वायु प्रदूषण (Air Pollution) के कारण समय से पहले हो सकती है मौत: स्टडी

GoMedii Offer

 

वायु प्रदूषण

 

वायु प्रदूषण के कारण समय से पहले मरने वाले 28 प्रतिशत भारतीय हैं। ये मौतें एचआईवी, टीबी और मलेरिया से होने वाली कुल मौतों की तीन गुना हैं। ये मौतें प्रदूषित हवा में मौजूद 2.5 माइक्रोन या पीएम -2.5 से कम सूक्ष्म कणों के संपर्क में आने से होती हैं।

 

 

प्रदूषण मानव स्वास्थ्य के लिए एक बड़ी समस्या बनता जा रहा है। उसके कई कारण हैं। हवा में प्रदूषण का एक कारण प्राकृतिक धूल है। कारखानों या जंगल की आग के संचालन के कारण सभी प्रकार के हानिकारक कण हवा में प्रवेश करते हैं, जिससे पर्यावरण में प्रदूषण होता है। जब जंगल में आग लगती है, तो यह जंगल को जलाकर राख कर देता है और यह राख हवा में प्रवेश करते ही प्रदूषण फैला देती है।

 

 

बढ़ती आबादी के कारण प्रदूषण भी तेजी से बढ़ रहा है। जल या वायु के कारण प्रदूषण होता है या नहीं, इसने मनुष्यों के स्वास्थ्य को नष्ट कर दिया है। इस प्रदूषण की वजह से किसी को कैंसर है तो किसी को शुगर या दिल की बीमारी है। जब जनसंख्या बढ़ती है, तो यह आवश्यक है कि मानव की जरूरतें पूरी हों।

 

अध्ययनो के अनुसार

 

जहरीले वायु प्रदूषकों के संपर्क में आने से दिल और सांस की बीमारियों से होने वाली मौतों का खतरा बढ़ जाता है। शोधकर्ताओं ने यह कहा है। न्यू इंग्लैंड जर्नल ऑफ मेडिसिन में प्रकाशित अध्ययन को पूरा होने में 30 साल लगे। यह 24 देशों और क्षेत्रों के 652 शहरों में वायु प्रदूषण और मृत्यु दर के आंकड़ों का विश्लेषण करता है।

 

शोधकर्ताओं ने पाया कि कुल मौतों में वृद्धि साँस के कणों (PM10) और ठीक कणों (PM2.5) के संपर्क से जुड़ी है, जो आग से या वायुमंडलीय रासायनिक परिवर्तनों के माध्यम से उत्सर्जित होते हैं।

 

ऑस्ट्रेलिया में मोनाश विश्वविद्यालय में प्रोफेसर युमिंग गुओ ने कहा, “पार्टिकुलेट मैटर (पीएम) और मृत्यु दर के बीच संबंध की कोई सीमा नहीं है, जिससे वायु प्रदूषण के निम्न स्तर से मृत्यु का खतरा बढ़ सकता है।”

 

 

“छोटे कणों, आसान वे फेफड़ों में गहराई से प्रवेश कर सकते हैं और एक विषाक्त घटक के घूस के कारण मृत्यु की संभावना को बढ़ा सकते हैं,” गुओ ने कहा।

 

अध्ययन न्यू इंग्लैंड जर्नल ऑफ मेडिसिन में प्रकाशित हुआ है और मौतों पर वायु प्रदूषण के अल्पकालिक प्रभावों का पता लगाने के लिए अब तक का सबसे बड़ा अध्ययन है। यह अध्ययन 30 वर्षों में किया गया है।

 

वायु प्रदूषण से कैसे बचें

 

 

1. सरकार को ऐसी नीतियां बनानी चाहिए जिससे कर्मचारी घर से काम करें। सप्ताह में केवल एक बार कार्यालय जाएं। और अब यह सूचना प्रौद्योगिकी के आगमन के साथ संभव है। उदाहरण के लिए, अमेरिका के कॉर्पोरेट क्षेत्र में काम करने वाले 35% लोग सप्ताह में केवल एक दिन कार्यालय आते हैं। बाकी का काम घर पर ही होता है। जिसके कारण उनके परिवहन की कोई लागत नहीं है और साथ ही वायु प्रदूषण भी नहीं बढ़ता है। वे लोग आने वाले समय का उपयोग करते हैं और उनका उपयोग अन्य उद्देश्यों के लिए करते हैं। जैसे – बागवानी।

 

2. अधिक से अधिक साइकिल का प्रयोग करें।

 

3. सार्वजनिक परिवहन का उपयोग करें।

 

4. बच्चों को कार से स्कूल न छोड़ें, बल्कि उन्हें स्कूल ट्रांसपोर्ट में जाने के लिए प्रोत्साहित करें।

 

5. अपने घर के लोगों से कारपूल बनाने के लिए कहें ताकि वे एक ही कार में बैठकर ऑफिस जा सकें। इससे ईंधन की भी बचत होगी और प्रदूषण कम होगा।

 

6. अपने घरों के आसपास पेड़-पौधों की देखभाल ठीक से करें।

 

7. जब जरूरत न हो तो बिजली का उपयोग न करें।

 

8. जिस कमरे में कूलर पंखा या एयर कंडीशनिंग आवश्यक हो, वहां चलाएं, बाकी को बंद रखें।

 

9. यदि आपके बगीचे में सूखी पत्तियां हैं, तो उन्हें जलाएं नहीं, बल्कि खाद बनाएं।

 

10. हर तीन महीने के अंतराल पर अपनी कार के प्रदूषण की जांच करवाएं।

 

11. केवल सीसा रहित पेट्रोल का उपयोग करें। प्रदूषण का प्रभाव बाहर की तुलना में घरों में कम होता है, इसलिए जब प्रदूषण अधिक हो, तो घरों के अंदर जाएं।

 

 


Doctor Consutation Free of Cost=

Disclaimer: GoMedii  एक डिजिटल हेल्थ केयर प्लेटफार्म है जो हेल्थ केयर की सभी आवश्यकताओं और सुविधाओं को आपस में जोड़ता है। GoMedii अपने पाठकों के लिए स्वास्थ्य समाचार, हेल्थ टिप्स और हेल्थ से जुडी सभी जानकारी ब्लोग्स के माध्यम से पहुंचाता है जिसको हेल्थ एक्सपर्ट्स एवँ डॉक्टर्स से वेरिफाइड किया जाता है । GoMedii ब्लॉग में पब्लिश होने वाली सभी सूचनाओं और तथ्यों को पूरी तरह से डॉक्टरों और स्वास्थ्य विशेषज्ञों द्वारा जांच और सत्यापन किया जाता है, इसी प्रकार जानकारी के स्रोत की पुष्टि भी होती है।