छाती के इन्फेक्शन को ठीक करने के घरेलू उपाय।

Safe20

हमारे श्वसन पथ के निचले हिस्से में छाती में संक्रमण हो सकता है, जिसमें विंडपाइप, ब्रोंची(बड़े और मध्यम आकार के वायुमार्ग) और फेफड़े शामिल हैं। ब्रोंकाइटिस(Bronchitis) और निमोनिया(Pneumonia) छाती के संक्रमण(Chest infection) के सबसे आम प्रकार हैं जो हल्के से गंभीर तक भिन्न हो सकते हैं। घरेलू उपचार से भी चेस्ट इन्फेक्शन को ठीक किया जा सकता है। सीने में संक्रमण के कुछ लक्षण खांसी, पीले या हरे रंग के बलगम वाले हिस्से में होते हैं, सांस लेने में कठिनाई, छाती के हिस्से में परेशानी महसूस करना, सिरदर्द, बुखार, मांसपेशियों में दर्द, थकान आदि। आमतौर पर बैक्टीरिया या वायरल संक्रमणों से सीने में संक्रमण हो सकता है।

 

छाती में जकड़न और भारीपन के कारण।

 

  • तनाव
  • अपच
  • निमोनिया
  • हेपेटाइटिस
  • चिंता
  • हार्ट अटैक
  • छाती में दर्द
  • पसली में सूजन
  • पित्ताशय में संक्रमण

 

 

छाती में संक्रमण से बचने के घरेलू उपाय।

 

 

प्याज, नींबू और शहद

 

छाती में संक्रमण होने पर प्याज, नींबू का रस और शहद लें। यह बिना किसी दुष्प्रभाव के छाती के संक्रमण को जड़ से खत्म कर देगा। आप इस मिश्रण को अपनी ज़रूरत के अनुसार दिन में दो या तीन बार भी ले सकते हैं।

 

नीलगिरी का तेल

 

नीलगिरी का तेल एक प्रकार की जड़ी बूटी है जिसमें जीवाणुरोधी और एंटीफंगल तत्व होते हैं। इस तेल को गर्म पानी में भाप लें। इससे छाती का संक्रमण धीरे-धीरे ठीक होने लगेगा और आप आसानी से सांस ले पाएंगे।

 

लहसुन

 

लहसुन के सेवन से शरीर की प्रतिरोधक क्षमता बढ़ती है और साथ ही इसमें एंटीऑक्सीडेंट तत्व(Antioxidant elements) होते हैं जो शरीर को बैक्टीरिया(Bacteria) होता है। यह छाती के संक्रमण को आसानी से ठीक कर सकता है।

 

हल्दी और गर्म दूध

 

हल्दी एंटी माइक्रोबियल(Anti microbial) है, इसलिए इसे गर्म दूध के साथ लेने से अस्थमा, ब्रोंकाइटिस, फेफड़ों में कफ और साइनस जैसी समस्याओं से राहत मिलती है। यह बैक्टीरिया और वायरल संक्रमणों(Viral infections) से लड़ने में मदद करता है।

 

अदरक और शहद

 

जब छाती में कफ या किसी प्रकार का संक्रमण हो, तो इससे छुटकारा पाने के लिए पिसी हुई अदरक में शहद मिलाकर खाएं। अदरक के रस(Ginger juice) को आप शहद में मिलाकर थोड़ा-थोड़ा करके खा सकते हैं इससे समस्या से छुटकारा मिलेगा।

 

नींबू

 

छाती के बलगम या संक्रमण के मामले में नींबू का सेवन बहुत फायदेमंद होता है। इसमें मौजूद तत्व संक्रमण से छुटकारा दिलाने में मददगार होते हैं। गुनगुने पानी में नींबू निचोड़कर चूना पिएं। इससे बीमारियों से लड़ने की क्षमता पैदा होगी और आप तनाव मुक्त(stress free) महसूस करेंगे।

 

नमक के पानी से गरारे करें। 

 

ज्यादातर लोग सीने में संक्रमण के दौरान इस नुस्खे को अपनाते हैं। गर्म पानी में थोड़ा नमक डालकर गरारे करने से श्वसन नली से बलगम बाहर निकलता है, जिससे आपको काफी आराम मिलता है। एक गिलास गर्म पानी में एक या दो चम्मच नमक डालें।

 

सेब का सिरका

 

सेब का सिरका एक भूरे रंग का तरल है जो सेब में खमीर(Yeast) के उदय से बनता है। सेब के सिरके का उपयोग संक्रमणों के इलाज की क्षमता के कारण हजारों वर्षों से किया जाता रहा है। ठंड के कारण छाती के संक्रमण से बचने के लिए सेब के रस के सिरके को शहद के साथ लेने की सलाह दी जाती है।

 

हर्बल टी 

 

छाती के संक्रमण के लिए हर्बल चाय(Herbal tea) बहुत फायदेमंद है। इसमें मौजूद विभिन्न प्रकार की जड़ी-बूटियां छाती के संक्रमण से राहत देती हैं और राहत प्रदान करती हैं। इसमें अदरक, कैमोमाइल आदि जड़ी-बूटियां(Herbs) संक्रमण पैदा करने वाले बैक्टीरिया को खत्म करती हैं।

 

तुलसी

 

तुलसी और बांसा (5 ग्राम प्रत्येक) के पत्तों को पीसकर, पानी में मिलाकर काढ़ा तैयार करें। इसके नियमित सेवन से छाती में संक्रमण धीरे-धीरे ठीक हो जाएगा और आप पहले से बेहतर महसूस करेंगे।


Doctor Consutation Free of Cost=

Disclaimer: GoMedii  एक डिजिटल हेल्थ केयर प्लेटफार्म है जो हेल्थ केयर की सभी आवश्यकताओं और सुविधाओं को आपस में जोड़ता है। GoMedii अपने पाठकों के लिए स्वास्थ्य समाचार, हेल्थ टिप्स और हेल्थ से जुडी सभी जानकारी ब्लोग्स के माध्यम से पहुंचाता है जिसको हेल्थ एक्सपर्ट्स एवँ डॉक्टर्स से वेरिफाइड किया जाता है । GoMedii ब्लॉग में पब्लिश होने वाली सभी सूचनाओं और तथ्यों को पूरी तरह से डॉक्टरों और स्वास्थ्य विशेषज्ञों द्वारा जांच और सत्यापन किया जाता है, इसी प्रकार जानकारी के स्रोत की पुष्टि भी होती है।