घर में वायु प्रदूषण को कम करने के तरीके

GoMedii Offer

अगर हम पहले के समय की बात करें तो उसके मुकाबले हर जगह अब प्रदूषण का स्तर बढ़ चूका है। पहले के समय जब बाहर प्रदूषण हुआ करता था, तो लोग अपने घरों में चले जाते थे। लेकिन अब तो बाहर के बराबर ही घर में भी वायु प्रदुषण रहता है। अगर हम गांवो के लोगों की बात करें तो अब वो लोग भी इससे प्रभावित होने लगे है और वो लोग भी सांस से जुड़ी समस्याओं का शिकार होने लगे है।

 

 

घर में प्रदूषण कैसे कम करें

 

 

अगर हम प्रदुषण की बात करें तो घरों, कार्यालयों और अन्य जगहों के अंदर की हवा बाहर की हवा से अधिक प्रदूषित हो सकती है। आज हम इसी के बारे में बात करेंगे। आखिर वो कौन सी चीजें है जो आपके घर में वायु प्रदूषण को बढ़ाती है और ऐसा होने पर आप क्या कर सकते है। आइए जानते है।

 

 

घर में ना करें धूम्रपान

 

 

विशेषज्ञों का कहना है कि घर में सबसे बड़ा वायु प्रदूषण का कारण है सिगरेट का धुआं। “सिगरेट के धुएँ से निकलने वाली अवशिष्ट गैस और कण आपके और आपके परिवार वालों के स्वास्थ्य को खतरे में डालते हैं, दरअसल इसकी वजह से सबसे ज्यादा बच्चों  को नुकसान होता है। क्योंकि ये सबसे पहले उनके फेफड़ों पर बुरा असर डालता है। जिसके बाद उन लोगों को दिल से जुड़ी समस्या होने की संभावना होती है

 

 

पालतू जानवर

 

 

 

यदि आपके पास पालतू जानवर हैं, तो उन्हें हमेशा साफ़ रखने की कोशिश रखें। उन्हें कुछ दिनों में स्नान जरूर कराएं और उनमें एलर्जी पैदा होने पर उन्हें डॉक्टर से इंजेक्शन लगवाए। हमें ये नहीं कह रहे की आप घर में जानवर ना पालें, यदि आपके घर में जानवर है तो उन्हें साफ़ रखें इससे आप खुद भी कई बीमारियों से बचे रहेंगे।

 

 

एग्जॉस्ट फैंस या चिमनी का इस्तेमाल करें

 

 

रसोई में एग्जॉस्ट फैंस या चिमनी चलाएं (ये आपके खाना पकाने के धुएं को हटाता है) और बाथरूम में आप एग्जॉस्ट फैंस का इस्तेमाल कर सकते है, ये दूषित हवा को (भाप को निकालता है) बाहर वेंट करता है। इसके इस्तेमाल से आपके घर में प्रदुषण का स्तर काफी हद तक कम हो जाएगा। जब आपके घर में खाना पकाते वक़्त छौंक लगता है तो उससे भी घर में प्रदुषण बढ़ता है और ये एग्जॉस्ट इस धुंए को घर से बाहर निकालने में मदद करता है।

 

डोरमैट का उपयोग करें

 

घरों में घुसने से पहले जूते को पोंछने वाले डोरमैट का इस्तेमाल करें, क्योंकि इससे आपके जूतों और चपलों में लगी गन्दगी घर में नहीं आएगी। कई बार ऐसा होता है जब आप बाहर से आते है तो आपके जूतों में गंदगी लग जाती है ऐसा अक्सर बारिश के मौसम में ज्यादा होता है। इसलिए जरुरी है की आप अपने घर के बहार डोरमैट का इस्तेमाल करें। 

AC फिल्टर साफ़ रखें 

यदि आप अपने घरों में एयर कंडीशनर का इस्तेमाल करते है तो उसमें लगे फ़िल्टर को कुछ दिनों में साफ़ करते रहे। इससे घर में होने वाला प्रदुषण काफी हद तक कम रहेगा। आज कल घरों में भी होने वाला धुआं उन फ़िल्टर को जल्दी गंदा कर देता है, तो जरुरी है की एयर फिल्टर को अधिक बार बदलें या उन्हें साफ़ करते रहे।

हफ्ते में एक बार करें पूरे घर की डस्टिंग 

आप आपने घर में झाड़ू पोछा तो लगवाते ही होंगे, ताकि आपका घर साफ़ रहे। लेकिन उसके अलावा आप घर में प्रदुषण को कम करना चाहते है तो हफ्ते में एक बार पूरे घर की डस्टिन करें। इसके लिए आप वैक्यूम क्लीनर का उपयोग करें, इससे काम करने में आपको आसानी रहेगी और आपका काम भी जल्दी होगा ।

घर में एयर फ्रेशनर का इस्तेमाल ना करें 

यदि आप घर में वायु प्रदुषण को कम करना चाहते है तो अपने घरों में एयर फ्रेशनर्स, सुगंधित मोमबत्तियां, धूप और अन्य सुगंध वाली चीजों से बचें, क्योंकि ये आपको अस्थमा का रोगी बना सकती है और इससे आपके घर में भी प्रदुषण बढ़ता है।

घर में पौधे लगाए 

अपने घरों में प्रदूषण को कम करने वाले पौधों का इस्तेमाल करें। ऐसे कई पौधे आते है, जिन्हें लगाने से घरों में होना वाला प्रदुषण कम होता है। आप अपने घरों में मनी प्लांट, ऐलोवेरा, पाइन प्लांट, पीस लिली, गुलदाउदी आदि जैसे पौधों का इस्तेमाल कर सकते है और अपने घरों का प्रदुषण कम कर सकते है। ऐसा बहुत कम होता है की घर में होने वाले प्रदुषण की वजह से कुछ लोग बीमारी पड़ जाते है, जिसके बाद वह डॉक्टर की सलाह लेते है


Doctor Consutation Free of Cost=

Disclaimer: GoMedii  एक डिजिटल हेल्थ केयर प्लेटफार्म है जो हेल्थ केयर की सभी आवश्यकताओं और सुविधाओं को आपस में जोड़ता है। GoMedii अपने पाठकों के लिए स्वास्थ्य समाचार, हेल्थ टिप्स और हेल्थ से जुडी सभी जानकारी ब्लोग्स के माध्यम से पहुंचाता है जिसको हेल्थ एक्सपर्ट्स एवँ डॉक्टर्स से वेरिफाइड किया जाता है । GoMedii ब्लॉग में पब्लिश होने वाली सभी सूचनाओं और तथ्यों को पूरी तरह से डॉक्टरों और स्वास्थ्य विशेषज्ञों द्वारा जांच और सत्यापन किया जाता है, इसी प्रकार जानकारी के स्रोत की पुष्टि भी होती है।