जाने लू के लक्षण और इससे बचने के उपाय

Safe20

गर्मी अकेले नहीं आती है, यह हमें परेशान करने के लिए कई अन्य समस्याएं लाती है। इन समस्याओं में चिलचिलाने वाली धूप, आर्द्र और गर्म हवाएं शामिल हैं, जिसकी हद में आने से हम बीमार महसूस करना शुरू कर देते हैं। इस मौसम में गर्म हवा यानी गर्मी सबसे ज्यादा परेशानी का कारण बनती है। हालांकि इनसे बचने के कई तरीके हैं।

 

लू क्या है?

 

उत्तर भारत में, उत्तर-पूर्व और पश्चिम-पूर्व दिशा में चलने वाली गर्म गर्मी और शुष्क हवाओं को लू कहा जाता है। मई और जून में इस तरह की हवा चलती है। गर्मियों के दौरान तापमान 45 ° C तक जा सकता है। उष्णकटिबंधीय देशों में गर्मी आम है।

 

लू लगने के कारण

 

  • बहुत अधिक गर्मी में बाहर जाना
  • पानी कम पिएं
  • गर्मियों में, खाली पेट बाहर जाएं
  • पसीने या धूप में बेहद ठंडा पानी पीना

 

लू लगने के लक्षण

 

 

लू से बचाव के उपाय

 

1. धूप में खुले शरीर को न छोड़े। यदि आपको बाहर निकलना है, तो धूप में बाहर आने पर अपना सिर अवश्य ढंकना चाहिए। आंखों पर धूप का चश्मा लगाएं और हो सके तो सफेद या हल्के रंग के सूती कपड़े ही पहनें।

 

2. ठंडे स्थान से बहुत गर्म जगह पर न जाएं। खासकर एसी में बैठने के तुरंत बाद धूप में न निकलें। रोजाना कच्चा प्याज खाएं।

 

3. जितना हो सके पानी पिएं। जिसके कारण पसीना आने से शरीर का तापमान नियमित रूप से निर्धारित होता है और शरीर में पानी की कमी नहीं होती है। तेज गर्मी में मौसमी फल, फलों का रस, दही, छाछ, जीरा छाछ, जलजीरा, लस्सी, आम का पन्ना या आम की चटनी खाएं।

 

4. यदि बुखार अधिक हो, तो रोगी को ठंडी खुली हवा में आराम करना चाहिए। यदि बुखार 104 डिग्री से अधिक है, तो सिर पर एक बर्फ की पट्टी रखनी चाहिए।

 

5. रोगी को तुरंत प्याज का रस शहद में मिलाकर देना चाहिए। रोगी के शरीर को दिन में चार या पांच बार गीले तौलिये से पोंछना चाहिए। चाय और कॉफी जैसे गर्म पेय का सेवन बहुत कम किया जाना चाहिए।

 

6. प्यास बुझाने के लिए नींबू के रस में पानी या गुड़ का पानी मिलाकर पीना चाहिए। बर्फ का पानी नहीं दिया जाना चाहिए क्योंकि इससे लाभ के बजाय नुकसान हो सकता है।

 

7. खासतौर पर 8 कैरी होना फायदेमंद है। धीमी आंच पर कच्चे आमों को धीमी आंच पर भूनें। ठंडा होने पर इसके गूदे (गूदे) को निकालकर पानी में मिला देना चाहिए। इसमें जीरा, धनिया, चीनी, नमक, काली मिर्च डालकर पैन बनाएं। पैन को थोड़े समय में लू के रोगी को देना चाहिए।

 

8. जौ का आटा और पिसा हुआ प्याज मिलाकर शरीर पर लगाएं, इससे हीटस्ट्रोक से तुरंत राहत मिलती है। जब रोगी को बाहर ले जाया जाता है, तो उसके कानों में गुलाब जल के साथ कपास झाड़ू लगाओ। रोगी की नाभि पर खड़ा नमक डालें और उस पर पानी डालें और पानी गिरा दें। सारी गर्मी झड़ जाएगी।

 

9. रोगी के तलवों पर कच्ची लौकी रगड़ें, इससे लौकी की सारी गर्मी निकल जाएगी और उसे तुरंत आराम मिलेगा। अगर लौकी मुरझा जाए तो समझें कि गर्मी का पारा नीचे आ रहा है। इस क्रिया को बार-बार दोहराएं।

 

10. हल्का, पौष्टिक और आसानी से पचने वाला भोजन करें। मौसमी फल खाएं जिनमें पानी की मात्रा अधिक होती है। तरबूज, तरबूज, नारियल, खीरा, ककड़ी, शिमला मिर्च में पानी की मात्रा अधिक होती है। हर दिन इन्हें अपने आहार में शामिल करें।


Doctor Consutation Free of Cost=

Disclaimer: GoMedii  एक डिजिटल हेल्थ केयर प्लेटफार्म है जो हेल्थ केयर की सभी आवश्यकताओं और सुविधाओं को आपस में जोड़ता है। GoMedii अपने पाठकों के लिए स्वास्थ्य समाचार, हेल्थ टिप्स और हेल्थ से जुडी सभी जानकारी ब्लोग्स के माध्यम से पहुंचाता है जिसको हेल्थ एक्सपर्ट्स एवँ डॉक्टर्स से वेरिफाइड किया जाता है । GoMedii ब्लॉग में पब्लिश होने वाली सभी सूचनाओं और तथ्यों को पूरी तरह से डॉक्टरों और स्वास्थ्य विशेषज्ञों द्वारा जांच और सत्यापन किया जाता है, इसी प्रकार जानकारी के स्रोत की पुष्टि भी होती है।