किशोरों की सुरक्षा कैसे करें और यह क्यों जरुरी है?

UPTO20

 

 

 

सभी छोटे बच्चे एक दिन किशोर अवस्था में आते हैं, जैसे ही वह किशोरों की श्रेणी में आते हैं, तब उनके माता पिता को अपने किशोरों की सुरक्षा कैसे करनी चाहिए इस बात का ध्यान उन्हें जरूर होना चाहिए। इसलिए यहां हम आपको और आपके माता-पिता को इस बात की जानकारी दे रहे हैं कि बड़े होने के बाद आप किशोर अवस्था में बच्चे का ध्यान कैसे रखें। दरअसल सबसे पहले उनकी चिकित्सक देखभाल जरुरी होती है। क्योंकि उन्हें स्वास्थ्य से जुड़ी कई तरह की समस्या होती है।

 

 

 

किशोरों की सुरक्षा क्यों महत्वपूर्ण है?

 

 

जब आप युवावस्था में होते हैं, तब आपकी प्रतिरक्षा प्रणाली (Immune System) को आसानी से कमजोर किया जा सकता है। यदि बढ़ती उम्र में कमजोर प्रतिरक्षा प्रणाली (Weak immune system) है तो वयस्कता में आपको बहुत ही आसानी से आपका स्वास्थ्य खराब हो सकता है। इसलिए, यह ध्यान रखना बहुत जरुरी है कि परिवार में लोगों की पहली प्राथमिकता किशोरों की सुरक्षा होना चाहिए। किशोरावस्था में प्रवेश करने वाले बहुत से बच्चों को कई तरह की स्वास्थ्य समस्याएं आती हैं।

 

आपको यह जानकर हैरानी होगी की डब्ल्यूएचओ द्वारा पेश की गई एक रिपोर्ट के अनुसार, “हर दिन 3000 से अधिक किशोरों की मौत हो जाती है, जिसमें एक साल में 1.2 मिलियन मौतें होती हैं।

 

2015 में, अफ्रीका और दक्षिण-पूर्व एशिया में निम्न-मध्यम और मध्यम आय वाले देशों में इनमें से दो-तिहाई से अधिक मौतें हुईं। सड़क में दुर्घटना का शिकार होना, श्वसन (साँस) संक्रमण और आत्महत्या किशोरों के बीच मौत का सबसे बड़ा कारण है।

 

एक रिपोर्ट में यह भी कहा गया है कि ऐसा इसलिए है क्योंकि “इनमें से अधिकांश मौतें स्वास्थ्य सेवाओं, शिक्षा और सामाजिक समर्थन न मिलने की वजह से हुई हैं। लेकिन कई मामलों में, किशोर जो मानसिक स्वास्थ्य से कमजोर होते हैं उनके स्वास्थ्य की देखभाल करना उनके माता-पिता का फर्ज होता है।

 

 

 

किशोरों की सुरक्षा कैसे की जाना चाहिए

 

 

उपर्युक्त प्रश्न का अधिक विस्तार से उत्तर देना हमारे पास कुछ कारणों से निम्नानुसार है। इससे आपको यह समझने में मदद मिलेगी कि यह क्यों महत्वपूर्ण है कि किशोरों की सुरक्षा वास्तव में जरूरी है।

 

 

  • चोट लगना

 

बढ़ती उम्र के साथ बच्चों को चोट लगने का भी खतरा रहता है। इसके लिए आपको उस चोट का इलाज भी सही समय पर करना होगा। अगर समय रहते उसका इलाज नहीं किया गया तो यह उनके लिए भविष्य में समस्याओं का कारण हो सकता है। यह किशोरों की सुरक्षा को महत्वपूर्ण बनाता है। डब्ल्यूएचओ की रिपोर्ट में कहा गया है, ” अचानक लगने वाली चोटें किशोरों में मृत्यु और विकलांगता का प्रमुख कारण हैं। 2016 में, 135 से अधिक किशोरों की सड़क दुर्घटनाओं में मृत्यु हो गई।

 

 

 

  • यौन स्वास्थ्य समस्या

 

यही वह समय होता है जब ये युवावस्था का सामना करते है। वे उस दौरान शारीरिक और मानसिक जीवन में बहुत बदलाव का सामना करते हैं। यदि आप इस समय उनकी देखभाल नहीं करते हैं, तो उन्हें भविष्य में गंभीर कठिनाइयों का सामना करना पड़ सकता है।

NCBI की रिपोर्ट के अनुसार, “1995 से 2007 के बीच, दोनों लड़कियों (51.7 से 46.8 प्रतिशत) और लड़कों (55.3 प्रतिशत से 46.0 प्रतिशत) में लगातार गिरावट दर्ज की गई थी कि उन्होंने संभोग (अबेट एट) किया था। ये दरें किशोर गर्भावस्था की दरों में गिरावट या गर्भावस्था का कारण बनती हैं।

 

 

 

  • किशोरों की सुरक्षा के लिए मानसिक स्वास्थ्य

 

किशोरों में बीमारी और विकलांगता के प्रमुख कारणों में से एक अवसाद भी मुख्य कारण है और आत्महत्या किशोरों में मृत्यु का दूसरा प्रमुख कारण है। हिंसा, गरीबी, अपमान की भावना मानसिक स्वास्थ्य समस्याओं के विकास के जोखिम को बढ़ावा देती है।

 

बच्चों और किशोरों में जीवन कौशल का निर्माण और उन्हें स्कूलों और अन्य सामुदायिक कार्यो में सहायता प्रदान करने से अच्छे मानसिक स्वास्थ्य को बढ़ावा देने में मदद मिल सकती है।

 

किशोरों और उनके परिवारों के बीच संबंधों को मजबूत करने में मदद करनी चाहिए। यदि समस्याएं उत्पन्न होती हैं, तो उन्हें ये पता लगाना चाहिए। इसके लिए अगर आप एक मनोचिकित्सक से मिलना चाहते हैं, तो आप हमारे डॉक्टर से सलाह लें सकते हैं।

 

 

 

  • प्रारंभिक प्रसव और किशोरों की सुरक्षा

 

भारतीय लोगों की मानसिकता के अनुसार यह विषय काफी गंभीर समस्या है। क्योंकि वह इस विषय पर अपने किशोरों से बात ही नहीं करना चाहते हैं, उनकी नजर में यह इतना अच्छा विषय नहीं है। आज भी ऐसे कई माता पिता है जो इन विषयों से दूर भागते हैं। हालाँकि, हम जानते हैं कि यह भारत में रहते हैं। अभी भारत में लोगों की सोच इतनी खुली नहीं है जितना कि बाहर के देशों के लोगों की है। इसमें भारतीय समाज की गलती नहीं है बस आप इतना समझ लीजिये की अभी वो समय आने में थोड़ा और समय लगेगा। जो किशोरों की सुरक्षा में मदद करेगा।


Doctor Consutation Free of Cost=

Disclaimer: GoMedii  एक डिजिटल हेल्थ केयर प्लेटफार्म है जो हेल्थ केयर की सभी आवश्यकताओं और सुविधाओं को आपस में जोड़ता है। GoMedii अपने पाठकों के लिए स्वास्थ्य समाचार, हेल्थ टिप्स और हेल्थ से जुडी सभी जानकारी ब्लोग्स के माध्यम से पहुंचाता है जिसको हेल्थ एक्सपर्ट्स एवँ डॉक्टर्स से वेरिफाइड किया जाता है । GoMedii ब्लॉग में पब्लिश होने वाली सभी सूचनाओं और तथ्यों को पूरी तरह से डॉक्टरों और स्वास्थ्य विशेषज्ञों द्वारा जांच और सत्यापन किया जाता है, इसी प्रकार जानकारी के स्रोत की पुष्टि भी होती है।