प्रीडायबिटीज डायग्नोसिस: टेस्ट जो डायबिटीज़ का पता लगाते हैं

 

 

प्रीडायबिटीज क्या है?

 

 

प्रीडायबिटीज उस डायबिटीज को कहते हैं जो की टाइप-2 डायबिटीज से पहले होती है। लेकिन प्रीडायबिटीज के मरीज़ों में इसके कोई लक्षण नज़र नहीं आते। इस तरह की डायबिटीज का मतलब होता है कि व्यक्ति को डायबिटीज तो है, लेकिन उसके बॉडी में शुगर का लेवल इतना भी ज्यादा नहीं है कि टेस्ट के दौरान उसका पता लगाया जा सके। सामान्य तौर पर लोगों की बीच यह धारणा होती है कि अगर आपको प्रीडायबिटीज है तो आपको डायबिटीज जरूर होगी।

 

 

एक शोध के अनुसार वैज्ञानिकों ने ये पाया कि प्रीडायबिटीज लोगों के खून में शुगर की मात्रा ज्यादा होती है। ऐसे लोगों को अपने खानपान की चीज़ों में मीठे की मात्रा कर देनी चाहिए। इसके अलावा अपने खानपान में फाइबर, अनाज और सब्ज़ियों को शामिल करें और साथ ही नियमित रूप से रोज़ व्यायाम भी करें।

 

 

प्रीडायबिटीज के लक्षण

 

 

Treatment In India
  • आनुवांशिक कारण

 

यदि आपके परिवार में से किसी को पहले डायबिटीज हुई है तो आपको डायबिटीज होने की आशंका बनी रहती है। यदि आपने ऐसे बच्चे को जन्म दिया जिसका वजन 9 पाउंड से ज्यादा है तो आपको प्रीडायबिटीज की समस्या हो सकती है।

 

 

  • डायबिटीज जैसे लक्षण

 

बहुत से लोग ऐसे होते हैं जिन्हे प्रीडायबिटीज की समस्या होती है पर उन्हें इससे जुड़े लक्षण पता नहीं होते। कई बार प्रीडायबिटीज के मरीज़ों में डायबिटीज जैसे लक्षण दिखाई देते हैं जैसे कि ज्यादा प्यास लगना, थोड़ी थोड़ी देर में पेशाब आना और काम कम करने या न करने पर थकान महसूस होना।

 

 

  • पूरी नींद न ले पाना

 

जो लोग रात में छह घंटे से भी कम की नींद लेते हैं या उन्हें सोने में परेशानी होती है। मतलब की सोने के दौरान बीच बीच में नींद खुलती रहती है। ऐसे लोग प्रीडायबिटीज के शिकार हो सकते हैं।

 

 

  • स्वास्थ्य सम्बन्धी समस्याएं

 

यदि आप मोटे हो और आपका बॉडी मॉस इंडेक्स (बीएमआई) 25 से ज्यादा है तो आपको भी प्रीडायबिटीज हो सकती है। हाई कॉलेस्टेरोल की समस्या या दिल संबंधी बीमारी होने पर प्रीडायबिटीज हो सकती है।

 

 

  • त्वचा पर धब्बे बन जाना

 

जिन लोगों को प्रीडायबिटीज होती है , उन्हें त्वचा से जुडी परेशानियां भी हो सकती हैं। इस तरह की समस्या में शरीर पर काले और गहरे धब्बे बन जाते हैं।

 

 

प्रीडायबिटीज से बचने के उपाय

 

 

  • अगर आपको स्मोकिंग की आदत है तो तुरंत अपनी इस आदत को छोड़ दें, क्यूंकि स्मोकिंग करने से किसी भी व्यक्ति का शुगर लेवल एक दम से बढ़ जाता है। अगर डायबिटीज का कोई मरीज़ स्मोकिंग करता है, तो उसके शुगर लेवल में तुरंत उछाल आ जाता है जिससे उसकी जान को नुक्सान भी हो सकता है।

 

 

  • वजन हमेशा नियंत्रित में रखिये। यदि आप अपने वजन को 5 से 10 किलो भी घटा लेते हैं, तो इससे आपके शरीर पर काफी सकारात्मक प्रभाव पड़ेगा।

 

 

  • यदि आप हाई कोलेस्ट्रोल या हाई ब्लड प्रेशर से ग्रसित है तो आपको उसे भी नियंत्रण में रखना चाहिए।

 

 

  • आपका खानपान भी स्वस्थ होना चाहिए। शरीर में ज्यादा सोडियम होने से पानी का जमाव होता है जिस वजह से रक्त का आयतन बढ़ जाता है इसके कारण ब्लड प्रेशर बढ़ जाता है। अपने भोजन में सोडियम की मात्रा कम करें। आमतौर पर लोग एक दिन में 10 ग्राम नमक खाते हैं, जिसे कम करके 3 ग्राम कर देना चाहिए।

 

 

  • अपने भोजन में उन चीज़ों को बढ़ा दें जिनमे पोटेशियम की मात्रा ज्यादा होती हो। डिब्बा बंद चीज़ें न खरीदें। सैचुरेटेड फैट की मात्रा भी कम कर दें। इन सब के अलावा अपने भोजन में कैल्शियम और मेग्नेशियम की मात्रा भी संतुलित करें। फाइबर युक्त चीज़ों का सेवन ज्यादा करें जैसे की फलों के छिलकें, साग, इसबगोल आदि।

 

 

  • अगर प्री डायबिटीज को मात देना चाहते हो तो एक्सरसाइज करना भी जरुरी है, हफ्ते में कम से कम 5 दिन एक्सरसाइज जरूर करें। तेज़ तेज़ चलना 30 मिनट तक एक सर्वोत्तम एक्सरसाइज है।

 

 

प्रीडायबिटीज जैसी बीमारी किसी भी स्तर के लोगों को प्रभावित कर सकती है। ऐसे में हर किसी को सावधानियाँ बरतने की जरूरत है। ज्यादा जानकारी के लिए डॉक्टर से सलाह ले सकते हैं

 


Doctor Consutation Free of Cost=

Disclaimer: GoMedii  एक डिजिटल हेल्थ केयर प्लेटफार्म है जो हेल्थ केयर की सभी आवश्यकताओं और सुविधाओं को आपस में जोड़ता है। GoMedii अपने पाठकों के लिए स्वास्थ्य समाचार, हेल्थ टिप्स और हेल्थ से जुडी सभी जानकारी ब्लोग्स के माध्यम से पहुंचाता है जिसको हेल्थ एक्सपर्ट्स एवँ डॉक्टर्स से वेरिफाइड किया जाता है । GoMedii ब्लॉग में पब्लिश होने वाली सभी सूचनाओं और तथ्यों को पूरी तरह से डॉक्टरों और स्वास्थ्य विशेषज्ञों द्वारा जांच और सत्यापन किया जाता है, इसी प्रकार जानकारी के स्रोत की पुष्टि भी होती है।