जाने हाथ कांपने के कारण, लक्षण और उपाय।

Safe20

आजकल की व्यस्त जीवनशैली में, स्वास्थ्य का ध्यान रखना बहुत मुश्किल है और कब और कहाँ, कौन सा रोग एक अच्छे इंसान को ले सकता है, कुछ कहा नहीं जा सकता है। ऐसे में हमें अपने शरीर को स्वस्थ रखने के लिए अत्यधिक सावधानी बरतने की जरूरत है।

आजकल बहुत जल्द एक व्यक्ति को कमजोरी महसूस होने लगती है और हाथ पैर कांपना जैसी समस्याएं आजकल बहुत से लोगों को होने लगी हैं, लेकिन ज्यादातर हम इन संकेतों को नजरअंदाज कर देते हैं लेकिन ऐसा करना बहुत नुकसान पहुंचा सकता है। हाथ कांपना एक सामान्य कमजोरी के रूप में माना जाना एक बड़ी गलती हो सकती है और यह किसी गंभीर बीमारी का संकेत भी हो सकता है।

 

ट्रेमर क्या है।

 

ट्रेमर एक ऐसी समस्या है जिसमें शरीर का कोई भी हिस्सा लगातार कांपता है। यह कंपन शरीर के किसी एक या दो हिस्सों को प्रभावित करता है। यह मुख्य रूप से हाथ, पैर, सिर, चेहरा, आवाज को प्रभावित करता है।

 

 

ट्रेमर के कारण।

 

इस बीमारी का कारण हर व्यक्ति में अलग होता है। मस्तिष्क के कुछ हिस्सों में न्यूरोट्रांसमीटर रासायनिक(Neurotransmitter chemical) होते हैं। ये रसायन पूरे शरीर या किसी विशेष भाग की मांसपेशियों को नियंत्रित करते हैं।

 

जब ये रसायन लीक होने लगते हैं, तो ट्रेमोरनम की समस्या का सामना करना पड़ता है। यह समस्या असामान्य मांसपेशियों के कारण भी उत्पन्न होती है। यह समस्या न्यूरोडीजेनेरेटिव बीमारी के कारण भी होती है।

 

इस बीमारी में दिमाग पूरी तरह से नष्ट हो जाता है। इसके अलावा अन्य कारण जैसे अधिक मात्रा में शराब पीना, लीवर खराब होना, पार्किंसंस, थायरॉयड, मानसिक विकार, कैल्शियम, पोटेशियम भी इस समस्या का कारण हो सकते हैं। कभी-कभी यह समस्या वंशानुगत भी होती है।

 

 

ट्रेमर के लक्षण।

 

  • हाथ, पैर, सिर का लगातार कांपना।
  • बोलते समय जीभ की खांसी।
  • लिखते समय हाथों की नोक।
  • किसी भी चीज को सही ढंग से न रखना।

 

 

ट्रेमर जाँच

 

शारीरिक परीक्षण के दौरान, डॉक्टर यह जांचता है कि रोगी को कुछ काम करते समय या आराम करते समय ट्रेमर की समस्या मिली है या नहीं। उसके बाद, डॉक्टर यह भी पता लगाने की कोशिश करता है कि टैमर किसी संवेदी हानि के कारण हुआ है या कमजोरी के कारण या मांसपेशियों के क्षीणन के कारण। इसके अलावा, यह समस्या वंशानुगत भी हो सकती है।

 

रक्त और मूत्र की जांच के माध्यम से, डॉक्टर यह पता लगाने की कोशिश करते हैं कि क्या यह समस्या थायराइड की खराबी के कारण है, अन्य चयापचय के कारण या कुछ रासायनिक की असामान्यताओं के कारण।

 

इसके अलावा, यह रक्त और मूत्र की जांच के माध्यम से भी जाना जाता है कि क्या रोगी को कोई बीमारी है या कोई अन्य बीमारी तो नहीं है।

 

 

ट्रेमर को ठीक करने के घरेलू उपाय।

 

 

पिएं कैमोमाइल टी

 

कभी-कभी उच्च तनाव और चिंता के कारण हाथ कांपने लगते हैं। इसके लिए कुछ हर्बल चाय जैसे कैमोमाइल चाय, लौंग की चाय, लैवेंडर की चाय पिएं। ये सभी चाय तनाव को कम करते हैं। कैमोमाइल और लैवेंडर के तेल में मौजूद एंटीइंफ्लेमेटरी गुण कांपते हाथों की समस्या को दूर करते हैं।

 

आहार में विटामिन बी(B) शामिल करें

 

अपने आहार में अधिक विटामिन बी को शामिल करें। वे हाथों और पैरों की नसों को राहत देते हैं। अंडे, बीन्स, हरी पत्तेदार सब्जियां खूब खाएं।

 

व्यायाम करना

 

प्रतिदिन अपनी दिनचर्या में योग और व्यायाम को शामिल करें। यदि हाथ-पैर कांपने की समस्या को दूर करना है, तो कुछ मिनट का ध्यान भी करें। तैरना, गहरी सांस लेना, चलना। पूरी नींद लें। इससे तनाव कम होगा और हाथ कांपने की समस्या दूर होगी।

 

कैफीन, शराब से बचें 

कैफीन, शराब का सेवन न करें। ये तंत्रिका तंत्र की सक्रियता को बढ़ाते हैं, जिसके कारण हाथ कांपने लगते हैं। रिफाइन शुगर न लें, क्योंकि इससे ब्लड शुगर और इंसुलिन का असंतुलन बढ़ जाता है। इसके कारण हाथ कांपने भी लगते हैं।


Doctor Consutation Free of Cost=

Disclaimer: GoMedii  एक डिजिटल हेल्थ केयर प्लेटफार्म है जो हेल्थ केयर की सभी आवश्यकताओं और सुविधाओं को आपस में जोड़ता है। GoMedii अपने पाठकों के लिए स्वास्थ्य समाचार, हेल्थ टिप्स और हेल्थ से जुडी सभी जानकारी ब्लोग्स के माध्यम से पहुंचाता है जिसको हेल्थ एक्सपर्ट्स एवँ डॉक्टर्स से वेरिफाइड किया जाता है । GoMedii ब्लॉग में पब्लिश होने वाली सभी सूचनाओं और तथ्यों को पूरी तरह से डॉक्टरों और स्वास्थ्य विशेषज्ञों द्वारा जांच और सत्यापन किया जाता है, इसी प्रकार जानकारी के स्रोत की पुष्टि भी होती है।