प्रेगनेंसी में कैसी होनी चाहिए गर्भवती महिला की डाइट

प्रेगनेंसी में कैसी होनी चाहिए गर्भवती महिला की डाइट ? गर्भवती महिलाओं को खुद के साथ-साथ अपने बच्चे के खाने का भी ख़ास ख्याल रखना चाहिए। यहाँ हम गर्भावस्था के दौरान आहार में शामिल किए जाने वाले कुछ खाद्य पदार्थों पर चर्चा करेंगे।

 

गर्भावस्था के दौरान एक स्वस्थ आहार, बच्चे के विकास के लिए बहुत महत्वपूर्ण होता है। इसलिए, महिलाओं को प्रेगनेंसी में अपनी देखभाल करनी चाहिए।

 

जब एक महिला गर्भवती होती है, तो स्वस्थ आहार का सेवन गर्भवती महिला के लिए बहुत महत्वपूर्ण हो जाता है।

 

प्रेगनेंसी में महिला कुछ भी खाती या पीती है, तो उसका असर उसके बच्चे के विकास पर भी पड़ता है। इसलिए स्वस्थ आहार का सेवन करना चाहिए और प्रेगनेंसी में कैसी डाइट होनी चाहिए, इस बारे में डॉक्टर से जरूर सलाह ले।

 

प्रेगनेंसी के दौरान आहार में शामिल करें ये खाद्य पदार्थ

 

साबुत अनाज

 

  • साबुत अनाज में फाइबर, विटामिन बी-कॉम्प्लेक्स, कार्बोहाइड्रेट और मैग्नीशियम, लोहा और सेलेनियम पाए जाते है। यह खनिजों का सबसे अच्छा स्रोत हैं।

 

  • ये आपके बच्चे के स्वास्थ और विकास के लिए बहुत महत्वपूर्ण हैं। साबुत अनाज के उदाहरण भूरा चावल, जौ, गेहूं, बाजरा, और दलिया हैं।

 

फोलेट युक्त खाद्य पदार्थ

 

  • बच्चे के तंत्रिका ट्यूब के समुचित विकास के लिए फोलिक एसिड या फोलेट बहुत फायदेमंद होता है, बाद में, यह मस्तिष्क और रीढ़ की हड्डी में विकसित होता है। इसलिए अपने आहार में फोलेट युक्त खाद्य पदार्थों को शामिल जरूर करे।

 

  • हरे रंग की पत्तेदार सब्जियाँ, पालक, शतावरी, बीन्स, खट्टे फल, मटर, एवोकैडो, ब्रसेल्स स्प्राउट्स, दाल, और भिंडी आदि, ये सब कुछ फोलेट युक्त खाद्य पदार्थ हैं।

 

डेयरी उत्पाद

 

डेयरी उत्पाद विटामिन डी, कैल्शियम, स्वस्थ वसा, प्रोटीन और फोलिक एसिड का एक बड़ा स्रोत हैं। इसलिए, प्रेगनेंसी में अपने आहार में दूध और दही जरूर शामिल करें।

 

अंडा

 

अंडे में प्रोटीन, विटामिन ए, बी 2, बी 5, बी 6, बी 12, डी, ई, और के, और सेलेनियम, फॉस्फोरस और कैल्शियम जैसे खनिज पाए जाते है। प्रेगनेंसी में अपने आहार में अंडे को शामिल करें, इससे बच्चे के स्वस्थ विकास में मदद मिलेगी।

 

फल

 

फल में विटामिन और एंटीऑक्सिडेंट होते है, जो आपके बच्चे के विकास के लिए बहुत आवश्यक हैं। इसलिए गर्भावस्था के दौरान अपने आहार में कस्तूरी, एवोकाडो, अनार, केला, अमरूद, संतरा, मीठे नीबू, स्ट्रॉबेरी और सेब जैसे फल शामिल जरूर करें।

 

ड्राई फ्रूट्स

 

प्रेगनेंसी के दौरान प्रो‍टीन और डीएचए के लिए आप रात को मेवे भिगो कर उन्‍हें सुबह खा सकती हैं। अखरोट में काफी मात्रा में डीएचए पाया जाता है। जो कि बच्‍चे के दिमाग के विकास में बहुत जरूरी होता है।

 

ओमेगा-3

 

प्रेगनेंसी में महिला को सभी तरह के प्रोटीन और विटामिन के सेवन की सलाह दी जाती है, जिसमे ओमेगा-3 एसिड बहुत महत्वपूर्ण है। यह बच्‍चे के दिमाग के विकास के लिए बहुत जरूरी है।

 

गर्भवती महिला को दिन में दो से तीन बार भरपेट खाने के बजाए थोड़ा-थोड़ा खाना चाहिए। इससे पाचन की समस्या नहीं होती है। और रेगुलर एक्सरसाइज करनी चाहिए, जिससे शरीर में हार्मोन का संतुलन बना रहे। अगर प्रेगनेंसी में आपको कोई भी परेशानी हो, तो तुरंत डॉक्टर से जांच कराएं।

 

 

डॉक्टर से जरूर पूछे प्रेगनेंसी में कैसी होनी चाहिए गर्भवती महिला की डाइट। और साथ ही कुछ चीजें जैसे मांस, मछली, और पनीर, गाजर, आलू, मक्का, मटर, संतरे, अंगूर, तरबूज और जामुन, ब्रेड, अनाज, चावल का सेवन गर्भावस्था के दौरान अवश्य ही करना चाहिए। गर्भावस्था के दौरान डॉक्टर के कुछ उपयोगी टिप्स जरूर ध्यान में रखने चाहिए। साथ ही डॉक्टर की सलाह अनुसार अपने खान-पान में बदलाव भी करना चाहिए।

 

 


Doctor Consutation Free of Cost=

Disclaimer: GoMedii  एक डिजिटल हेल्थ केयर प्लेटफार्म है जो हेल्थ केयर की सभी आवश्यकताओं और सुविधाओं को आपस में जोड़ता है। GoMedii अपने पाठकों के लिए स्वास्थ्य समाचार, हेल्थ टिप्स और हेल्थ से जुडी सभी जानकारी ब्लोग्स के माध्यम से पहुंचाता है जिसको हेल्थ एक्सपर्ट्स एवँ डॉक्टर्स से वेरिफाइड किया जाता है । GoMedii ब्लॉग में पब्लिश होने वाली सभी सूचनाओं और तथ्यों को पूरी तरह से डॉक्टरों और स्वास्थ्य विशेषज्ञों द्वारा जांच और सत्यापन किया जाता है, इसी प्रकार जानकारी के स्रोत की पुष्टि भी होती है।