लेसिक आई सर्जरी कब की जाती है और इसका खर्च कितना है?

Treatment In India

आंखें मानव शरीर का सबसे महत्वपूर्ण अंग हैं, क्योंकि इन्हीं के माध्यम से वह इस खूबसूरत दुनिया को देखता है। लेकिन पौष्टिक भोजन में कमी और कई अन्य कारण हैं सबसे बड़ा कारण है आप की बदलती लाइफस्टाइल। इसका असर आपके पूरे शरीर पर होता है और इससे आपकी आंखो को भी नुकसान पहुँचता है। एक समय था जब उम्रदराज़ लोग ही चश्मा लगाते थे, मगर आज तो 5 साल तक के बच्चे भी चश्मा पहनते हैं। यदि आप चश्मा नहीं लगाना चाहते हैं तो इसके लिए आपको अपनी आंखो की सर्जरी करवानी होगी। सर्जरी का नाम सुनते ही आपको घबराने की जरूरत नहीं है क्योंकि विज्ञान ने इसका इलाज आसान और संभव कर दिया है। लेकिन जो बच्चे 18 साल की उम्र से छोटे हैं वह इस सर्जरी को नहीं करवा सकते हैं। इस सर्जरी का नाम लेसिक LASIK आई सर्जरी है। इस सर्जरी के बाद आंखों पर चश्मे की जरूरत नहीं होती है। अब सवाल ये उठता है की लेसिक आई सर्जरी कब की जाती है। तो आइए जानते हैं की इसे कब कराना सही रहेगा।

 

 

लेसिक आई सर्जरी कब की जाती है? (LASIK Eye Surgey in Hindi)

 

अगर आपको इनमें से कोई भी समस्या है तो डॉक्टर लैसिक आई सर्जरी की सलाह देते हैं। दरअसल यह आंखों के इलाज का सबसे कारगर तरीका है। यह सर्जरी डॉक्टर की सलाह पर ही की जाती है। बल्कि, यह सर्जरी केवल उन विशिष्ट लोगों के लिए अनुशंसित है जिनके पास निम्नलिखित समस्याएं हैं:

 

कॉर्निया का पतला होना: जब किसी व्यक्ति का कॉर्निया बहुत पतला हो जाता है, तो वह कुछ भी स्पष्ट रूप से नहीं देख पाता है। ऐसे में उन्हें चश्मा हटाने की सर्जरी कराने की सलाह दी जाती है।

 

आंखों की रोशनी 1 से 8 के बीच: जब किसी व्यक्ति की आंखों की रोशनी -1 से -8 के बीच होती है तो इस सर्जरी की जरूरत होती है।

 

चश्मा या लेंस होना: एक व्यक्ति जिसके पास चश्मा है या वह व्यक्ति जो लेंस पहनता है और वह अब इन दोनो चीजों का इस्तेमाल नहीं करना चाहता है तो ऐसे में उन्हें लैसिक आई सर्जरी कराने की सलाह दी जाती है।

 

आंखों की समस्या होना: एक व्यक्ति जिसे मायोपिया (निकट दृष्टि की कमजोरी), हाइपोपिया (दूर दृष्टि की कमजोरी), एस्ट्रगामैटिज्म (धुंधली दृष्टि) आदि जैसी आंखों की समस्या है। उसे चश्मा हटाने की सर्जरी कराने की सलाह दी जाती है।

 

आंख की समस्या को ठीक करने के अन्य उपाय अप्रभावी हो जाते हैं तभी डॉक्टर सर्जरी की सलाह देता है। जिस व्यक्ति को आंख की समस्या है, वह आंखों के इलाज के लिए सभी तरीके अपनाता है जैसे कि आई ड्रॉप डालना, आंखों का व्यायाम करना आदि। अगर इन सभी चीजों से भी फायदा नहीं होता हैं, तो सर्जन उसे सर्जरी की सलाह भी दे सकते हैं।

 

लेसिक आई सर्जरी का खर्च कितना है? (How much does LASIK eye surgery cost in India)

 

लेसिक आई सर्जरी की औसत लागत 1,40,000 रुपय से लेकर 2,20,000 रुपय तक है। अगर आप सिर्फ एक आंख की सर्जरी करवाना चाहते हैं तो खर्चा कम होगा लेकिन यह फैसला डॉक्टर लेता है। जब वे मरीजों की दोनों आंखों की जांच कर लेता है।

 

दिल्ली में लेसिक आई सर्जरी के अस्पताल? (LASIK Eye Surgery Hospitals in Delhi)

 

आपको बता दें कि भारत में लेसिक आई सर्जरी आसानी से उपलब्ध है। इसके लिए आप हमें भी चुन सकते हैं। हम आपको सबसे सस्ती कीमत पर इसका इलाज उपलब्ध कराने की पूरी कोशिश करेंगे। आप इनमें से किसी भी अस्पताल में इलाज करवा सकते हैं:

 

  • बीएलके सुपर स्पेशलिटी अस्पताल, राजिंदर नगर, दिल्ली (Blk Super Speciality Hospital, Rajinder Nagar, Delhi)

 

  • इंद्रप्रस्थ अपोलो अस्पताल, सरिता विहार, दिल्ली (Indraprastha Apollo Hospitals, Sarita Vihar, Delhi)

 

  • फोर्टिस हार्ट अस्पताल, ओखला, दिल्ली (Fortis Heart Hospital, Okhla, Delhi)

 

  • मैक्स सुपर स्पेशलिटी अस्पताल, साकेत, दिल्ली (Max Super Speciality Hospital, Saket, Delhi)

 

आप हमारे माध्यम से इनमें से किसी भी अस्पताल में इलाज करवा सकते हैं।

 

गुरुग्राम में लेसिक आई सर्जरी के अस्पताल? (LASIK Eye Surgery Hospitals in Gurugram)

 

  • नारायण सुपरस्पेशलिटी अस्पताल, गुरुग्राम (Narayana Superspeciality Hospital, Gurugram)

 

  • मेदांता द मेडिसिटी, गुरुग्राम (Medanta The Medicity, Gurugram)

 

  • फोर्टिस हेल्थकेयर लिमिटेड, गुरुग्राम (Fortis Healthcare Ltd., Gurugram)

 

  • पारस अस्पताल, गुरुग्राम (Paras Hospitals, Gurugram)

 

 

क्या लेसिक आई सर्जरी में दर्द होता है? (Does LASIK Eye Surgery Painful in Hindi)

 

अगर आप ऐसा सोचते हैं तो आप गलत हैं लेसिक आई सर्जरी में दर्द नहीं होता है। प्रक्रिया से पहले, आपका नेत्र रोग विशेषज्ञ आपकी दोनों आंखों में सुन्न करने वाली आई ड्रॉप डालेगा। प्रक्रिया के दौरान आप आंख पर दबाव महसूस कर सकते हैं। सर्जरी के बाद, आप अपनी आंखों में खुजली या जलन महसूस कर सकते हैं।लेकिन इसमें आपको दर्द नहीं महसूस होगा।

 

लेसिक आई सर्जरी के लाभ क्या हैं? (What are the Benefits of LASIK Eye Surgery in Hindi)

 

आजकल बहुत से लोग लेसिक आई सर्जरी को अपना रहे हैं और अपने जीवन को खुशियों से भर रहे हैं। लेसिक आई सर्जरी के लाभ अनेक हैं, जिसके कारण लोग इसे अपना रहे हैं, जिनमें से कुछ इस प्रकार हैं-

 

सर्जरी में कम समय: लेसिक आई सर्जरी की पूरी प्रक्रिया में केवल 30 मिनट लगते हैं। इस प्रकार, आंखों के संचालन में समय की बचत होती है।

 

बिना दर्द के सर्जरी का पूरा होना : चूंकि, लेसिक आई सर्जरी लेजर के माध्यम से की जाती है। इसलिए इस पूरी प्रक्रिया के दौरान व्यक्ति को किसी प्रकार का दर्द महसूस नहीं होता है।

 

सुरक्षित सर्जरी : लेसिक आई सर्जरी पूरी तरह से सुरक्षित है क्योंकि इस सर्जरी के बाद व्यक्ति को अधिक समय तक चश्मा पहनने की आवश्यकता नहीं होती है।

 

 

लेसिक आई सर्जरी से पहले क्या किया जाता हैं? (What to do before LASIK Eye Surgery in Hindi)

 

चूंकि, लेसिक आई सर्जरी शरीर के सबसे संवेदनशील हिस्से यानी आंखों से संबंधित है। इसलिए लेसिक आई सर्जरी बहुत सावधानी से की जाती है, क्योंकि इसमें किसी भी प्रकार की लापरवाही किसी भी व्यक्ति के जीवन को अंधकार में डाल सकती है।

 

लेसिक आई सर्जरी शुरू करने से पहले, सर्जन व्यक्ति के स्वास्थ्य की अच्छी तरह से जांच करते हैं, जिसके लिए वे कुछ कार्य करते हैं, जो इस प्रकार हैं:

 

नेत्र परीक्षण: लेसिक आई सर्जरी से पहले, मरीज की आंखों की अच्छी तरह से जांच की जाती है। जिसमें कॉर्निया की वास्तविक स्थिति का पता लगाना शामिल है।

 

आंखो का परीक्षण करना: आंखों की पूरी जांच के बाद, कुछ परीक्षण किए जाते हैं, जिसमें कॉर्निया की मोटाई की जांच करना, आंख के दबाव की जांच करना, पुतली के फैलाव की जांच करना आदि शामिल हैं।

 

कॉन्टैक्ट लेंस न पहनें: यदि लेसिक आई सर्जरी का मरीज किसी प्रकार के आई लेंस का प्रयोग करता है तो उसे सलाह दी जाती है कि वह इस सर्जरी से पहले लेंस न पहनें।

 

आंखों के ऊपर मेकअप न लगाए: अगर किसी महिला को लेसिक आई सर्जरी करवानी है तो इस सर्जरी से पहले मरीज को सलाह दी जाती है कि वह आंखों के ऊपर किसी भी तरह का मेकअप न करें क्योंकि इससे उसकी आंखों पर साइड इफेक्ट हो सकते हैं।

 

 

लेसिक आई सर्जरी कैसे की जाती है? (LASIK Eye Surgery Performed in Hindi)

 

लेसिक आई सर्जरी की पूरी प्रक्रिया में लगभग 15-30 मिनट लगते हैं। इसके अलावा पूरी प्रक्रिया लेजर के जरिए की जाती है, इस प्रक्रिया में कोई चीरा नहीं लगाया जाता है। लेसिक आई सर्जरी में कुछ बिंदु शामिल हैं, जो इस प्रकार हैं:

 

1 चरण: नंबिंग आई ड्रॉप्स – लेसिक आई सर्जरी शुरू करने से पहले, मरीज की आंखों को आई ड्रॉप्स से सुन्न किया जाता है ताकि पूरी प्रक्रिया के दौरान उन्हें कोई असुविधा महसूस न हो।

 

2 चरण: कुछ दवाएं देना- आई ड्रॉप से ​​आंखों को सुन्न करने के बाद मरीज को कुछ दवाएं दी जाती हैं ताकि उसे आसानी से सर्जिकल चेयर तक ले जाया जा सके।

 

चरण 3: पलक झपकना बंद करें – सर्जन तब व्यक्ति की पलकों पर लिड स्पेकुलम नामक एक उपकरण का उपयोग करता है, जो पलकों को झपकने से रोकता है।

 

स्टेज 4: कॉर्निया तक पहुंच- सर्जन आंख के कॉर्निया में एक पतला फ्लैप बनाते हैं, जिसे अस्थायी रूप से मोड़ा जा सकता है।

 

चरण 5: कॉर्निया को फिर से आकार देना – कॉर्निया की मध्य परत को हटाने के बाद, एक एक्साइमर लेजर नामक उपकरण का उपयोग करके कॉर्निया को फिर से आकार दिया जाता है। तो इस तरीके से लेसिक आई सर्जरी की जाती है।

 

यदि आप सस्ती कीमत पर लेसिक आई सर्जरी की तलाश कर रहे हैं या इससे सम्बंधित किसी भी तरह की जानकारी हासिल करना चाहते हैं तो यहाँ क्लिक करें आप हमसे व्हाट्सएप (+91 9654030724) पर संपर्क कर सकते हैं। इसके अलावा आप हमारी सेवाओं के संबंध में हमें Connect@gomedii.com पर ईमेल भी कर सकते हैं। हमारी टीम जल्द से जल्द आपसे संपर्क करेगी।


Doctor Consutation Free of Cost=

Disclaimer: GoMedii  एक डिजिटल हेल्थ केयर प्लेटफार्म है जो हेल्थ केयर की सभी आवश्यकताओं और सुविधाओं को आपस में जोड़ता है। GoMedii अपने पाठकों के लिए स्वास्थ्य समाचार, हेल्थ टिप्स और हेल्थ से जुडी सभी जानकारी ब्लोग्स के माध्यम से पहुंचाता है जिसको हेल्थ एक्सपर्ट्स एवँ डॉक्टर्स से वेरिफाइड किया जाता है । GoMedii ब्लॉग में पब्लिश होने वाली सभी सूचनाओं और तथ्यों को पूरी तरह से डॉक्टरों और स्वास्थ्य विशेषज्ञों द्वारा जांच और सत्यापन किया जाता है, इसी प्रकार जानकारी के स्रोत की पुष्टि भी होती है।