नाइट शिफ्ट में काम करने वाले मधुमेह के रोगियों के लिए डाइट प्लान

GoMedii Offer

 

आज के समय में ऐसे बहुत कम लोग होते हैं जो वास्तव में नाइट शिफ्ट में जॉब करना पसंद करते हैं। लेकिन कुछ युवा इसके लिए मजबूर है, इसका सीधा असर उनके स्वास्थ्य पर पड़ता है। नाईट शिफ्ट उनके लिए सबसे बड़ी परेशानी  तब बनती है जब उन्हें मधुमेह होता है। इसके लिए सबसे जरुरी  है की आपका आहार अच्छा होना चाहिए और आपको एक अच्छी नींद लेनी चाहिए। आप अपना आहार में सुधार करके खुद को स्वस्थ रख सकते है। नाइट शिफ्ट में काम करने वाले मधुमेह रोगी के लिए आहार।

नाइट शिफ्ट में काम करने वाले मधुमेह रोगी का आहार

 

 

वेज दलिया (Veg Daliya)

नाइट शिफ्ट श्रमिकों के लिए मधुमेह भोजन योजना में  सबसे पहले आता है वेज दलिया। यह फाइबर का अच्छा स्त्रोत है, ये आपके शरीर में शर्करा के स्तर को सही मात्रा में बनाए रखता है। इसे आप अपने दैनिक भोजन में शामिल करें ये आपके मधुमेह में बहुत फायदेमंद साबित होगा। समय (7-8 Pm)।

 

 

खीरे का रायता (Cucumber Raita)

हर भारतीय को रायता काफी पसंद होता है, मधुमेह के रोगियों के लिए इसका सेवन बहुत अच्छा है। ये एंटी-ऑक्सीडेंट और डिटॉक्स क्षमताओं से भरपूर होता है, खीरा आपके पेट को स्वस्थ बनाए रखने में मदद करता है। खीरे का रायता खाने से आप “टाइप -2 मधुमेह से बच सकते है, क्योंकि ये आपके रक्त शर्करा के स्तर को कम रखता हैं। पौष्टिक सब्जी मधुमेह रोगियों के लिए बहुत फायदेमंद होती है। क्योंकि इसमें उच्च फाइबर की मात्रा होती है।

 

 

सलाद (Salad)

red meat or chicken ho sakta hai cholestrol ke liye khatrnaak, reasearch ne kiya dawa in hindi

 

सलाद खाए बिना आप मधुमेह का प्रबंधन नहीं कर सकते है। सलाद खाने के बाद आपका पूरा शरीर स्वस्थ महसूस करता है और आप खुद में एक ताजगी भी महसूस करते है। सलाद अपने आप में एक पूरा आहार है। सलाद में आप गाजर, टमाटर, ककड़ी या फलों के सलाद भी खा सकते हैं।

 

 

ग्रीन टी और ब्लैक कॉफ़ी (Green Tea and Black Coffee)

black coffee peene ke 11 faayde aapko hairat me daal denge

 

दरअसल ये दोनों ही ड्रिंक एक अच्छी प्रतिरक्षा प्रणाली में मदद करते है। यदि आपका चयपाचय ठीक नहीं है तो ये उसे ठीक करने में आपकी मदद करेंगे। आपको बता दें की ये रात में काम करने वालों के लिए एक अच्छी और स्वस्थ चीज है। ब्लैक कॉफी पीने से न केवल आपका ब्लड शुगर नीचे रहेगा बल्कि आप अपने काम में एकाग्र भी रहेंगे। इसलिए यह मधुमेह रोगी नाइट शिफ्ट वर्कर्स के लिए बहुत फायदेमन्द रहेगा, आप इसे कुछ हेल्दी स्नैक्स के साथ ले सकते हैं: (10-11 Pm) – ग्रीन टी / ब्लैक कॉफ़ी विथ रोस्टेड चन्ना / बिस्किट (1-2)।

 

 

नारियल पानी (Coconut Water)

benefits of coconut water in hindi, Order Medicine Online , Online Pharmacy India, Medicine Store, Online Medical Store, Purchase Medicine Online, Medicine Online, Online Pharmacy Noida, Online Chemist Crossing Republic, Online Medicines, Buy Medicine Online India, Online Pharmacy Gaur City

आपको बता दें की बहुत सारे अध्ययनों में ये साबित किया है कि नारियल पानी रक्त शर्करा के स्तर को कम कर सकता है। यही नहीं, नारियल पानी मैग्नीशियम का अच्छा स्रोत है। यह टाइप 2 डायबिटीज और प्रीडायबिटीज वाले रोगी में इंसुलिन में सुधार करता है और रक्त शर्करा के स्तर को कम रखता है। इसका सेवन आप (1-2 Am) के बीच में 1 फल (सेब / नारंगी) या नारियल पानी।

 

 

मीट (Meat)

 

हम आपको बताना चाहते है कि प्रोटीन आपके शरीर के लिए बहुत जरुरी है क्योंकि यह वजन कम करने में आपकी बहुत मदद करता है। लेकिन ध्यान रहे की आप ज्यादा तले हुए चिकन या मछली का सेवन ना करें। आप भुना हुआ चिकन का सेवन करें और कम तेल में तली हुई मछली भी खा सकते है, ये मधुमेह के रोगियों के लिए बहुत अच्छे रहेगा। समय (3-4 Am) मात्रा – (1-2) रोटी, सब्जी + मछली / भुना हुआ चिकन (80 ग्राम) पनीर / दाल (30 ग्राम)।

 

ये नाईट शिफ्ट में काम करने वाले वो लोग जिन्हे मधुमेह है, ये उनके लिए एक अच्छा डाइट प्लान है यदि वह इसका पालन करेंगे तो इससे आपका मधुमेह भी नियंत्रण में रहेगा। आपको बता दें की नाईट शिफ्ट में काम करने वाले लोगों को भरपूर नींद जरूर लेना चाहिए। क्योंकि इससे भी उनका स्वास्थ्य ख़राब हो सकता है जो उनके मधुमेह को भी अनियंत्रित कर सकता है। ऐसा होने पर आप हमारे डॉक्टर से भी संपर्क कर सकते है।


Doctor Consutation Free of Cost=

Disclaimer: GoMedii  एक डिजिटल हेल्थ केयर प्लेटफार्म है जो हेल्थ केयर की सभी आवश्यकताओं और सुविधाओं को आपस में जोड़ता है। GoMedii अपने पाठकों के लिए स्वास्थ्य समाचार, हेल्थ टिप्स और हेल्थ से जुडी सभी जानकारी ब्लोग्स के माध्यम से पहुंचाता है जिसको हेल्थ एक्सपर्ट्स एवँ डॉक्टर्स से वेरिफाइड किया जाता है । GoMedii ब्लॉग में पब्लिश होने वाली सभी सूचनाओं और तथ्यों को पूरी तरह से डॉक्टरों और स्वास्थ्य विशेषज्ञों द्वारा जांच और सत्यापन किया जाता है, इसी प्रकार जानकारी के स्रोत की पुष्टि भी होती है।