 2 डायबिटीज वाले लोगों में, यह दर्द या हाथ-पैरों में झुनझुनी या सुन्नता की अनुभूति हो सकती है। इस स्थिति को न्यूरोपैथी के रूप में जाना जाता है और यह समय के साथ खराब हो सकता है। ये अधिक गंभीर जटिलताओं को विकसित कर सकता है अगर उस व्यक्ति को डायबिटीज का उपचार नहीं मिलता है।

 

 

 

त्वचा से जुड़ी समस्या

 

गर्दन, कमर पर काले धब्बे पड़ना या त्वचा का रंग गेहरा होना, ये डायबिटीज के उच्च जोखिम का संकेत हो सकते हैं। ऐसा होने पर उनकी त्वचा बहुत अधिक रूखी होने लगती है। इस त्वचा की स्थिति को एकेंथोसिस निगरिकन्स (acanthosis nigricans) के रूप में जाना जाता है।

 

जो भी व्यक्ति डायबिटीज के संभावित लक्षणों का अनुभव करता है, उसे तुरंत एक डॉक्टर की सलाह लेनी चाहिए। क्योंकि यह बीमारी ऐसी है जो जीवन भर आपको परेशान कर सकती है। खासकर उन लोगों को जिनके घर में पहले से किसी को डायबिटीज की बीमारी हो। टाइप 2 डायबिटीज के शुरुआती पहचान और उपचार से किसी व्यक्ति के जीवन की गुणवत्ता में सुधार किया जा सकता है और गंभीर जटिलताओं का खतरा भी कम किया जा सकता है।


Doctor Consutation Free of Cost=

Disclaimer: GoMedii  एक डिजिटल हेल्थ केयर प्लेटफार्म है जो हेल्थ केयर की सभी आवश्यकताओं और सुविधाओं को आपस में जोड़ता है। GoMedii अपने पाठकों के लिए स्वास्थ्य समाचार, हेल्थ टिप्स और हेल्थ से जुडी सभी जानकारी ब्लोग्स के माध्यम से पहुंचाता है जिसको हेल्थ एक्सपर्ट्स एवँ डॉक्टर्स से वेरिफाइड किया जाता है । GoMedii ब्लॉग में पब्लिश होने वाली सभी सूचनाओं और तथ्यों को पूरी तरह से डॉक्टरों और स्वास्थ्य विशेषज्ञों द्वारा जांच और सत्यापन किया जाता है, इसी प्रकार जानकारी के स्रोत की पुष्टि भी होती है।