पेसमेकर सर्जरी की लागत कितनी है और जानिए कहां कराएं सर्जरी?

पेसमेकर एक छोटा उपकरण होता है जिसे छाती में लगाया जाता है। यह मरीज के दिल की धड़कन को नियंत्रित करने में मदद करता है। इसका उपयोग हृदय को बहुत धीमी गति से धड़कने से रोकने के लिए किया जाता है। छाती में पेसमेकर लगाने के लिए सर्जिकल प्रक्रिया की आवश्यकता होती है। पेसमेकर (Pacemaker) हृदय रोगियों के लिए किसी वरदान से कम नहीं होता है।

 

आज के दौर में हृदय संबंधी बहुत सारी बीमारियां लोगों को होती हैं, उनमें दिल की धड़कन का अनियमति होना, अचानक छाती में दर्द, हार्ट ब्लॉकेज होना जैसी कई बीमारी शामिल है। पेसमेकर मुख्य रूप से एक मेडिकल उपकरण होता है, यह एक बैटरी के माध्यम से काम करता है। इसे डॉक्टर दिल की धड़कन को कंट्रोल करने के लिए करते हैं। यदि आप पेसमेकर सर्जरी करवाना चाहते हैं तो इसमें हम आपकी मदद करेंगे। लेकिन आपको पेसमेकर सर्जरी की लागत कितनी है यह भी जान लेना चाहिए।

 

Enquire Now

 

पेसमेकर सर्जरी की लागत कितनी है? (How much does pacemaker surgery cost in Hindi)

 

भारत में पेसमेकर सर्जरी की औसत लागत (pacemaker surgery cost in Hindi) आमतौर पर 2,75,000 रुपये से  3,00,000 रुपये तक है। आपको बता दें कि पेसमेकर डिवाइस की कीमत 45,000 रुपये से 1,50,000 रुपये के बीच है। हालांकि, अलग-अलग शहरों के अस्पतालों के आधार पर कीमतें बदल सकती है।

 

 

पेसमेकर सर्जरी के लिए गुरुग्राम के सबसे अच्छे हॉस्पिटल? (Best hospitals in Gurugram For pacemaker surgery in Hindi)

 

  • नारायण सुपरस्पेशलिटी अस्पताल, गुरुग्राम (Narayana Superspeciality Hospital, Gurugram)

 

 

 

 

यदि आप इस अस्पताल में इलाज करवाना चाहते हैं तो हमसे व्हाट्सएप (+91 9599004311) पर संपर्क कर सकते हैं।

 

 

पेसमेकर सर्जरी के लिए दिल्ली के सबसे अच्छे हॉस्पिटल? (Best Hospitals in Delhi For pacemaker surgery in Hindi)

 

आपको बता दें कि दिल्ली में पेसमेकर सर्जरी आसानी से उपलब्ध है इसके लिए आप हमें चुन सकते हैं हम आपको सबसे सस्ती कीमत पर इसका इलाज उपलब्ध कराने की पूरी कोशिश करेंगे। आप इनमें से किसी भी अस्पताल में इलाज करवा सकते हैं:

 

 

 

 

 

यदि आप इस अस्पताल में इलाज करवाना चाहते हैं तो हमसे व्हाट्सएप (+91 9599004311) पर संपर्क कर सकते हैं।

 

 

पेसमेकर सर्जरी के लिए बैंगलोर के सबसे अच्छे हॉस्पिटल? (Best Hospitals in Bangalore For pacemaker surgery in Hindi)

 

 

 

 

  • स्पर्श अस्पताल, यशवंतपुर, बैंगलोर (Sparsh Hospital, Yeshwantpur, Bangalore)

 

यदि आप इस अस्पताल में इलाज करवाना चाहते हैं तो हमसे व्हाट्सएप (+91 9599004311) पर संपर्क कर सकते हैं।

 

 

पेसमेकर सर्जरी के लिए मुंबई के सबसे अच्छे हॉस्पिटल? (Best Hospitals in Mumbai For pacemaker surgery in Hindi)

 

  • डॉ. एल एच हीरानंदानी अस्पताल, मुंबई (Dr. L H Hiranandani Hospital, Mumbai)

 

  • जसलोक अस्पताल और अनुसंधान केंद्र, पेडर रोड, मुंबई (Jaslok Hospital & Research Centre, Pedder Road, Mumbai)

 

 

 

यदि आप इस अस्पताल में इलाज करवाना चाहते हैं तो हमसे व्हाट्सएप (+91 9599004311) पर संपर्क कर सकते हैं।

 

 

पेसमेकर सर्जरी के लिए हैदराबाद के सबसे अच्छे हॉस्पिटल? (Best Hospitals in Hyderabad For pacemaker surgery in Hindi)

 

 

 

  • कॉन्टिनेंटल हॉस्पिटल्स लिमिटेड, हैदराबाद (Continental Hospitals Limited, Hyderabad)

 

  • ग्लेनीगल्स ग्लोबल हॉस्पिटल्स, लकड़ी का पूल, हैदराबाद (Gleneagles Global Hospitals, Lakadi Ka Pool, Hyderabad)

 

यदि आप इस अस्पताल में इलाज करवाना चाहते हैं तो हमसे व्हाट्सएप (+91 9599004311) पर संपर्क कर सकते हैं।

 

 

पेसमेकर कब लगाया जाता है? (When is the pacemaker implanted in Hindi)

 

डॉक्टर मरीज को पेसमेकर लगाने को तब कहते हैं जब मरीज के दिल की धड़कन अधिक तेज या धीमी चलती है। पेसमेकर लगाने के बाद दिल की धड़कन सामान्य तौर पर चलती है।

पेसमेकर कितने प्रकार के होते हैं? (Types of Pacemaker in Hindi)

 

पेसमेकर मुख्य रूप से 3 प्रकार के होते हैं, जो निम्नलिखित हैं:

 

  • सिंगल पेसमेकर (Single pacemaker) : यह पेसमेकर का एक सामान्य प्रकार है, जिसमें दिल के एक चैंबर को प्लस जनरेटर से जोड़ा जाता है। दरअसल सिंगल पेसमेकर का उपयोग अधिकांश लोगों पर किया जाता है।

 

  • ड्यूल पेसमेकर (Dual pacemaker) : इसे पेसमेकर में डॉक्टर इलेक्ट्रिक उपकरण को दिल की दाईं ओर मौजूद दोनों चैंबरों, दाईं अलिंद (atrium) और दाईं वेंट्रिक्ल से जोड़ाता है। डॉक्टर दोनों चैंबरों के संकुचन की गति को रेगुलेट करने के लिए ड्यूल-चेंबर पेसमेकर का उपयोग करते हैं।

 

  • बिवेन्ट्रिक्युलर पेसमेकर (Biventricular pacemaker): इस पेसमेकर को डॉक्टर कार्डिक र्सिंक्रोनिज़ेशन थेरेपी (सी.आर.टी) भी कहते हैं। आपको बता दें इस उपकरण में तीन लीड होती हैं, जो दाईं एट्रिम और दोनों वेंट्रिक्लों से जुड़ी होती हैं। इसका इस्तेमाल मुख्य रूप से उन मरीजों का इलाज के लिए किया जाता है, जिनमें दिल के खराब होने की संभावना अधिक रहती है।

 

 

पेसमेकर सर्जरी के क्या लाभ हैं? (What are the benefits of pacemaker surgery in Hindi)

 

पेसमेकर सर्जरी एक लाभदायक प्रक्रिया है, जिसके कई फायदे हैं, उनमें से मुख्य 5 लाभ इस प्रकार हैं:

 

  • दिल की धड़कन का सामान्यीकरण: जैसा कि ऊपर बताया गया है, पेसमेकर सर्जरी मुख्य रूप से दिल की धड़कन को सामान्य करने के लिए की जाती है। इस प्रकार यह दिल की धड़कन को सामान्य करने का सबसे अच्छा तरीका है।

 

  • अन्य हृदय रोगों की संभावना कम करना: इस सर्जरी के बाद अन्य हृदय रोगों की संभावना भी कम हो जाती है।

 

  • जीवन में सुधार: पेसमेकर सर्जरी कराने के बाद व्यक्ति पूरी तरह से स्वस्थ हो जाता है और बेहतर जीवन जी सकता है। पेसमेकर सर्जरी इस तरह से लोगों को नई जिंदगी देती है।

 

  • दिल को स्वस्थ रहना : पेसमेकर सर्जरी दिल को काफी स्वस्थ बनाती है और यह पहले से बेहतर काम करने लगती है। यह सर्जरी हृदय की कार्यक्षमता को बेहतर बनाने में अहम भूमिका निभाती है।

 

  • रक्तचाप नियंत्रित रहना : यह सर्वविदित है कि हृदय रोग उच्च रक्तचाप के कारण होता है। पेसमेकर सर्जरी रक्तचाप को नियंत्रण में रखती है और साथ ही हृदय रोग की संभावना को कम करती है।

 

 

पेसमेकर सर्जरी से पहले होने वाली जांच? (tests before pacemaker surgery in Hindi)

 

इससे पहले कि आपका डॉक्टर यह निर्णय करे कि आपको पेसमेकर की आवश्यकता है या नहीं, आपके अनियमित दिल की धड़कन के कारण का पता लगाने के लिए वह कई परीक्षण करेंगे। पेसमेकर लगाने से पहले टेस्ट किए जाते हैं जिनमें शामिल हो सकते हैं:

 

  • इलेक्ट्रोकार्डियोग्राम (ईसीजी या ईकेजी) (Electrocardiogram (ECG or EKG))

 

  • होल्टर निगरानी (Holter monitoring)

 

  • इकोकार्डियोग्राम (Echocardiogram)

 

 

 

पेसमेकर सर्जरी कैसे की जाती है? (Pacemaker Surgery Procedure in Hindi)

 

पेसमेकर लगाने में केवल 1 से 2 घंटे का समय लगता है। पूरी प्रक्रिया बिना एनेस्थीसिया के की जाती है, जिसका अर्थ है कि व्यक्ति इस दौरान सभी चरणों के प्रति सतर्क और जागरूक रहता है। दरअसल यह प्रक्रिया कुछ ही चरणों में पूरी होती है, जो इस प्रकार हैं:

 

  • (चरण 1) कंधे के पास कट बनाना: यह सर्जरी कंधे के पास कट बनाकर शुरू होती है। डॉक्टर यह कट इसलिए लगाते हैं ताकि वे इस प्रक्रिया को सुचारू रूप से कर सकें।

 

  • (चरण 2) कट को वायर करें: कंधे के पास कट बनाने के बाद डॉक्टर उसमें एक स्पेशल वायर डाल देता है।

 

  • (चरण 3) इलेक्ट्रोड को वेंट्रिकल में डालना: इस तार का एक सिरा हृदय के वेंट्रिकल से जुड़ा होता है।

 

  • (चरण 4) तार के दूसरे सिरे को प्लस जनरेटर से जोड़ना: तार का एक सिरा वेंट्रिकल से जुड़ा होता है जबकि दूसरा सिरा प्लस जनरेटर से जुड़ा होता है। यह जनरेटर दिल को सामान्य रूप से धड़कने में मदद करता है।

 

  • (चरण 5) कट को बंद करना: हार्ट वेंट्रिकल और प्लस जनरेटर डालने के बाद डॉक्टर कट को कंधे के पास बंद कर देते हैं। डॉक्टर इस कट को बंद करने के लिए चिकित्सा उपकरणों का उपयोग करते हैं।

 

  • (चरण 6) सुधार कक्ष में परिवहन: यह प्रक्रिया कंधे पर कट के बंद होने के साथ समाप्त होती है। इसके साथ ही डॉक्टर मरीज को रिकवरी रूम में ले जाता है। यहां पर मरीज के दिल की धड़कन की जांच की जाती है और यह सुनिश्चित किया जाता है कि इस प्रक्रिया के बाद वह स्वस्थ है या नहीं।

 

  • (चरण 7) व्यक्ति को छुट्टी दें: जैसे ही यह पुष्टि हो जाती है कि व्यक्ति अब पूरी तरह से स्वस्थ है, डॉक्टर उसे घर जाने की अनुमति देता है।

 

यदि आप कम खर्च में पेसमेकर सर्जरी की तलाश कर रहे हैं या इससे सम्बंधित किसी भी तरह की जानकारी हासिल करना चाहते हैं तो यहाँ क्लिक करें आप हमसे व्हाट्सएप (+91 9599004311) पर संपर्क कर सकते हैं। इसके अलावा आप हमारी सेवाओं के संबंध में हमें Connect@gomedii.com पर ईमेल भी कर सकते हैं। हमारी टीम जल्द से जल्द आपसे संपर्क करेगी।
Doctor Consutation Free of Cost=

Disclaimer: GoMedii  एक डिजिटल हेल्थ केयर प्लेटफार्म है जो हेल्थ केयर की सभी आवश्यकताओं और सुविधाओं को आपस में जोड़ता है। GoMedii अपने पाठकों के लिए स्वास्थ्य समाचार, हेल्थ टिप्स और हेल्थ से जुडी सभी जानकारी ब्लोग्स के माध्यम से पहुंचाता है जिसको हेल्थ एक्सपर्ट्स एवँ डॉक्टर्स से वेरिफाइड किया जाता है । GoMedii ब्लॉग में पब्लिश होने वाली सभी सूचनाओं और तथ्यों को पूरी तरह से डॉक्टरों और स्वास्थ्य विशेषज्ञों द्वारा जांच और सत्यापन किया जाता है, इसी प्रकार जानकारी के स्रोत की पुष्टि भी होती है।