मधुमेह रोगियों में स्किन की समस्या क्यों होती है ?

मधुमेह एक ऐसे बीमारी है जिसके होने के बाद उस व्यक्ति की जरा सी लापरवाही करना उसके लिए बड़ी परेशानी की वजह बन जाता है।  क्योंकि एक बार आपको मधुमेह हो जाता है, तो आपके शरीर में कई अन्य बीमारी होने का कारण भी बनता है। किसी भी इंसान को मधुमेह तब होता है जब उनका खान पान गलत होता है और उसकी जीवनशैली ख़राब होती है।

ऐसा नहीं है की मधुमेह के रोगी को स्किन से जुड़ी समस्या ही होती है। मधुमेह के मरीज को शरीर में कई दिक्कते होती है जैसे कमजोरी, थकान, दर्द आदि। लेकिन स्किन से जुड़ी समस्या भी आम है उसके बावजूद लोग इसे नज़रअंदाज करते है। जबकि इस तरह की लापरवाही उनके लिए परेशानी की वजह बन सकती है।

 

 मधुमेह क्यों होता है ?

 

किसी भी व्यक्ति को मधुमेह तब होता है जब उसका भोजन पौष्टिक नहीं होता है और वह पेय पदार्थ में मीठे का सेवन ज्यादा करता है। जिसकी वजह से उसके रक्त में शुगर की मात्रा बढ़ जाती है और उसे मधुमेह हो जाता है। यदि आप मीठा ज्यादा खाते है तो उससे इतना फर्क नहीं पड़ता है। मधुमेह होने के लक्षण नींद में कमी, बहुत ज्यादा प्यास लगना, बहुत कम या ज्यादा भूख लगना, वजन बढ़ना और घाव होने पर जल्दी ठीक न होना। उन्हीं में से एक है स्किन से जुड़ी समस्या, तो आइये जानते है स्किन से जुड़ी कौन सी समस्याए होती है।

 

मधुमेह रोगीं को स्किन की कौन सी समस्या होती है?

 

 

स्किन पर खुजली :

 

मधुमेह के मरीजों में यह समस्या सबसे ज्यादा होती है। स्किन में रूखापन और खुजली की वजह से लाल चकते बनने लगती है जिसकी वजह से उन्हें बहुत तेज खुजली होती है। खुजली करने के बाद वह स्किन पर लाल रंग के धब्बे में बदल जाते है।

 

इन्फेक्शन :

 

Treatment In India

मधुमेह से प्रभावित लोगों को वैसे भी अपना बहुत ध्यान रखना पड़ता है। क्योंकि इसमें इंफ़ेक्शन होने की आशंका ज़्यादा ही रहती है, स्किन में  इंफ़ेक्शन होना कोई नई बात नहीं है, यह मधुमेह के रोगी को होने वाली सबसे आम समस्याओं में से एक है।

 

स्किन पर मस्से : 

 

मधुमेह होने पर ऐसे बहुत से लोग होते है जिनकी गर्दन और पीठ पर छोटे-छोटे मुलायम मस्से निकलने लगते है। दरअसल ये उन लोगों में ज़्यादा होते हैं, जिनके ब्लड में शुगर की मात्रा ज्यादा होती है और बॉडी मास इंडेक्स (बीएमआई) दोनों काफ़ी बढ़ा हुआ होता है।

 

स्किन में रुखा पन :

 

आमतौर पर स्किन में रूखापन की समस्या ठंड के दिनों में बहुत होती है, लेकिन ये समस्या आपको हमेशा रहती है उसके बावजूद लोग इस पर ध्यान नहीं देते। मौसम/जलवायु के आधार पर यह परेशानी 44% तक मधुमेह के मरीजों को ज्यादा होती है।

 

उंगलियों के बीच की स्किन गलना :

 

ये समस्या भी बहुत से मधुमेह के रोगियों में देखने को मिलती है। ऐसा तब होता है जब वह पानी का काम ज्यादा करते है जिसके बाद वह उंगलियों के बीच के पानी को कपड़े से पोछते नहीं है, यही वजह है की धीरे-धीरे आपकी स्किन गलने लगती है।

 

कैसे रखे अपनी स्किन का ध्यान

 

साबुन : ज्यादा साबुन के इस्तेमाल से भी मधुमेह के रोगी को ये समस्या होने लगती है। इसलिए आपको इस बात का ध्यान रखना होगा की साबुन का इस्तेमाल उतना ही करें जितना जरुरत हो। यदि आपकी स्किन को कोई साबुन सूट नहीं कर रहा है तो उसको तुरंत बदलें।

 

तेल मालिश : ठंड के दिनों में आप प्रतिदिन गुनगुने पानी से नहाते है तो जरुरी है की आप अपने शरीर पर तेल की मालिश करें इससे आपको स्किन से जुड़ी समस्या दूर हो जाएगी।

 

माश्चराइजिंग क्रीम : यदि आपकी त्वचा हमेशा रूखी रहती है तो आपको इसका इस्तेमाल करना चाहिए। ऐसा करने से आपकी स्किन में नमी बरकरार रहेगी, खुजली भी नहीं होगी और  त्वचा शुष्क भी दिखाई देगी।

 

ज्यादा देर पानी का काम न करें : जो लोग बहुत ज्यादा समय तक पानी का काम करते है उन्हें ऐसी समस्या बहुत होती है। इसके लिए जरुरी है आप जब भी पानी का काम करें तो हमेशा अपने पैरो की उंगलियों को सूखा कर रखे और उसे कपड़े से पोछे इससे आप इस तरह की समस्या से बचे रहेंगे।

 

यदि आपको भी ऐसी कोई समस्या रहती है तो आप हमारे डॉक्टर से संपर्क कर सकते है। क्योंकि आगे चलके ये समस्या बहुत गंभीर हो सकती है। ज्यादातर ये समस्या मधुमेह के मरीजों को ही होती है, इसकी वजह से उन्हें अपना बहुत ज्यादा ध्यान रखना पड़ता है क्योंकि उन्हें कई बीमारी होने का खतरा रहता है।

 


Doctor Consutation Free of Cost=

Disclaimer: GoMedii  एक डिजिटल हेल्थ केयर प्लेटफार्म है जो हेल्थ केयर की सभी आवश्यकताओं और सुविधाओं को आपस में जोड़ता है। GoMedii अपने पाठकों के लिए स्वास्थ्य समाचार, हेल्थ टिप्स और हेल्थ से जुडी सभी जानकारी ब्लोग्स के माध्यम से पहुंचाता है जिसको हेल्थ एक्सपर्ट्स एवँ डॉक्टर्स से वेरिफाइड किया जाता है । GoMedii ब्लॉग में पब्लिश होने वाली सभी सूचनाओं और तथ्यों को पूरी तरह से डॉक्टरों और स्वास्थ्य विशेषज्ञों द्वारा जांच और सत्यापन किया जाता है, इसी प्रकार जानकारी के स्रोत की पुष्टि भी होती है।