उच्च रक्तचाप रोगी के लिए आहार

Safe20

 

उच्चा रक्त चाप यह बहुत से लोगो के लिए कई बीमारी का कारण बनाता है, इसकी वजह से मधुमेह, हृदय रोग जैसी कई समस्या होती है। उच्च रक्त चाप होने पर आप तली-गली और चिकनाई वाली चीजों का सेवन न करें क्योंकि इससे उच्च रक्त चाप होने का खतरा ज्यादा रहता  है।

उच्च रक्तचाप के कई जोखिम कारक आपके नियंत्रण से बाहर होते हैं, जैसे कि उम्र, परिवार का इतिहास। लेकिन कुछ ऐसे कारक भी हैं जिनका इस्तेमाल करके आप उच्च रक्त चाप को नियंत्रित रख सकते है, जैसे कि व्यायाम और आहार। एक आहार जो रक्तचाप को नियंत्रित करने में आपकी मदद कर सकता है उसमें पोटैशियम, मैग्नीशियम, और फाइबर में समृद्ध है और सोडियम की मात्रा कम होनी चाहिए है।

 

 

उच्च रक्त चाप के लिए आहार

 

 

  • सुबह उठने के बाद सबसे पहले 2 गिलास गुनगुना पानी पीए।

 

  • नाश्ते के समय : लस्सी / दूध (स्किम्ड) रोटी / पोहा / उपमा / इडली + सांभर / टोस्ट / सैंडविच+ भीगे हुए बादाम 225 मिली।

 

  • बीच के समय : किसी भी एक फल का सेवन करें

 

  • दोपहर के समय / कोई एक फल / सूप 100 ग्राम

 

  • दोपहर का भोजन:  (1 कटोरा) दाल  30 gm, एक कटोरी रायता 95 ml/ सादा दही एक कटोरी, चपाती २,100 gm सलाद (चुकंदर)

 

  • शाम के समय : चीला / बेक्ड कटलेट / भूना चना इसकी मात्रा 30 gm तक, चाय / कॉफी / ग्रीन टी इसकी मात्रा 150 ml5 ग्राम

 

  • रात का भोजन : (ऐग कड़ी ) / पनीर / दाल, 40 gm इन सब की मात्रा इतनी होनी चाहिए, 100 gm हरी सबजी, दही 96 ml, चपाती, सलाद 100 gm

 

  • सोने से पहले :गर्म दूध  160 ml

 

 

ब्लूबेरी : विशेष रूप से ब्लूबेरी उच्च रक्त चाप करने का एक प्राकृतिक उपाए है जिन्हें फ्लेवोनोइड्स कहते है। एक अध्ययन में पाया गया कि इन ब्लूबेरी का सेवन करने से उच्च रक्तचाप को रोका जा सकता है और इसे रक्तचाप नियंतरण में रहता है। ब्लूबेरी, रसभरी और स्ट्रॉबेरी को अपने आहार में शामिल करें। आप उन्हें सुबह अपने अनाज या ग्रेनोला पर रख सकते हैं, या एक त्वरित और स्वस्थ मिठाई के लिए हाथों पर जमे हुए जामुन रख सकते हैं।

 

 

चुकंदर :  चुकंदर में नइट्रिक ऑक्साइड अधिक होते हैं, जो आपके रक्त वाहिकाओं और निम्न रक्तचाप को खोलने में मदद करता हैं। शोधकर्ताओं का मानना है की यदि आप चुकंदर का रस निकलकर उसे पीते है तो ये आपके बढे हुए रक्तचाप को केवल 24 घंटों के भीतर कम कर देता है। आप इसका रास रास घर में ही निकल सकते हैं। वैसे तो आप चुकंदर को हल्का फ़्राईड करके भी खा सकते है। आप उन्हें चिप्स की तरह बेक भी कर सकते हैं।

 

 

ओटमील : ओटमील जिसे हम दलिया भी कहते है ये आपके रक्तचाप को कम करने के लिए एक उचित फाइबर से युक्त, कम वसा वाला और कम सोडियम होता है  आप इसे नाश्ते में भी खा सकते है  और यह आपके  पेट को हल्का रखता है।

 

 

केले : केला पोटैशियम से भरपूर खाद्य पदार्थों में से एक है इसका सेवन एक तरीके से पूरक आहार है।आप केले को अपने अनाज या दलिया में मिलाकरखा सकते है। आप एक केले का सेवन अंडे के साथ भी कर सकते हैं।

 

 

आपको किन चीजों का सेवन नहीं करना चाहिए

 

 

  • मक्खन, देसी घी, वनस्पती, नारियल तेल।

 

  • तली हुई चीजें जैसे समोसा, पूड़ी, परांठा, पकोड़ा आदि।

 

  •  मक्खन और देसी घी से बने बेकरी आइटम जैसे केक, पेस्ट्री आदि।

 

  •  चीनी, गुड़, जैम, जेली, मिठाई जैसे लड्डू, बर्फी, खीर, आइसक्रीम कभी-कभी ही ले।

 

  • स्टार्च युक्त उत्पाद जैसे मकई का आटा, अरारोट, रिफाइंड आटा, कस्टर्ड पाउडर।

 

  • उच्च कैलोरी वाले फल जैसे आम, चीकू, अंगूर, कस्टर्ड सेब आदि (कम मात्रा)

 

  • कार्बोनेटेड पेय, दूध के शेक, फलों के रस आदि जैसे पेय।

 

  • सूखे मेवे जैसे काजू, किशमिश, अखरोट आदि।

 

  • अंडे की ज़र्दी, रेड मीट, हैम, बेकन, सॉसेज, मछली आदि ऑर्गन मीट जैसे किडनी, लीवर को नुकसान पहुंचा सकता है।

 

  • दूध से बने उत्पाद जैसे खोआ, क्रीम, प्रोसेस्ड चीज़ इत्यादि।

 

  • तेल में बना अचार।

 

  • डिब्बाबंद और डिब्बाबंद खाद्य पदार्थ जैसे सॉस, पिज्जा टॉपिंग।

 

 

यदि आपको हमेशा उच्च रक्त चाप  रहता है तो आप डॉक्टर की सलह भी ले सकते है। उच्च रक्त चाप का मुख्य कारण तो तनाव ही है। वैसे आप इन चीजों का इस्तेमाल करके अपनी उच्च रक्त चापकी समस्या का संधान कर सकते है इससे आपको घबराने की जरुरत नहीं है बस आपको थोड़ा सा परहेज करना होता है।


Doctor Consutation Free of Cost=

Disclaimer: GoMedii  एक डिजिटल हेल्थ केयर प्लेटफार्म है जो हेल्थ केयर की सभी आवश्यकताओं और सुविधाओं को आपस में जोड़ता है। GoMedii अपने पाठकों के लिए स्वास्थ्य समाचार, हेल्थ टिप्स और हेल्थ से जुडी सभी जानकारी ब्लोग्स के माध्यम से पहुंचाता है जिसको हेल्थ एक्सपर्ट्स एवँ डॉक्टर्स से वेरिफाइड किया जाता है । GoMedii ब्लॉग में पब्लिश होने वाली सभी सूचनाओं और तथ्यों को पूरी तरह से डॉक्टरों और स्वास्थ्य विशेषज्ञों द्वारा जांच और सत्यापन किया जाता है, इसी प्रकार जानकारी के स्रोत की पुष्टि भी होती है।