बच्चों के पेट में कीड़े होने के लक्षण, कारण और बचने के उपाय

Safe20

 

 

बच्चों की मीठा खाने की वजह से उनके पेट में कीड़े हो जाते हैं। यदि आपके बच्चे के पेट में कीड़े हैं, तो इसमें आपको ज्यादा चिंता करने की कोई जरूरत नहीं है। ऐसे कई तरीके हैं जिनके द्वारा बच्चों के पेट में कीड़ों से छुटकारा पाया जा सकता है।

 

बच्चों के पेट में कीड़े होने का मुख्य कारण है उनकी खाने में लापरवाही। अक्सर, बच्चों के पेट में कीड़े होने के कोई लक्षण नहीं होते हैं, जिसके कारण यह पता नहीं चलता है कि ऐसा क्यों हुआ है। दरअसल बच्चों के पेट में कीड़े अलग-अलग तरह के इनफेक्शन से भी होते हैं। इसलिए आपको पहले इसके बारे में पता होना चाहिए।

 

 

 

बच्चों के पेट में कीड़े होने के लक्षण

 

 

 

  • यदि आपके बच्चे के पेट में बहुत ज्यादा कीड़े हैं, तो इसकी वजह से उनकी आंतों में रुकावट भी हो सकती है। कुछ बच्चों के पेट में कीड़े उल्टी के साथ बाहर निकल जाते हैं।

 

 

  • बच्चे बहुत ना समझ होते हैं कभी-कभी वह मिट्टी, चाक, कागज आदि खा लेते हैं इसकी वजह से भी पेट में कीड़े हो जाते हैं।

 

 

  • बहुत तेज और बार-बार पेट में दर्द होना

 

 

  • वजन घटना

 

 

 

 

  • चिड़चिड़ापन

 

 

  • जी मिचलाना

 

 

  • मल में रक्तस्राव

 

 

  • उल्टी या खांसी, यह संभव है कि कीड़ा खांसी या उल्टी के माध्यम से बाहर निकलते हैं

 

 

  • गुदा के आसपास खुजली या दर्द, जहां से कीड़े प्रवेश करते हैं। यह विशेष रूप से पिन वर्म के मामले में है

 

 

  • खुजली के कारण ठीक से नींद नहीं आना।

 

 

 

बच्चो के पेट में कीड़े होने के कारण

 

 

 

  • रात के समय चॉकलेट खाना

 

 

  • फास्ट फूड का अधिक सेवन

 

 

  • पौष्टिक भोजन का सेवन ना करना

 

 

  • पैकिट बंद चीजों का सेवन करना

 

 

  • गलसुआ (मम्प्स)

 

 

 

 

  • मीठी चीजों का सेवन ज्यादा करना

 

 

  • शरीर में आयरन की कमी

 

 

  • हेपेटाइटिस-ए का टीकाकरण

 

 

  • मैनिंजाइटिस (केंद्रीय तंत्रिका तंत्र में सूजन)

 

 

 

 

बच्चों के पेट  में कीड़े से बचने के उपाय

 

 

 

नीम के पत्ते : नीम के पत्ते एंटी-बायोटिक होते हैं जो पेट के कीड़ों को खत्म करते हैं। नीम के पत्तों को पीसकर उसमें शहद मिलाकर पीने से बच्चों को इसमें जल्दी लाभ होता है।

 

 

 

बच्चों के नाखूनों छोटा रखें : हमेशा इस बात का ध्यान रखें की आपके बच्चे के नाखून छोटे हो और हमेशा उनके हाथ साफ रखें। कीड़े लंबे नाखूनों में फंसे रह जाते हैं इसकी वजह से उन्हें अन्य बीमारियां भी हो सकती हैं।

 

 

 

साफ पानी पिलाएं : बच्चों को हमेशा साफ पानी पिलाएं या फिर आप पानी उबाल कर पानी को छान लें उसके बाद बच्चे को पिलाएं। आपको बता दें की भारत में पानी की वजह से ही ज्यादातर बच्चों के पेट में कीड़े होते हैं। इसलिए इस बात का ध्यान जरूर रखें।

 

 

 

काला नमक : आपको बता दें की एक चुटकी काला नमक और आधा ग्राम अजवायन का चूर्ण बना लें, फिर इस चूर्ण को रोजाना रात को गुनगुने पानी के साथ बच्चे को दें इससे बच्चों के पेट में कीड़े खत्म हो जाते हैं ।

 

 

 

अनार के छिलकों : अनार के छिलकों को सुखाकर उसका पाउडर बना लें। इस चूर्ण को एक चम्मच दिन में तीन बार बच्चे को दें। कुछ दिनों तक इसका सेवन करने से बच्चे के पेट में कीड़े पूरी तरह से मर जाते हैं और मल के रस्ते बाहर निकल जाते हैं।

 

 

 

टमाटर : टमाटर बड़ो के लिए तो फायदेमंद होता ही है इसके साथ ही वह छोटे बच्चे के लिए भी बहुत फायदेमंद होते हैं जब बच्चो के पेट में कीड़ों हो जाते हैं तो यह टमाटर का सेवन करने से नष्ट हो जाते हैं। टमाटर को काटकर उसमें सेंधा नमक और काली मिर्च पाउडर मिलाएं और इसे खाएं। इस चूर्ण को लेने से पेट के कीड़े मर जाते हैं।

 

 

 

अजवाइन और नीम : अजवाइन और नीम का सेवन करके पेट के कीड़ों को खत्म किया जा सकता है। ध्यान रखें कि बच्चे को जमीन में पड़े अशुद्ध भोजन का सेवन नहीं करना चाहिए। क्योंकि जमीन पर बहुत गंदगी होती है जब बच्चे जमीन से उठा कर उस चीज को खाते हैं तो इससे वह और भी बीमार हो सकते है।

 

 

 

बच्चों के पेट में कीड़े होने पर उन्हें खाना बिल्कुल भी अच्छा नहीं लगता है और इसकी वजह से उनका पूरा स्वस्थ खराब हो जाता है। इसके कारण उन्हें अन्य तरह की स्वास्थ्य समस्या भी होती है। इसलिए आपको बच्चे को डॉक्टर को भी दिखाना चाहिए। इसके अलावा आप इन उपायों को भी कर सकते हैं। यदि इन उपायों से आराम नहीं मिलता है, तो आप हमारे डॉक्टर से भी सलाह लें सकते हैं


Doctor Consutation Free of Cost=

Disclaimer: GoMedii  एक डिजिटल हेल्थ केयर प्लेटफार्म है जो हेल्थ केयर की सभी आवश्यकताओं और सुविधाओं को आपस में जोड़ता है। GoMedii अपने पाठकों के लिए स्वास्थ्य समाचार, हेल्थ टिप्स और हेल्थ से जुडी सभी जानकारी ब्लोग्स के माध्यम से पहुंचाता है जिसको हेल्थ एक्सपर्ट्स एवँ डॉक्टर्स से वेरिफाइड किया जाता है । GoMedii ब्लॉग में पब्लिश होने वाली सभी सूचनाओं और तथ्यों को पूरी तरह से डॉक्टरों और स्वास्थ्य विशेषज्ञों द्वारा जांच और सत्यापन किया जाता है, इसी प्रकार जानकारी के स्रोत की पुष्टि भी होती है।