हीमोफीलिया बच्चों को कैसे करता है प्रभावित और जाने इसका इलाज क्या है?

GoMedii

हीमोफिलिया एक वंशानुगत रक्तस्राव की बीमारी है। कुछ प्रोटीनों की कमी या निम्न स्तर जिसे “क्लॉटिंग कारक” कहा जाता है। आपको बता दें ये विकार की विशेषता है। हीमोफीलिया कई प्रकार के होते हैं, हालांकि इन सभी में क्लॉटिंग फैक्टर VIII या फैक्टर IX का स्तर कम होता है। रक्त में कितना कारक मौजूद है, इस पर डॉक्टर स्थिति की समग्र गंभीरता को आधार बनाते हैं।

यदि आपको हीमोफिलिया है, तो परिणामस्वरूप आपका रक्त ठीक से नहीं जमता है। इससे मामूली कटने या चोट लगने पर भी अत्यधिक रक्तस्राव हो सकता है। यदि आपको रक्त से सम्बंधित कोई समस्या है और आप डॉक्टर से कंसल्ट करना चाहते हैं तो  यहाँ क्लिक करें

 

 

हीमोफीलिया बच्चों को कैसे प्रभावित करता है? (How does hemophilia affect children in Hindi)

 

 

हीमोफिलिया से पीड़ित बच्चे खून बहना बंद नहीं कर सकते क्योंकि उनके रक्त में पर्याप्त क्लॉटिंग फैक्टर नहीं होता है। रक्त के थक्के जमने के लिए क्लॉटिंग कारकों की आवश्यकता होती है। अत्यधिक रक्तस्राव को रोकने के लिए रक्त के थक्के। रक्तस्राव को रोकने के लिए थक्के बनने में कई रक्त के थक्के कारक शामिल होते हैं। आपके बच्चे का हीमोफिलिया कितना गंभीर है यह उसके रक्त में रक्त के थक्के जमने वाले कारकों के स्तर पर निर्भर करता है।

 

 

बच्चों में हीमोफीलिया के लक्षण? (Symptoms of Hemophilia in Children in Hindi)

 

किसी भी सर्जरी या चोट के कारण अत्यधिक रक्तस्राव या लंबे समय तक रक्तस्राव की समस्या बच्चों में हीमोफिलिया का सबसे प्रमुख लक्षण होती है, इसके साथ ही इसके अन्य लक्षण कुछ इस प्रकार हैं। जिसमे शामिल हैं:

 

हीमोफीलिया ए और हीमोफीलिया बी के सामान्य लक्षण

 

  • आंतरिक रक्तस्राव होना

 

  • मांसपेशियों और जोड़ों से खून बहना

 

  • बार-बार नाक से खून आना

 

  • लगातार खून बह रहा मसूड़ों

 

  • सर्जरी के बाद लंबे समय तक खून बह रहा

 

मांसपेशियों या जोड़ों में रक्तस्राव होने पर निम्न लक्षण महसूस हो सकते हैं। जिसमे शामिल हैं:

 

  • जोड़ों का दर्द

 

  • जोड़ों सूजन

 

  • जोड़ों में अकड़न

 

  • बच्चे को चलने में परेशानी होना

 

  • बच्चों का मूवमेंट ना करना

 

  • यदि पाचन तंत्र में रक्तस्राव हुआ है, तो बच्चे के मल का रंग गहरा होता है

 

  • बच्चे को उल्टी होने पर खून बहना

 

  • मस्तिष्क में रक्तस्राव, दौरे पड़ना या सिरदर्द की समस्या के कारण बच्चे का ना सोना

 

बच्चों में हीमोफीलिया के लक्षण इन उपरोक्त लक्षणों के अलावा और भी हो सकते हैं। इसलिए बच्चों की हर शारीरिक गतिविधि पर ध्यान दें। वैसे यह समझना भी जरूरी है कि शिशुओं में हीमोफीलिया की समस्या क्यों होती है तभी आप अपने बच्चों को हीमोफीलिया की समस्या से बचा पाएंगे।

 

 

बच्चों में हीमोफीलिया के कारण (Cause of hemophilia in children in Hindi)

 

 

वहीं अगर मां को हीमोफीलिया की समस्या है तो लड़के और लड़कियों दोनों को हीमोफीलिया होने की संभावना अधिक होती है। हालांकि, यहां एक बात समझना बेहद जरूरी है कि हीमोफीलिया महिलाओं में तभी संभव है, जब पिता को हीमोफीलिया हो और मां हीमोफीलिया जीन की वाहक हो, जो काफी असामान्य है। हालांकि, अगर आप सोच रहे हैं कि क्या यह एक अनुवांशिक बीमारी है, तो इसका इलाज कैसे संभव है, तो बच्चों में निदान की जाने वाली पहली चीज हीमोफिलिया है।

 

 

हीमोफीलिया का निदान कैसे किया जाता है? (How is Hemophilia Diagnosed in Hindi)

 

हीमोफिलिया का निदान करने के लिए, डॉक्टर रक्त परीक्षण का आदेश देते हैं, जिनमें शामिल हैं:

 

  • सीबीसी (complete blood count)

 

  • प्रोथ्रोम्बिन टाइम (पीटी)

 

  • सक्रिय आंशिक थ्रोम्बोप्लास्टिन समय (पीटीटी)

 

  • कारक आठवीं गतिविधि टेस्ट

 

  • कारक IX गतिविधि टेस्ट

 

 

हीमोफीलिया किसे होता है? (Who gets hemophilia in Hindi)

 

हीमोफीलिया तब होता है जब कोई जीन में परिवर्तन (म्यूटेशन) होता है, जो आमतौर पर विरासत में मिलता है (माता-पिता से बच्चे तक)। हीमोफीलिया ज्यादातर लड़कों को प्रभावित करता है। लेकिन लड़कियां और महिलाएं हल्के हीमोफिलिया ए के साथ हीमोफिलिया वाहक हो सकती हैं। उनके पास हल्के रक्तस्राव के लक्षण हो सकते हैं और अपने बच्चों को जीन पारित कर सकते हैं।

 

 

हीमोफिलिया का पता कैसे चलेगा?

 

 

इस बीमारी के लक्षण गंभीरता के साथ बदलते रहते हैं। आमतौर पर, लक्षण बाहरी या आंतरिक रक्तस्राव  देखे जा सकते हैं। हल्के रोग वाले लोग मामूली लक्षणों से पीड़ित होते हैं। हालांकि, गंभीर हीमोफिलिया वाले रोगी में गंभीर आंतरिक रक्तस्राव होने की संभावना हो सकती है। जैसे कि गहरा आंतरिक रक्तस्राव, मांसपेशियों, जोड़ों में रक्तस्राव, तेज दर्द, जोड़ों में सूजन या बार-बार रक्तस्राव होना। इलाज के दौरान रक्त प्राप्त करने वालों की तुलना में इन रोगियों में रक्त की समस्या विकसित होने का अधिक खतरा होता है।

 

 

बच्चो में हीमोफीलिया का इलाज? (Treatment of hemophilia in children in Hindi)

 

  • एक समय में हीमोफिलिया का इलाज करना मुश्किल था।

 

  • रक्त को पतला करने वाली दवा दे सकते हैं।

 

  • पर्याप्त शारीरिक गतिविधि शरीर के वजन को बनाए रखने और मांसपेशियों और हड्डियों की ताकत में सुधार करने में मदद कर सकती है। हालांकि, किसी भी शारीरिक गतिविधि से बचें जो चोट लगने और परिणामी रक्तस्राव का कारण बन सकती है।

 

  • यदि माता या पिता को यह रोग है तो बच्चे को भी यह रोग हो सकता है। इसलिए इसकी पहले से जांच की जाती है। अगर समय रहते इसका पता चल जाए तो इंजेक्शन देकर इसका इलाज किया जा सकता है।

 

  • अपने दांतों और मसूड़ों को अच्छी तरह साफ करें। मसूड़ों से खून बहने से रोकने के तरीके के बारे में अपने दंत चिकित्सक से सलाह लें।

 

 

यदि आप हीमोफीलिया का इलाज कराना चाहते हैं या इससे सम्बंधित किसी भी तरह की जानकारी हासिल करना चाहते हैं तो यहाँ क्लिक करें या आप हमसे व्हाट्सएप (+91 9654030724) पर संपर्क कर सकते हैं। इसके अलावा आप हमारी सेवाओं के संबंध में हमें Connect@gomedii.com पर ईमेल भी कर सकते हैं। हमारी टीम जल्द से जल्द आपसे संपर्क करेगी। हम आपका सबसे अच्छे हॉस्पिटल में इलाज कराएंगे।

 
Doctor Consutation Free of Cost=

Disclaimer: GoMedii  एक डिजिटल हेल्थ केयर प्लेटफार्म है जो हेल्थ केयर की सभी आवश्यकताओं और सुविधाओं को आपस में जोड़ता है। GoMedii अपने पाठकों के लिए स्वास्थ्य समाचार, हेल्थ टिप्स और हेल्थ से जुडी सभी जानकारी ब्लोग्स के माध्यम से पहुंचाता है जिसको हेल्थ एक्सपर्ट्स एवँ डॉक्टर्स से वेरिफाइड किया जाता है । GoMedii ब्लॉग में पब्लिश होने वाली सभी सूचनाओं और तथ्यों को पूरी तरह से डॉक्टरों और स्वास्थ्य विशेषज्ञों द्वारा जांच और सत्यापन किया जाता है, इसी प्रकार जानकारी के स्रोत की पुष्टि भी होती है।