WHO, आयुष्मान भारत योजना में तेजी लाने के लिए सरकार का करेगी सहयोग

 

केंद्र सरकार ने आयुष्मान भारत योजना (ABY) के तहत हर गरीब परिवार के सदस्यों को 5 लाख तक का हेल्थ इन्शुरन्स लाभ देने वायदा किया है, इस योजना के तहत 10 करोड़ गरीब परिवारों को 5 लाख का स्वास्थ्य बीमे की सुविधा दी जाएगी। सरकार इस योजना के तहत उपेक्षित परिवार और शहरी गरीब परिवारों को इसका लाभ देगी।

 

नई दिल्ली: डब्ल्यूएचओ (WHO) ने इंडिया कंट्री कोऑपरेशन स्ट्रैटेजी (COC)  ने 2019-2023 तक आयुष्मान भारत योजना में प्रगति  लाने के लिए सर्वोच्च रणनीतिक बनाई है। 9 अक्टूबर को जारी किए गए इस रणनीति दस्तावेज के अनुसार, आयुष्मान भारत  में स्वास्थ्य क्षेत्र में सुधार लाने के लिए ये कदम उठाया है,  इससे स्वास्थ्य सेवा वितरण के सभी पहलुओं पर ध्यान केंद्रित करने के साथ सर्वोच्च प्राथमिकता भी होगी।

 

इसमें अस्पताल की देखभाल की आवश्यकता वाले लोगों के लिए वित्तीय सुरक्षा प्रदान करना, उपेक्षित  रोगों को समाप्त करना, वैक्सीन-निवारक और वेक्टर जनित रोगों को नियंत्रित करना और डिजिटल स्वास्थ्य हस्तक्षेप सुनिश्चित करना और स्वास्थ्य देखभाल जैसी सभी सुविधा प्रदान की जाएगी।

 

देश की कंट्री कोऑपरेशन स्ट्रैटेजी (CCS) ने WHO के लिए एक रणनीतिक रोडमैप तैयार किया है, जो कि केंद्र सरकार के साथ अपने स्वास्थ्य क्षेत्र के लक्ष्यों को प्राप्त करने में उनकी मदद करेगा, आपको बता दें की देश की आबादी के स्वास्थ्य में सुधार लाने और स्वास्थ्य क्षेत्र में कोई बड़ा बदलाव लाने की दिशा में काम करेगा।

 

सीसीएस 2019से 23 की अवधि को कवर करेगा और यह भी देखेगा कि पिछले दो दशकों में स्वास्थ्य में कितना महत्वपूर्ण सुधार हुआ हैं।  जिसमें बच्चे और माता की मृत्यु दर में तेज या कमी, कई संक्रामक रोगों का उन्मूलन जैसे (पोलियो और नवजात को टेटनस, यवस) शामिल हैं। एचआईवी / एड्स की घटनाओं में गिरावट और 10 वर्षों में स्वास्थ्य सुविधाओं में होने वाले जन्म के कितने प्रतिशत बढ़ी है।

 

केंद्र सरकार ने अपनी राष्ट्रीय स्वास्थ्य नीति निर्माण करने वाले दस्तावेजों को 2017 में एक महत्वाकांक्षी लक्ष्यों की श्रृंखला पर निर्धारित किया है, जिसमें सार्वभौमिक स्वास्थ्यसुविधा, गरीब और कमजोर आबादी पर ज्यादा ध्यान केंद्रित करना और स्वास्थ्य पर सार्वजनिक खर्च को दोगुना करना जैसी चीजें शामिल है।

 

एक कार्यक्रम के दौरान, स्वास्थ्य मंत्री हर्षवर्धन ने कहा कि देश के साथ डब्ल्यूएचओ (WHO) के रणनीतिक सहयोग के लिए चार क्षेत्रों की पहचान की गई है। यूएचसी (UHC) पर प्रगति में तेजी लाने के लिए, स्वास्थ्य के निर्धारकों को संबोधित करके स्वास्थ्य और कल्याण को बढ़ावा देने के लिए, स्वास्थ्य आपात स्थितियों के खिलाफ आबादी को बेहतर ढंग से बचाने के लिए काम करेगा। साथ ही स्वास्थ्य के स्तर को भारत में बढ़ाने का काम भी करेगा।

 

हेंक बेकेडम जो की डब्ल्यूएचओ (WHO) में भारत का प्रतिनिधि कर रहे है उन्होंने कहा, “इस सीसीएस (CCS) के कार्यान्वयन से सार्वजनिक स्वास्थ्य में सफलताओं का निर्माण होगा, जिसे भारत ने दुनिया के सामने प्रदर्शित भी किया है। भारत के पास इसे प्रदर्शित करने का एक शानदार अवसर है। डिजिटल स्वास्थ्य, गुणवत्ता वाली दवाओं और चिकित्सा उत्पादों तक पहुँच, कोम्प्रिहैन्सिव हेपेटाइटिस कंट्रोल प्रोग्राम (comprehensive hepatitis control program) को आयुषमान भारत से जोड़ना एक अच्छी रणनीति साबित होगा।

 

डब्ल्यूएचओ (WHO) के दस्तावेज़ के अनुसार, सीसीएस (CCS) “न केवल उस काम को कर रहा है जो डब्ल्यूएचओ पिछले कई वर्षों से कर रहा है, बल्कि कुछ क्षेत्रों में नए या बढ़ते स्वास्थ्य मुद्दों, जैसे वायु प्रदूषण, बढ़ती आत्महत्या को पूरा करने के लिए अपने समर्थन दिखाता आया है।  UHC के लिए यह एक वास्तविकता चुनौती बनने वाला है।


Doctor Consutation Free of Cost=

Disclaimer: GoMedii  एक डिजिटल हेल्थ केयर प्लेटफार्म है जो हेल्थ केयर की सभी आवश्यकताओं और सुविधाओं को आपस में जोड़ता है। GoMedii अपने पाठकों के लिए स्वास्थ्य समाचार, हेल्थ टिप्स और हेल्थ से जुडी सभी जानकारी ब्लोग्स के माध्यम से पहुंचाता है जिसको हेल्थ एक्सपर्ट्स एवँ डॉक्टर्स से वेरिफाइड किया जाता है । GoMedii ब्लॉग में पब्लिश होने वाली सभी सूचनाओं और तथ्यों को पूरी तरह से डॉक्टरों और स्वास्थ्य विशेषज्ञों द्वारा जांच और सत्यापन किया जाता है, इसी प्रकार जानकारी के स्रोत की पुष्टि भी होती है।