बरसात के मौसम में फ्लू से कैसे बचें, जानिए आसान उपाय ?

Safe20

 

 

 

हम सब जानते हैं कि बारिश का मौसम आने वाला है और बरसात के मौसम में किसी को भी फ्लू हो सकता है। इसके साथ ही इस मौसम में मलेरिया और डेंगू का खतरा भी बढ़ जाता है। बरसात के मौसम में फ्लू से कैसे बचें, आज हम आपको इससे जुड़े कुछ आसान उपाय बताएंगे।

 

आपको बता दें की आयुष मंत्रालय ने वायरल, फ्लू और वायरस से बचने के लिए कई स्वदेशी तरीके बताएं हैं। लेकिन फिर भी कुछ लोग लापरवाही करते हैं जिसके बाद वह बीमार हो जाते हैं। अगर हम कोरोना वायरस की बात करें तो इसके लक्षण भी कुछ फ्लू जैसे ही होते हैं। इसलिए हमें बहुत सावधान रहने की जरूरत है।

 

 

 

बरसात के मौसम में फ्लू के लक्षण

 

 

बरसात के मौसम में मानसून में बदलाव होने के कारण फ्लू होता है जिसके लक्षण इस प्रकार हैं :

 

 

  • छींक आना

 

 

  • खाँसी आना

 

 

  • ठंड लगना

 

 

 

 

  • नाक बहना

 

 

 

 

  • सो कर उठने के बाद शरीर टूटना

 

 

 

 

  • बुखार

 

 

 

बरसात के मौसम में फ्लू के कारण

 

 

  • बहुत अधिक ठंडा पानी पीना

 

 

  • पसीना आने पर ठंडा पानी पीना

 

 

  • पसीनें में नहाना

 

 

  • अचानक तेज गर्मी से एसी (AC) वाले कमरे में जाना (वातावरण में बदलाव)

 

 

  • ठंडी चीजों का सेवन ज्यादा करना।

 

 

 

बरसात के मौसम में फ्लू से कैसे बचें

 

 

आपको बता दें की बरसात के मौसम में फ्लू से कैसे बचें, इसके लिए स्वास्थ्य मंत्रालय ने कहा कि बारिश के मौसम में अपने शरीर की सुरक्षा के लिए आपको अधिक पौष्टिक खाद्य पदार्थों का सेवन करना चाहिए जो आपकी प्रतिरक्षा प्रणाली को मजबूत करता है। पौष्टिक भोजन विषैले पदार्थों के खिलाफ एंटीबॉडी का उत्पादन करके शरीर को कीटाणुओं से लड़ने में मदद करता है।

 

 

 

गुनगुना पानी पीएं

 

यदि आप बरसात के मौसम में फ्लू से बचना चाहते हैं, तो आपको गुनगुना पानी पीना चाहिए। आप चाहें तो इसे थोड़ा ज्यादा गर्म कर लें और इसमें हल्दी पाउडर, अदरक पाउडर और एक चम्मच शहद मिलाएं। यह एंटीबैक्‍टीरियल होता है जो न केवल खांसी को ठीक करने में मदद करता है बल्कि शरीर के दर्द, फ्लू और सिरदर्द में भी काफी आराम मिलता है।

 

 

 

अदरक वाली चाय

 

ऐसे बहुत से लोग है जो गर्मी के दिनों में भी दो बार चाय पीते हैं उन लोगों को अपने दिन की शुरुआत अदरक वाली चाय का सेवन करके करनी चाहिए। बल्कि ये बरसात के मौसम में फ्लू से बचने का बहुत अच्छा उपाय है और आप चाहें तो इसे दिन में 2 बार भी कर सकते हैं।

 

 

 

हल्‍दी वाला दूध

 

मौसम बदलने पर फ्लू होना सामान्‍य बात है। लेकिन आप फ्लू के लक्षणों को दूर करने के लिए हल्‍दी वाले दूध का सेवन करें। आपको बता दें की हल्‍दी एंटीबैक्टीरियल और एंटीबायोटिक गुणों से भरपूर होती है। बरसात के मौसम में सर्दी, खांसी और इन्‍फ्लूएंजा वायरस को दूर रखने के लिए हल्दी वाले दूध का सेवन बहुत कारगर उपायों में से एक है। इसके सेवन से आप बरसात के मौसम में फ्लू से बचें रह सकते हैं।

 

 

 

काली मिर्च और लौंग 

 

यदि आप बरसात के मौसम में फ्लू से बचना चाहते हैं तो आपको इसके लिए रोजाना सुबह 1 काली मर्च और 1 लौंग का सेवन गुनगने पानी से करना होगा, ये आपकी गले की खराश को खत्म करता है। इसके साथ ही ये रोगों से लड़ने में मदद करता है और इम्युनिटी भी बढ़ाता है।

 

 

 

आइसक्रीम और बहुत अधिक ठंडा पानी का सेवन ना करें

 

ज्यादातर डॉक्टरों का मानना है कि बरसात के मौसम में फ्लू उन्हीं लोगों को होता है जो अक्सर आइसक्रीम और बहुत अधिक ठंडे पानी का सेवन करते हैं तो ये आपको बीमार कर सकता है। इसलिए आपको बरसात के मौसम में इस बात का बहुत ध्यान रखना चाहिए। आप चाहें तो पानी मिक्स करके भी पी सकते हैं।

 

 

 

आपको ये तो पता चल गया कि बरसात के मौसम में फ्लू से कैसे बचना है। इसके साथ ही आपको अपने पूरे स्वास्थ्य का बहुत ध्यान रखना चाहिए। वहीं इस मौसम में मलेरिया और डेंगू जैसी बीमारियों का खतरा बढ़ जाता है। ऐसे में आयुष मंत्रालय ने बरसात में वायरल, फ्लू और वायरस से बचने के कई देसी उपाय बताए हैं। अगर इन देसी उपायों से आपको आराम नहीं मिलता है, तो आपको तुरंत डॉक्टर से सलाह लेनी चाहिए, इसके लिए आप हमारे डॉक्टर से भी सलाह ले सकते हैं।


Doctor Consutation Free of Cost=

Disclaimer: GoMedii  एक डिजिटल हेल्थ केयर प्लेटफार्म है जो हेल्थ केयर की सभी आवश्यकताओं और सुविधाओं को आपस में जोड़ता है। GoMedii अपने पाठकों के लिए स्वास्थ्य समाचार, हेल्थ टिप्स और हेल्थ से जुडी सभी जानकारी ब्लोग्स के माध्यम से पहुंचाता है जिसको हेल्थ एक्सपर्ट्स एवँ डॉक्टर्स से वेरिफाइड किया जाता है । GoMedii ब्लॉग में पब्लिश होने वाली सभी सूचनाओं और तथ्यों को पूरी तरह से डॉक्टरों और स्वास्थ्य विशेषज्ञों द्वारा जांच और सत्यापन किया जाता है, इसी प्रकार जानकारी के स्रोत की पुष्टि भी होती है।