लॉकडाउन में हो रही मूड स्विंग की समस्या जाने दूर करने के उपाय

Safe20

कोरोना महामारी के कारण दुनिया के कई देशों में लॉकडाउन जारी है। लोग सामाजिक भेद को अपनाते हुए घरों में बंद हैं। ऐसे में लोगों की जीवनशैली में कई बदलाव आते हैं। हर समय घर में रहने के कारण लोग ज्यादा असुरक्षित महसूस कर रहे हैं। तनाव की भावना के कारण, यह मानसिक स्वास्थ्य पर गहरा प्रभाव डाल रहा है। हर उम्र के लोग मूड स्विंग की समस्या का भी सामना कर रहे हैं। इससे छुटकारा पाने के लिए लोग कई तरह के उपाय कर रहे हैं।

 

क्या होता है मूड स्विंग

 

यह एक जैविक विकार है, जिसके कारण मस्तिष्क में एक प्रकार का रासायनिक असंतुलन हो सकता है। कभी-कभी कोई व्यक्ति बहुत खुश हो जाता है और कभी-कभी मूड खराब होने पर बहुत दुखी होता है। हालांकि, लगातार मूड में बदलाव रक्त में तनाव बढ़ने के कारण भी हो सकता है, जिसे थायराइड या थायरॉयड असंतुलन कहा जाता है। यह किसी भी उम्र में महिलाओं और पुरुषों दोनों को हो सकता है। इससे छुटकारा पाने के लिए कुछ खास टिप्स आप अपना सकते हैं। आइए हम आपको बताते हैं वो कौन से टिप्स हैं।

 

मूड स्विंग होने के कारण

 

मूड स्विंग का कोई निश्चित कारण नहीं है। हार्मोनल असंतुलन के अलावा, मानसिक विकार जैसी समस्याएं भी जिम्मेदार हो सकती हैं।

 

अस्पष्ट और अस्थिर मूड

 

इस स्थिति में आपका मूड पल-पल बदलता रहता है। दरअसल, जब कोर्टिसोल नामक तनाव हार्मोन रक्त में अधिक होता है, तो आपका मूड बुरी तरह प्रभावित होता है। खराब जीवनशैली और अवसाद भी इसके कारण हैं।

 

उदासीनता भरा मूड

 

यह थायरॉयड में असंतुलन के कारण हो सकता है। नींद की गड़बड़ी, अधिक या अत्यधिक वजन बढ़ना, खराब पाचन और खराब मूड जैसे लक्षण देखे जा सकते हैं। यदि आपके परिवार में ऑटोइम्यून बीमारी का इतिहास है, तो डॉक्टर को देखना आवश्यक है। दूसरी ओर, यदि फायदेमंद बैक्टीरिया आपके जठरांत्र संबंधी मार्ग में मौजूद नहीं हैं, तो इसका असर आपके मूड पर दिखाई देता है।

 

चिड़चिड़ा मूड

 

चिड़चिड़ापन के दो कारण हो सकते हैं। पहला यह कि आप भूखे हैं और दूसरा आपका व्यवहार है।

 

अनियंत्रित मनोदशा

 

बार-बार मनोदशा का अस्पष्ट परिवर्तन जिस पर आप बिल्कुल भी नियंत्रण नहीं कर सकते हैं, तो यह द्विध्रुवी विकार का एक लक्षण है। इसमें आप कई भावनाओं को महसूस कर सकते हैं जैसे कुछ मिनटों में आवेग, छोटे स्वभाव, निराशा, बहुत अधिक अवसाद या अपार खुशी।

 

मूड स्विंग से बचने के उपाय

 

खूब पानी पिए

 

शरीर से विषाक्त पदार्थों को निकालने के लिए, रोजाना 8 से 10 गिलास पानी पीना चाहिए। इससे शरीर नम रहता है। साथ ही, शरीर और मस्तिष्क में रक्त संचार सुचारू रूप से होता है। इस तरह, पर्याप्त पानी पीने से मूड स्विंग की समस्याओं को कम करने में मदद मिलती है। पानी के अलावा इसे शिकंजी बनाकर भी पिया जा सकता है। यह मन को शांत करता है और ऊर्जा के स्तर को बनाए रखता है।

 

एक्सरसाइज करें

 

मूड स्विंग्स को सही करने के लिए एक्सरसाइज करना फायदेमंद होता है। इसके लिए आपको हर दिन पिलेट करना होगा। यह फेफड़ों और रक्त के प्रवाह को सही करने में मदद करता है। शरीर का ऊर्जा स्तर बढ़ता है। तनाव और मूड स्विंग को खत्म करने के लिए पुश अप, एरोबिक्स और जंपिंग स्क्वैट्स जैसे व्यायाम भी प्रभावी हैं। यह वजन को नियंत्रण में रखने में भी मदद करता है।

 

म्यूजिक थैरेपी का लें आनंद

 

जब मन उदास होता है, तो अच्छा संगीत मूड को उभारने का काम करता है। आप अपने पसंदीदा संगीत को सुनकर मूड को बेहतर बना सकते हैं। साथ ही अगर आप डांस करने के शौकीन हैं, तो यही सही समय है जब आप डांस कर सकते हैं और तनाव मुक्त रह सकते हैं। घर में रहते हुए, परिवार के अन्य सदस्यों को भी नृत्य में शामिल करें। ऐसी स्थिति में आप अधिक आनंद ले पाएंगे।

 

व्यायाम करें

 

रोजाना पिलेट करें। यह फेफड़ों और रक्त के प्रवाह को सही करने में मदद करता है। शरीर का ऊर्जा स्तर बढ़ता है। तनाव और मूड स्विंग को खत्म करने के लिए पुश अप, एरोबिक्स और जंपिंग स्क्वैट्स जैसे व्यायाम भी प्रभावी हैं। यह आपके वजन को नियंत्रित करने में भी आपकी बहुत मदद करेगा।

 

स्वस्थ आहार लें

 

भोजन में अधिक मैग्नीशियम युक्त भोजन खाएं, जैसे केला। साथ ही विटामिन सी की मात्रा बढ़ाएं जैसे संतरा, आंवला और नींबू। यह शरीर को ऊर्जावान बनाए रखने में मदद करता है। डार्क चॉकलेट, बीन्स, हर्बल चाय और हरी सब्जियां भी आपको मिजाज को राहत देने में मदद कर सकती हैं। आहार में चीनी और वसा सीमित मात्रा में लें।


Doctor Consutation Free of Cost=

Disclaimer: GoMedii  एक डिजिटल हेल्थ केयर प्लेटफार्म है जो हेल्थ केयर की सभी आवश्यकताओं और सुविधाओं को आपस में जोड़ता है। GoMedii अपने पाठकों के लिए स्वास्थ्य समाचार, हेल्थ टिप्स और हेल्थ से जुडी सभी जानकारी ब्लोग्स के माध्यम से पहुंचाता है जिसको हेल्थ एक्सपर्ट्स एवँ डॉक्टर्स से वेरिफाइड किया जाता है । GoMedii ब्लॉग में पब्लिश होने वाली सभी सूचनाओं और तथ्यों को पूरी तरह से डॉक्टरों और स्वास्थ्य विशेषज्ञों द्वारा जांच और सत्यापन किया जाता है, इसी प्रकार जानकारी के स्रोत की पुष्टि भी होती है।