डॉ जिज्ञासा सिन्हा पेडिएट्रिक न्यूरोलॉजिस्ट से कराएं इलाज?

GoMedii

पेडिएट्रिक न्यूरोलॉजिस्ट वह डॉक्टर होते हैं जो बच्चों के तंत्रिका तंत्र से संबंधित रोगों का निदान और उपचार करते हैं। न्यूरोलॉजी से सम्बंधित कई तरह की बीमारी होती हैं जिनका इलाज सही समय पर किया जाना बहुत जरुरी होता है। आज हम एक पेडिएट्रिक न्यूरोलॉजिस्ट करे बारे में बात कर रहें हैं जिनका नाम है डॉ जिज्ञासा सिन्हा। न्यूरोलॉजिस्ट मानव शरीर के मस्तिष्क और तंत्रिका तंत्र (मस्तिष्क, रीढ़ की हड्डी और तंत्रिकाओं) के विकारों का निदान, उपचार और प्रबंधन करता है।

एक न्यूरोलॉजिस्ट शरीर की रचना, कार्य और स्थितियों को समझता है जो हमारी नसों और तंत्रिका तंत्र को प्रभावित करते हैं। आपका तंत्रिका तंत्र आपके शरीर का कमांड सेंटर होता है। यह सब कुछ नियंत्रित करता है जो आप सोचते हैं, महसूस करते हैं। एक तरीके से यह आपके पूरे शरीर को कार्य करने में मदद करता है।

 

 

जानिए डॉ जिज्ञासा सिन्हा के बारे में जो कि पेडिएट्रिक न्यूरोलॉजिस्ट है? (Dr Jigyasa Sinha who is a Pediatric Neurologist in Hindi)

 

 

डॉ जिज्ञासा सिन्हा कोलकाता में एक बहुत ही अनुभवी बाल रोग विशेषज्ञ हैं उन्हें 12 साल का अनुभव है आपको बता दें की बाल रोग विशेषज्ञ को अंग्रेजी में पेडिएट्रिक न्यूरोलॉजिस्ट कहते हैं। डॉ जिज्ञासा ने अतीत में कोलकाता के न्यूरोसाइंसेज संस्थान से जुड़ी थीं। वह वर्तमान में अलीपुर, कोलकाता में वुडलैंड अस्पताल, नारायण अस्पताल मुकुंदपुर (आर.एन.टैगोर इंटरनेशनल इंस्टीट्यूट ऑफ कार्डिएक साइंसेज) कोलकाता और इंस्टीट्यूट ऑफ चाइल्ड हेल्थ, पार्क सर्कस, कोलकाता में डॉक्टर के रूप में काम कर रही हैं।

उन्होंने जमशेदपुर में वंडरकाइंड पीडियाट्रिक न्यूरोलॉजी सेंटर भी स्थापित किया है, जो विभिन्न न्यूरोलॉजिकल विकारों से निपटने वाले बच्चों की जरूरतों के लिए एक समर्पित केंद्र है। मुंबई से एमडी पीडियाट्रिक्स पूरा करने के बाद, उन्होंने लोकमान्य तिलक म्यूनिसिपल मेडिकल कॉलेज, सायन, मुंबई से पीडियाट्रिक न्यूरोलॉजी एंड एपिलेप्सी में पोस्ट डॉक्टरेट फेलोशिप की और व्रीजे यूनिवर्सिटी, एम्स्टर्डम, नीदरलैंड्स से पीडियाट्रिक न्यूरोलॉजी में एडवांस ट्रेनिंग की है। अगर हम उनकी क्वालिफिकेशन की बात करें तो उन्होंने एमडी – पेडिएट्रिक और एमबीबीएस किया है।

 

 

पेडिएट्रिक न्यूरोलॉजिस्ट क्या करते हैं? (What do Pediatric Neurologists do in Hindi)

 

पेडिएट्रिक न्यूरोलॉजिस्ट वह डॉक्टर होते हैं जो नवजात से लेकर किशोर अवस्था के बच्चों के मस्तिष्क और तंत्रिका तंत्र के विकारों का निदान, इलाज और प्रबंधन करते है। कुछ बीमारियां ऐसी हैं जो उन्हें अपने पारिवारिक इतिहास से मिली हैं और इसके अलावा कई वयस्कों में देखी जाती हैं।

 

 

न्यूरोसर्जन क्या करते हैं? (What do neurosurgeons do in Hindi)

 

एक न्यूरोसर्जन एक चिकित्सा चिकित्सक है जो मस्तिष्क, रीढ़ की हड्डी और तंत्रिकाओं (nerves) से सम्बंधित समस्याओं को दूर करने के लिए सर्जरी करता है।

 

 

न्यूरोलॉजिस्ट किस प्रकार के टेस्ट का सुझाव देते हैं? (What type of tests do neurologists recommend in Hindi)

 

 

सामान्य न्यूरोलॉजिकल परीक्षणों में शामिल हैं:

 

  • एंजियोग्राफी

 

  • बायोप्सी

 

  • सिरिब्रोस्पिनॉल फ्लूइड एनालिसिस (Cerebrospinal fluid analysis)

 

  • सीटी स्कैन, एमआरआई, एक्स-रे और अल्ट्रासाउंड

 

  • इलेक्ट्रोएन्सेफलोग्राफी (ईईजी)

 

  • इलेक्ट्रोमोग्राफी (ईएमजी)

 

  • इलेक्ट्रोनिस्टाग्मोग्राफी (ईएनजी)

 

  • एवोकेड पोटेंशियल

 

  • मयेलोग्राफ (Myelography)

 

  • पॉलीसोमनोग्राम (Polysomnogram)

 

  • पॉज़िट्रॉन एमिशन टोमोग्राफी (PET)

 

  • सिंगल-फोटॉन एमिशन कंप्यूटेड टोमोग्राफी (SPECT)

 

  • थर्मोग्राफी (Thermography)

 

 

आपको न्यूरोलॉजिस्ट को कब दिखाना चाहिए? (When should you see a neurologist in Hindi)

 

कुछ अधिक सामान्य लक्षण जिनके लिए आप एक न्यूरोलॉजिस्ट (या किसी एक को संदर्भित) देखना चाहते हैं, उनमें शामिल हैं:

 

  • मेमोरी लॉस होना (याद रखने में समस्या होना)

 

  • होश खो देना (Loss of consciousness)

 

  • दौरे पड़ना

 

  • स्वाद या गंध की समझ में न आना

 

  • देखने में समस्या होना

 

  • शरीर में झुनझुनी होना

 

  • आंखो की पलकें झुकी होना, चेहरे में बदलाव होना

 

  • चक्कर आना, कानों में सीटी बजना (टिनिटस) और बहरापन महसूस होना

 

  • खाना या पानी निगलने में कठिनाई होना, आवाज में बदलाव, कंधे में दर्द या गर्दन को मोड़ने में कठिनाई होना, जीभ को हिलाने में कठिनाई होना

 

  • मांसपेशियों में कमजोरी, ऐंठन, या मरोड़े उठना

 

  • शरीर के किसी अंग में जलन या दर्द होना

 

  • अधिकतर समय गर्दन या पीठ दर्द, सिरदर्द होना

 

  • चाल में असंतुलन (चलने में समस्या होना)

 

 

न्यूरोलॉजिस्ट किन बीमारियों और स्थितियों का इलाज करता है? (What diseases and conditions does a neurologist treat in Hindi)

 

 

कुछ सबसे आम तंत्रिका संबंधी विकार जिनका एक न्यूरोलॉजिस्ट इलाज कर सकता है उनमें शामिल हैं:

 

  • अल्जाइमर रोग और डिमेंशिया

 

  • एमियोट्रोफिक लेटरल स्क्लेरोसिस (Amyotrophic lateral sclerosis)

 

  • सर में चोट, रीढ़ की हड्डी में चोट

 

  • सेरेब्रल एन्यूरिज्म और आर्टेरिवेनोस मलफोर्मेशन (arteriovenous malformations)

 

  • सेरेब्रल पाल्सी और स्पास्टिसिटी

 

  • कन्कशन (Concussion)

 

  • इंसेफेलाइटिस (Encephalitis)

 

  • मिरगी (Epilepsy)

 

  • फेशियल पैन सिंड्रोम (Facial pain syndromes)

 

  • सिरदर्द/माइग्रेन (Headache/migraine)

 

  • हीड्रोसेफालुस (Hydrocephalus)

 

  • मैनिंजाइटिस (Meningitis)

 

  • मानसिक और व्यवहारिक स्वास्थ्य विकार (Mental and behavioral health disorders)

 

  • मल्टीपल स्क्लेरोसिस (Multiple sclerosis)

 

  • मायस्थेनिया ग्रेविस और मायोपैथीज (Myasthenia gravis and myopathies)

 

  • आपकी गर्दन, पीठ और रीढ़ में दर्द

 

  • पार्किंसंस डिजीज

 

  • परिधीय तंत्रिकाविकृति (Peripheral neuropathy)

 

  • स्लीप डिसऑर्डर (Sleep disorders)

 

  • स्ट्रोक (Stroke)

 

  • ट्रेमर, डिस्टोनिया (Tremor, dystonia)

 

  • मस्तिष्क, रीढ़ और नसों के ट्यूमर (Tumors of the brain, spine and nerves)

 

यदि आप कम लागत में पेडिएट्रिक न्यूरोलॉजिस्ट से सलाह लेना चाहते हैं या इससे सम्बंधित कोई भी प्रश्न पूछना चाहते हैं तो यहाँ क्लिक करें या आप हमसे व्हाट्सएप (+91 9654030724) पर संपर्क कर सकते हैं। इसके अलावा आप हमारी सेवाओं के संबंध में हमें Connect@gomedii.com पर ईमेल भी कर सकते हैं। हमारी टीम जल्द से जल्द आपसे संपर्क करेगी। हम आपका सबसे अच्छे हॉस्पिटल में इलाज कराएंगे।

 
Doctor Consutation Free of Cost=

Disclaimer: GoMedii  एक डिजिटल हेल्थ केयर प्लेटफार्म है जो हेल्थ केयर की सभी आवश्यकताओं और सुविधाओं को आपस में जोड़ता है। GoMedii अपने पाठकों के लिए स्वास्थ्य समाचार, हेल्थ टिप्स और हेल्थ से जुडी सभी जानकारी ब्लोग्स के माध्यम से पहुंचाता है जिसको हेल्थ एक्सपर्ट्स एवँ डॉक्टर्स से वेरिफाइड किया जाता है । GoMedii ब्लॉग में पब्लिश होने वाली सभी सूचनाओं और तथ्यों को पूरी तरह से डॉक्टरों और स्वास्थ्य विशेषज्ञों द्वारा जांच और सत्यापन किया जाता है, इसी प्रकार जानकारी के स्रोत की पुष्टि भी होती है।