विटामिन और सप्लीमेंट्स की गोलियां सेहत के लिए हानिकारक, वैज्ञानिकों ने किया दावा

शोधकर्ताओ ने खुलासा किया है की विटामिन सी (Vitamin C) कैप्सूल जैसी आम गोलिया स्वस्थ्य के लिए फायदेमंद साबित माहि हुई हैं, बल्कि विटामिन सप्लीमेंट जानलेवा साबित हो सकती हैं, वैज्ञानिको का कहना हैं इसके बजाये फल और सब्जिया के सेवन से आप विटामिन, मिनरल और अन्‍य पोषक तत्‍व आसानी से प्राप्‍त हो सकता है।

 

दरअसल, अमेरिकी कॉलेज ऑफ कार्डियोलॉजी के जर्नल में प्रकाशित के समीक्षा के मुताबिक, सेंट माइकल अस्पताल और टोरंटो विश्वविद्यालय के शोधकर्ताओं ने विटामिन (Vitamin) की सबसे आम खुराक यानी सप्‍लीमेंट का अध्‍ययन किया। इसमें विटामिन ए, बी1, बी2, बी3 (नियासिन), बी6, बी9 (फोलिक एसिड), सी, डी और ई के अलावा मिनरल बीटा कैरोटीन, कैल्शियम (Calcium), आयरन, जिंक, मैग्नीशियम (Magnesium) और सेलेनियम का अध्‍ययन किया।

 

अध्यन्न में शोधकर्ताओ ने पाया की मल्टीविटामिन (Multi-Vitamin), विटामिन डी,कैल्शियम (Calcium) और विटामिन सी, से कोई नुकसान नहीं हुआ, हालांकि हिर्दय संबंधी बीमारियों, दिल का दोरा (Heart Attack), स्ट्रोक या असमय मौत के बचाव में भी इन सप्लीमेंट्स की कोई भूमिका नहीं दिखी।शोधकर्ताओ ने अध्यन्न में यह भी पाया की नियासिन और एंटीऑक्सिडेंट समेत कुछ सप्‍लीमेंट्स ने यह संकेत दिए कि वे वास्तव में हानिकारक हो सकते हैं, क्योंकि सप्‍लीमेंट्स द्वारा मौत के जोखिम भी रिसर्च में दिखार्इ दिए।

 

विटामिन सप्लीमेंट्स (Vitamin Supplements) में एक फोलिक एसिड में कुछ सकरात्मक पहलु के प्रभाव सामने आये जोकि हृदय रोग या स्ट्रोक के जोखिम की क्षमता को कम करने की क्षमता दिखाई दी। शोध के बाद वैज्ञानिकों का कहना था कि “लोगों द्वारा उपभोग की जाने वाली विटामिन सप्‍लीमेंट के इतने कम प्रभाव दिखने से हम आश्‍चर्यचकित हुए।


Doctor Consutation Free of Cost=

Disclaimer: GoMedii  एक डिजिटल हेल्थ केयर प्लेटफार्म है जो हेल्थ केयर की सभी आवश्यकताओं और सुविधाओं को आपस में जोड़ता है। GoMedii अपने पाठकों के लिए स्वास्थ्य समाचार, हेल्थ टिप्स और हेल्थ से जुडी सभी जानकारी ब्लोग्स के माध्यम से पहुंचाता है जिसको हेल्थ एक्सपर्ट्स एवँ डॉक्टर्स से वेरिफाइड किया जाता है । GoMedii ब्लॉग में पब्लिश होने वाली सभी सूचनाओं और तथ्यों को पूरी तरह से डॉक्टरों और स्वास्थ्य विशेषज्ञों द्वारा जांच और सत्यापन किया जाता है, इसी प्रकार जानकारी के स्रोत की पुष्टि भी होती है।