पैराप्लेजिया (Paraplegia) क्या है, जानिए इसका इलाज कब किया जाता है?

स्पाइनल कॉर्ड इंजरी की चोट नसों का एक समूह है जो मस्तिष्क से संदेश को शरीर के अन्य हिस्सों, विशेषकर हाथों और पैरों तक ले जाती है। यदि रीढ़ की हड्डी में किसी प्रकार की चोट लग जाए तो यह पूरे शरीर के लिए घातक हो सकती है। चोटों को तीन प्रकारों में विभाजित किया जा सकता है।

यदि किसी दुर्घटना के बाद आपको चोट लग जाती है, तो इसकी गंभीरता इस बात पर निर्भर करती है कि आपकी रीढ़ की हड्डी का कौन सा हिस्सा क्षतिग्रस्त है। गंभीर मामलों में शरीर का निचला हिस्सा बेकार हो जाता है। इस स्थिति को पैरापलेजिया कहते हैं। दरअसल, इसके बाद आपके शरीर में लकवा जैसे लक्षण दिखने लगते है यह शरीर की गतिविधियों को प्रभावित करता है।

 

 

पैराप्लेजिया क्या है? (What Is Paraplegia in Hindi)

 

पैराप्लेजिया (Paraplegia) एक रीढ़ की हड्डी की चोट है, जिसके कारण शरीर का निचला हिस्सा लकवाग्रस्त हो जाता है। यह रीढ़ की हड्डी और तंत्रिका तंत्र को गंभीर क्षति के परिणामस्वरूप होता है। पैराप्लेजिया (Paraplegia) मुख्य रूप से पीठ के निचले हिस्से, पैरों और श्रोणि क्षेत्र को प्रभावित करता है, जिसके परिणामस्वरूप मरीज चलने में असमर्थ हो जाता है। यह दो मुख्य रूप से परेशान करती है। पहली स्थिति में  चोट रोगी को न्यूरोलॉजिकल रूप से प्रभावित करती है और पैरों की चलने की गति प्रभावित होती है, जबकि दूसरी स्थिति के मामलों में, पैरों की गति पूरी तरह से प्रभावित नहीं होती है।

 

 

रीढ़ की हड्डी में चोट के लक्षण? (Symptoms of spinal cord injury in Hindi)

 

 

 

  • गंभीर मामलों में मूत्र संबंधी समस्याएं होना

 

  • चलने में कठिनाई होना

 

  • पैरों में जलन महसूस होना

 

 

रीढ़ की हड्डी में चोट के कारण क्या हैं? (What are the causes of spinal cord injury in Hindi)

 

रीढ़ की हड्डी में चोट लगना एक सामान्य बात है। यह अप्रत्यक्ष रूप से रीढ़ की हड्डी में  सीधी चोट या आसपास की हड्डियों, ऊतकों या रक्त वाहिकाओं को नुकसान होता है तब यह समस्या पैदा होती है। रीढ़ की हड्डी में चोट कई तरह से लग सकता है, जैसे मोटर वाहन दुर्घटनाएं, गिरना, खेल में चोट लगना, औद्योगिक दुर्घटनाएं। इसके अन्य कारण भी हो सकते हैं, साथ ही मामूली चोट से भी रीढ़ की हड्डी में चोट लग सकती है।

 

 

रीढ़ की हड्डी में चोट का इलाज क्या है? (What is the treatment for spinal cord injury in Hindi)

 

रीढ़ की हड्डी में चोट का इलाज एक चिकित्सा करता है जिसके लिए इसमें तत्काल उपचार की आवश्यकता होती है। चोट और उपचार के बीच का समय अंतिम परिणाम को प्रभावित करने वाला एक महत्वपूर्ण कारक है।

कॉर्टिकोस्टेरॉइड्स, जैसे डेक्सामेथासोन या मेथिलप्रेडनिसोलोन, का उपयोग सूजन को कम करने के लिए किया जाता है जो रीढ़ की हड्डी को और नुकसान पहुंचा सकता है। यदि रीढ़ की हड्डी का संपीड़न एक द्रव्यमान (जैसे हेमेटोमा या हड्डी का टुकड़ा) के कारण होता है, तो इसे हटाया जा सकता है और पक्षाघात में सुधार हो सकता है। आदर्श रूप से, चोट के बाद कॉर्टिकोस्टेरॉइड्स को जल्द से जल्द शुरू किया जाना चाहिए।

 

सर्जरी की आवश्यकता हो सकती है:

 

  • रीढ़ की हड्डी पर दबाव डालने वाले थक्के या ऊतक को हटा दिया जाता है (डीकंप्रेसिव लैमिनेक्टॉमी)

 

  • रीढ़ की हड्डियों को ठीक करने के बाद डॉक्टर मूत्राशय, आंत और पीठ की देखभाल करने को जरूर कहते हैं।

 

  • गंभीर चोट के ठीक होने के बाद अन्य उपचारों की अक्सर आवश्यकता होती है। उपचार व्यक्ति को रीढ़ की हड्डी की चोट के परिणामस्वरूप होने वाली विकलांगता से निपटने में मदद करता है।

 

रीढ़ की हड्डी के विकारों के इलाज से रोकथाम बेहतर है। अगर हम अपनी कार्यप्रणाली, जीवनशैली पर ध्यान दें, जिससे हमारी रीढ़ की हड्डी गलत स्थिति में या लंबे समय तक अनावश्यक तनाव में न रहे, तो हम रीढ़ की हड्डी से जुड़ी समस्याओं से बच सकते हैं। उदाहरण के लिए, यदि गलत मुद्रा में काम करने से रीढ़ या पीठ में दर्द होता है, यदि हम दर्द निवारक गोली लेकर दर्द को दबाते हैं, तो ऐसा करना लम्बे समय तक अच्छा नहीं है।  ऐसा करने से दर्द फिर से हो सकता है। इसलिए इसका इलाज जरूरी है।


Doctor Consutation Free of Cost=

Disclaimer: GoMedii  एक डिजिटल हेल्थ केयर प्लेटफार्म है जो हेल्थ केयर की सभी आवश्यकताओं और सुविधाओं को आपस में जोड़ता है। GoMedii अपने पाठकों के लिए स्वास्थ्य समाचार, हेल्थ टिप्स और हेल्थ से जुडी सभी जानकारी ब्लोग्स के माध्यम से पहुंचाता है जिसको हेल्थ एक्सपर्ट्स एवँ डॉक्टर्स से वेरिफाइड किया जाता है । GoMedii ब्लॉग में पब्लिश होने वाली सभी सूचनाओं और तथ्यों को पूरी तरह से डॉक्टरों और स्वास्थ्य विशेषज्ञों द्वारा जांच और सत्यापन किया जाता है, इसी प्रकार जानकारी के स्रोत की पुष्टि भी होती है।