इन वजहों से होता है इम्यून सिस्टम कमजोर, जाने मजबूत करने के उपाए

GoMedii Offer

इम्यूनिटी हमारे शरीर में वायरल, बैक्टीरिया जैसे संक्रमणों को प्रवेश करने से रोकती है. मजबूत इम्यून सिस्टम ही आपको बीमारियों से बचा सकता है. लॉकडाउन में हर कोई इम्यूनिटी बढ़ाने के उपाय बता रहा है लेकिन ये कोई नहीं बता रहा है कि इम्यून सिस्टम कमजोर किस वजह से होता है।

 

दूसरे शब्दों में इम्यून सिस्टम का सीधा मतलब हमारे शरीर की रोग प्रतिरोधक क्षमता से है, जो हमारे शरीर को ऐसा सुरक्षा कवच प्रदान करती है, जिससे शरीर जल्दी किसी साधारण बीमारी की चपेट में नहीं आता और अगर हम किसी रोग से कारण-अकारण ग्रसित भी हो जाते हैं तो उससे निजात पाने में भी शीघ्र सफल भी होते हैं। इसके विपरीत, यदि हमारा इम्यून सिस्टम कमजोर हो जाता है तो हमारे रोग के संक्रमण की चपेट में आने की संभावना बढ़ जाती है।

 

कमजोर इम्यून सिस्टम के कारण

 

  • जल्दी थकान का अनुभव
  • घबराहट और बेचैनी
  • पेट खराब
  • सर्दी-जुकाम से पीड़ित होने की शिकायत रहती है।

 

इन कारणों से कमजोर हो सकती है इम्यूनिटी

 

  • तंबाकू का सेवन करना
  • प्रोसेस्ड फूड का सेवन
  • शारीरिक रूप से सक्रिय न रहना
  • खुद के लिए समय न निकालना
  • शराब का सेवन करना

 

इम्यूनिटी सिस्टम को मजबूत करने के तरीके

 

  • आठ घंटे की नींद है जरूरी
  • धूम्रपान और शराब से परहेज करें
  • शारीरिक सक्रियता है जरूरी
  • वजन रखें नियंत्रित
  • सुबह के नाश्ते को न करें नजरअंदाज

 

ये आहार बढ़ाएंगे इम्यूनिटी

 

  • इम्यूनिटी बढ़ाने के लिए अपने आहार में टमाटर को जरूर शामिल करें। इसमें मौजूद लाइकोपीन नामक एंटी ऑक्सिडेंट आपके दिमाग की सेहत के लिए जरूरी है। इसके अलावा टमाटर में विटामिन के, विटामिन सी और फाइबर की बहुतायत होती है, जो इम्यूनिटी सुधारने में मददगार साबित होते हैं।

 

  • संतरा, नीबू, आंवला, मौसमी जैसे खट्टे फलों में विटामिन सी की भरपूर मात्रा होती है, जो हर तरह के संक्रमण से लड़ने वाली श्वेत रक्त कणिकाओं का निर्माण करने में सहायक है। इन सारी चीजों को अपने आहार का नियमित हिस्सा बनाएं।

 

  • लहसुन भरपूर मात्रा में एंटी ऑक्सिडेंट बनाकर हमारे शरीर की रोग प्रतिरोधक प्रणाली को बीमारियों से लड़ने की शक्ति देता है। इसमें एलिसिन नामक ऐसा तत्व पाया जाता है, जो शरीर को किसी भी प्रकार के संक्रमण और बैक्टीरिया से लड़ने की शक्ति प्रदान करता है। प्रतिदिन भोजन में लहसुन की संतुलित मात्रा को शामिल करने से शरीर की रोग प्रतिरोधक क्षमता बढ़ने के साथ-साथ पेट के अल्सर और कैंसर से भी शरीर का बचाव होता है। रोजाना सुबह लहसुन की दो कलियों का सेवन करने से ब्लड प्रेशर नियंत्रण में रहता है और लंबे समय तक इम्यून सिस्टम भी मजबूत बना रहता है।

 

  • पालक में फॉलेट नामक ऐसा तत्व पाया जाता है, जो शरीर में नई कोशिकाएं बनाने के साथ उन कोशिकाओं की मजबूती और डीएनए की मरम्मत का काम भी करता है। इसमें मौजूद फाइबर आयरन एंटी ऑक्सिडेंट को बढ़ाकर शरीर को स्वस्थ रखता है। पालक में मौजूद विटामिन सी शरीर को हर तरह से स्वस्थ बनाये रखने में मददगार होता है। उबले पालक का नियमित तौर पर सेवन करने से शरीर की रोग प्रतिरोधक क्षमता बढ़ती है।

 

  • मशरूम शरीर की श्वेत रक्त कोशिकाओं को सक्रिय करने में सहायक सिद्घ होता है। इसमें सेलेनियम नामक मिनरल, एंटी ऑक्सिडेंट तत्व, विटामिन बी, नाइसिन आदि पाये जाते हैं। इनके अलावा मशरूम में एंटी वायरल, एंटी बैक्टीरियल और एंटी ट्यूमर तत्व पाये जाते हैं। मशरूम में शरीर की रोग प्रतिरोधक क्षमता को मजबूत करने वाले तत्व की प्रचुरता होती है।

 

  • रोजाना बादाम के आठ-दस दाने भिगोकर खान से न केवल शरीर की रोग प्रतिरोधक क्षमता बढ़ती है, बल्कि इसके सेवन से दिमाग को तनाव से लड़ने की शक्ति भी मिलती है। बादाम में मौजूद विटामिन ई शरीर में प्राकृतिक तौर पर पाए जाने वाले सेल्स को बढ़ाने में मददगार साबित होता है।

 

  • अपने आहार में मौसमी फलों और सब्जियों को शामिल करें। इम्यून सिस्टम को मजबूत बनाने और इम्यूनिटी को बढ़ाने के लिए खूब सारी सब्जियों और फलों का सेवन करने के साथ-साथ खूब सारा पानी पिएं। अंकुरित अनाज का भी सेवन करें।

 

  • शरीर का इम्यून बढ़ाने के लिए ड्राइफ्रूट्स का भी इस्तेमाल किया जा सकता है. जिसमें काजू, किसमिश, पिस्ता बादम, अखरोट, छुहारा और खजूर खने से भी शरीर का इम्यूनिटी सिस्टम बढ़ता है।

Doctor Consutation Free of Cost=

Disclaimer: GoMedii  एक डिजिटल हेल्थ केयर प्लेटफार्म है जो हेल्थ केयर की सभी आवश्यकताओं और सुविधाओं को आपस में जोड़ता है। GoMedii अपने पाठकों के लिए स्वास्थ्य समाचार, हेल्थ टिप्स और हेल्थ से जुडी सभी जानकारी ब्लोग्स के माध्यम से पहुंचाता है जिसको हेल्थ एक्सपर्ट्स एवँ डॉक्टर्स से वेरिफाइड किया जाता है । GoMedii ब्लॉग में पब्लिश होने वाली सभी सूचनाओं और तथ्यों को पूरी तरह से डॉक्टरों और स्वास्थ्य विशेषज्ञों द्वारा जांच और सत्यापन किया जाता है, इसी प्रकार जानकारी के स्रोत की पुष्टि भी होती है।