क्या है डेक्सट्रोकार्डिया जाने इस बीमारी का पता कैसे चलता है?

GoMedii

आपने आज तक सुना होगा कि दिल बाईं तरफ होता है। लेकिन, आपको बता दें कि कुछ लोगों में दिल दायीं तरफ भी हो सकता है। मेडिकल भाषा में इस स्थिति को राइट-हार्ट या डेक्स्ट्रोकार्डिया कहते हैं। यह एक जन्मजात स्थिति है जिसका अर्थ है कि बच्चा इस असामान्यता के साथ पैदा हुआ है। हालांकि यह स्थिति आमतौर पर किसी के भी जीवन के लिए खतरा नहीं होती है, यह अक्सर अधिक गंभीर जटिलताओं के साथ होती है, जैसे कि हृदय संबंधी समस्या होना। जानिए क्या है डेक्सट्रोकार्डिया, क्या हैं इसके कारण?

 

 

क्या है डेक्सट्रोकार्डिया? (What is dextrocardia in Hindi)

 

 

इस लेख में हम डेक्सट्रोकार्डिया (Dextrocardia) के बारे में बात करेंगे जो कि दिल से संबंधित एक समस्या है। आपको बता दें कि डेक्स्ट्रोकार्डिया वैज्ञानिकों द्वारा पहचाने गए सबसे शुरुआती जन्मजात हृदय दोषों में से एक था। इस बीमारी का पता पहली बार 1600 के दशक हाला था।

डेक्स्ट्रोकार्डिया एक ऐसी स्थिति है जिसमें आपका दिल आपकी छाती के दाईं ओर स्थित होता है और दाईं ओर इंगित करता है। आमतौर पर, आपका हृदय हमारी छाती के बाईं ओर होता है और बाईं ओर इंगित करता है। यह एक जन्मजात बीमारी है, जिसका अर्थ है कि यह एक ऐसी स्थिति है जो आपको या आपके बच्चे को जन्म के समय होती है।

डेक्स्ट्रोकार्डिया वाले कुछ लोगों को कोई समस्या या जटिलताएं नहीं होती हैं। वे संयोग से सीखते हैं कि उनके पास यह है। दूसरों में जन्मजात हृदय दोष या सिंड्रोम होते हैं जो लक्षण और जटिलताओं का कारण बनते हैं। डेक्स्ट्रोकार्डिया किसी व्यक्ति के शरीर को कैसे प्रभावित करता है यह इस बात पर निर्भर करता है कि यह किस प्रकार का है।

 

 

डेक्सट्रोकार्डिया का पता कैसे चलता है? (How is Dextrocardia Diagnosed in Hindi)

 

एक तरह से यह जन्मजात बीमारी है। डेक्स्ट्रोकार्डिया वाले कई लोगों में कोई लक्षण नहीं होते हैं। किसी अन्य स्वास्थ्य समस्या के लिए किए गए इमेजिंग स्कैन से ही इस स्थिति का पता लगाया जा सकता है। यदि डेक्स्ट्रोकार्डिया को अन्य स्थितियों या जटिलताओं के साथ जोड़ा जाता है, तो इन लक्षणों में शामिल हो सकते हैं:

 

  • ऑक्सीजन की कमी के कारण नीली त्वचा या होंठ

 

  • सांस लेने में दिक्क्त

 

  • वजन बढ़ने की समस्या

 

  • थकान

 

  • सेप्टम में छेद (hole in septum)

 

  • पीलिया (त्वचा का पीला पड़ना)

 

  • फेफड़ों का संक्रमण होना

 

  • साइनस का इन्फेक्शन

 

यदि आपको ऐसे कोई भी समस्या अगर आपको महसूस होती है तो आपको तुरंत डॉक्टर से कंसल्ट करना चाहिए।  डॉक्टर से कंसल्ट करने के लिए यहाँ क्लिक करें

 

 

डेक्स्ट्रोकार्डिया के कारण (Cause to dextrocardia in Hindi)

 

डेक्स्ट्रोकार्डिया का कारण का पता अभी नहीं चल पाया है। शोधकर्ताओं को पता है कि यह भ्रूण के विकास के दौरान होता है। हृदय की शारीरिक रचना में कई भिन्नताएँ हो सकती हैं। उदाहरण के लिए, आइसोलेटेड डेक्स्ट्रोकार्डिया (isolated dextrocardia) में, लेकिन बाईं ओर के बजाय दाईं ओर होता है। डेक्स्ट्रोकार्डिया के अन्य रूपों में, आपको हृदय के कक्षों या वाल्वों में समस्या हो सकती है।

हृदय गलत जगह पर होने से अन्य शारीरिक समस्याएं हो सकती हैं। आपके फेफड़े, पेट, या छाती में से जुड़ी समस्या होना। इस मामले में, आपको अन्य हृदय दोष और अन्य महत्वपूर्ण अंगों के साथ समस्याएं होने की अधिक संभावना होती है। जब एक साथ शरीर के दो अंग खराब होते हैं तो उसे हेटरोटेक्सी सिंड्रोम के रूप में जाना जाता है।

 

 

डेक्स्ट्रोकार्डिया के इलाज के लिए हॉस्पिटल (Hospital for the Treatment of Dextrocardia in Hindi)

 

 

यदि आप डेक्स्ट्रोकार्डिया का इलाज कराना चाहते हैं तो आप हमारे द्वारा बताए गए इनमें से कोई भी हॉस्पिटल में अपना इलाज करवा सकते हैं:

 

डेक्स्ट्रोकार्डिया के इलाज के लिए दिल्ली के बेस्ट अस्पताल

 

  • बीएलके-मैक्स सुपर स्पेशलिटी अस्पताल, राजिंदर नगर, दिल्ली

 

  • इंद्रप्रस्थ अपोलो अस्पताल, सरिता विहार, दिल्ली

 

  • फोर्टिस हार्ट अस्पताल, ओखला, दिल्ली

 

  • मैक्स सुपर स्पेशलिटी अस्पताल, साकेत, दिल्ली

 

डेक्स्ट्रोकार्डिया के इलाज के लिए गुरुग्राम के बेस्ट अस्पताल

 

  • नारायण सुपरस्पेशलिटी अस्पताल, गुरुग्राम

 

  • मेदांता द मेडिसिटी, गुरुग्राम

 

  • फोर्टिस हेल्थकेयर लिमिटेड, गुरुग्राम

 

  • पारस अस्पताल, गुरुग्राम

 

डेक्स्ट्रोकार्डिया के इलाज के लिए ग्रेटर नोएडा के बेस्ट अस्पताल

 

  • शारदा अस्पताल, ग्रेटर नोएडा

 

  • यथार्थ अस्पताल, ग्रेटर नोएडा

 

  • बकसन अस्पताल, ग्रेटर नोएडा

 

  • जेआर अस्पताल, ग्रेटर नोएडा

 

  • प्रकाश अस्पताल, ग्रेटर नोएडा

 

  • दिव्य अस्पताल, ग्रेटर नोएडा

 

  • शांति अस्पताल, ग्रेटर नोएडा

 

डेक्स्ट्रोकार्डिया के इलाज के लिए मेरठ के बेस्ट अस्पताल

 

  • सुभारती अस्पताल, मेरठ

 

  • आनंद अस्पताल, मेरठ

 

डेक्स्ट्रोकार्डिया के इलाज के लिए हापुड़ के बेस्ट अस्पताल

 

  • शारदा अस्पताल, हापुड़

 

  • जीएस अस्पताल, हापुड़

 

  • बकसन अस्पताल, हापुड़

 

  • जेआर अस्पताल, हापुड़

 

  • प्रकाश अस्पताल, हापुड़

 

डेक्स्ट्रोकार्डिया के इलाज के लिए कोलकाता के सबसे अच्छे अस्पताल

 

  • रवींद्रनाथ टैगोर इंटरनेशनल इंस्टीट्यूट ऑफ कार्डिएक साइंस, मुकुंदपुर, कोलकाता

 

डेक्स्ट्रोकार्डिया के इलाज के लिए बैंगलोर के सबसे अच्छे अस्पताल

 

  • फोर्टिस अस्पताल, बन्नेरगट्टा रोड, बैंगलोर

 

  • अपोलो अस्पताल, बैंगलोर

 

डेक्स्ट्रोकार्डिया के इलाज के लिए मुंबई के सबसे अच्छे अस्पताल

 

  • नानावटी सुपर स्पेशलिटी अस्पताल, विले पार्ले वेस्ट, मुंबई

 

  • लीलावती अस्पताल और अनुसंधान केंद्र, बांद्रा, मुंबई

 

डेक्स्ट्रोकार्डिया के इलाज के लिए हैदराबाद के सबसे अच्छे अस्पताल

 

  • ग्लेनीगल्स ग्लोबल हॉस्पिटल्स, लकडी का पूल, हैदराबाद

 

डेक्स्ट्रोकार्डिया के इलाज के लिए चेन्नई के सबसे अच्छे अस्पताल

 

  • अपोलो प्रोटॉन कैंसर सेंटर, चेन्नई

 

डेक्स्ट्रोकार्डिया के इलाज के लिए अहमदाबाद के सबसे अच्छे अस्पताल

 

  • केयर इंस्टीट्यूट ऑफ मेडिकल साइंसेज, सोला, अहमदाबाद

 

यदि आप इनमें से कोई अस्पताल में इलाज करवाना चाहते हैं तो हमसे व्हाट्सएप (+91 9654030724) पर संपर्क कर सकते हैं।

 

 

कौन से सिंड्रोम डेक्स्ट्रोकार्डिया से जुड़े हैं? (Which syndromes are associated with dextrocardia in Hindi)

 

 

डेक्सट्रोकार्डिया वाले कई लोगों में एक अतिरिक्त जन्मजात सिंड्रोम होता है, जिसमें शामिल हैं:

 

  • हेटरोटेक्सी: यह स्थिति आपके सीने और पेट में प्रतिबिंबित अंगों का कारण बनती है। लेकिन वे अंग ठीक से नहीं बनते हैं या काम नहीं करते हैं जैसा उन्हें करना चाहिए। यह स्थिति आपके हृदय, फेफड़े, लिवर, पित्ताशय की थैली, आंतों  को प्रभावित कर सकती है। इससे गंभीर जटिलताएं हो सकती हैं।

 

  • एस्प्लेनिया: इसका मतलब है कि आप बिना प्लीहा (spleen) के पैदा हुए हैं। हेटरोटेक्सी वाले कुछ लोगों की यह स्थिति होती है। यह आपको संक्रमण के प्रति अधिक संवेदनशील बनाता है।

 

  • मलरोटेशन: मलरोटेशन वाले लोगों की आंते ठीक से नहीं बनती हैं। वे गलत दिशा से बनता है। इससे पाचन संबंधी समस्याएं हो सकती हैं।

 

  • कार्टाजेनर सिंड्रोम: यह एक प्रकार का प्राथमिक सिलिअरी डिस्केनेसिया है। यह एक आनुवंशिक परिवर्तन (म्यूटेशन) के कारण होता है जो आपके श्वसन पथ में छोटे बाल (सिलिया) को प्रभावित करता है। इससे आपके फेफड़ों और साइनस में बार-बार संक्रमण होता है। एसोसिएटेड सिंड्रोम और हृदय दोष डेक्स्ट्रोकार्डिया वाले लोगों के लिए समस्याएं पैदा करते हैं। ऐसे मामलों में अक्सर उपचार या देखभाल की आवश्यकता होती है।

 

 

डेक्सट्रोकार्डिया का पता कैसे चलता है? (How is Dextrocardia Diagnosed in Hindi)

 

 

डेक्सट्रोकार्डिया का पता लगाने के लिए डॉक्टर आमतौर पर इमेजिंग टेस्ट कराने की सलाह देते हैं, जैसे कि छाती का एक्स-रे, या जब कोई स्वास्थ्य देखभाल प्रदाता हृदय की अन्य समस्याओं का मूल्यांकन कर रहा हो। कभी-कभी कोई लक्षण न होने पर स्थिति का कभी निदान नहीं किया जाता है। दिल के स्थान और स्थिति को देखने के लिए टेस्ट में शामिल हो सकते हैं:

 

  • छाती का एक्स – रे

 

  • हृदय का सीटी स्कैन

 

  • इकोकार्डियोग्राम

 

  • इलेक्ट्रोकार्डियोग्राम (ईसीजी)

 

  • एमआरआई

 

 

डेक्स्ट्रोकार्डिया के लिए उपचार क्या है? (What is the treatment for dextrocardia in Hindi)

 

डेक्स्ट्रोकार्डिया का इलाज इस बात पर निर्भर करता है कि मरीज को कौन से हृदय दोष या सिंड्रोम हैं। हृदय दोष वाले लोगों को अक्सर सर्जरी की आवश्यकता होती है। यदि सर्जरी बचपन में ही कर दी जाए तो अच्छा होता है। कुछ शिशुओं को सर्जरी तक दवा लेने की आवश्यकता होती है। आपके बच्चे को जिस विशिष्ट प्रकार की सर्जरी की आवश्यकता है, वह उनके जन्मजात हृदय दोष पर निर्भर करती है। डॉक्टर आपके बच्चे की स्वास्थ्य स्थिति के अनुसार ही उपचार के विकल्पों का सुझाव देगा।

 

यदि आप डेक्सट्रोकार्डिया के इलाज कराना चाहते हैं या इससे सम्बंधित किसी भी समस्या का इलाज कराना चाहते हैं, या कोई सवाल पूछना चाहते हैं तो यहाँ क्लिक करें। इसके अलावा आप प्ले स्टोर से हमारा ऐप डाउनलोड करके डॉक्टर से डायरेक्ट कंसल्ट कर सकता हैं। आप हमसे  व्हाट्सएप (+91 9654030724) पर भी संपर्क कर सकते हैं। इसके अलावा आप हमारी सेवाओं के संबंध में हमें Connect@gomedii.com पर ईमेल भी कर सकते हैं। हमारी टीम जल्द से जल्द आपसे संपर्क करेगी।

 
Doctor Consutation Free of Cost=

Disclaimer: GoMedii  एक डिजिटल हेल्थ केयर प्लेटफार्म है जो हेल्थ केयर की सभी आवश्यकताओं और सुविधाओं को आपस में जोड़ता है। GoMedii अपने पाठकों के लिए स्वास्थ्य समाचार, हेल्थ टिप्स और हेल्थ से जुडी सभी जानकारी ब्लोग्स के माध्यम से पहुंचाता है जिसको हेल्थ एक्सपर्ट्स एवँ डॉक्टर्स से वेरिफाइड किया जाता है । GoMedii ब्लॉग में पब्लिश होने वाली सभी सूचनाओं और तथ्यों को पूरी तरह से डॉक्टरों और स्वास्थ्य विशेषज्ञों द्वारा जांच और सत्यापन किया जाता है, इसी प्रकार जानकारी के स्रोत की पुष्टि भी होती है।