अर्थराइटिस का इलाज कैसे होता है और दिल्ली एनसीआर में कहां कराएं इलाज

GoMedii

आज दुनिया भर में लाखों लोग अर्थराइटिस से पीड़ित हैं। बदलती जीवनशैली, मोटापा, गलत खान-पान की वजह से यह बीमारी अब सिर्फ बुजुर्गों तक ही सीमित नहीं रह गई है। युवा भी इसकी चपेट में आ रहे हैं। अर्थराइटिस शब्द का वास्तविक अर्थ जोड़ों में सूजन है। इसे गठिया या जोड़ो का रोग भी कहते हैं। जब बिना चोट के चलने में कठिनाई होती है, तो जोड़ों में दर्द होता है और शरीर के जोड़ यानि कंधा,  को कार्य करने में कठिनाई होती है, तो आप अर्थराइटिस के शिकार हो सकते हैं। यह एकल जोड़ या एकाधिक जोड़ों को प्रभावित कर सकता है।

 

 

अर्थराइटिस के लक्षण क्या हैं? (What are the symptoms of arthritis in Hindi)

 

 

  • वजन कम होना

 

  • सांस लेने में तकलीफ होना

 

  • त्वचा पर रैशेज भी हो सकते हैं

 

  • प्रभावित जगह लाल रंग की हो जाती है

 

  • जोड़ों के आसपास गांठें भी बन सकती हैं

 

  • पीड़ित व्यक्ति को बार-बार बुखार आ सकता है

 

  • कुछ लोगों में सुबह के समय यह दर्द ज्यादा होता है

 

  • सूजन व दर्द के कारण चलना-फिरना मुश्किल हो जाता है

 

  • जल्दी थकान हो जाना और इम्यून सिस्टम का कमजोर होना

 

  • जिस जगह गठिया हुआ है, उस जोड़ में भारीपन महसूस हो सकता है।

 

 

अर्थराइटिस का इलाज कैसे होता है? (How Arthritis is Treated in Hindi)

 

अर्थराइटिस के इलाज के लिए कई तरह की सर्जरी उपलब्ध हैं। आपके लिए सबसे अच्छा विकल्प कई कारकों पर निर्भर करता है, जिनमें शामिल हैं:

 

  • प्रभावित जोड़ का इलाज

 

  • अर्थराइटिस की दुर्बलता कितनी गंभीर है

 

  • मरीज का समग्र स्वास्थ्य

 

  • उम्र

 

  • अन्य व्यक्तिगत जोखिम कारक

 

अर्थराइटिस के इलाज के लिए की जाने वाली सर्जरी में शामिल है:

 

आर्थ्रोस्कोपी

 

आर्थोस्कोपिक प्रक्रिया को एक आर्थ्रोस्कोप नामक उपकरण के साथ किया जाता है। अंत में एक प्रकाश के साथ एक पतली, लचीली ट्यूब का इस्तेमाल किया जाता है। सर्जन इस उपकरण को एक छोटे चीरे के माध्यम से विस्तृत कार्य करने के लिए मार्गदर्शन करते हैं जैसे कि हड्डी के टूटे हुए टुकड़ों को निकालना या क्षतिग्रस्त स्नायुबंधन की मरम्मत करना।

 

टोटल जॉइंट रिप्लेसमेंट (टोटल जॉइंट आर्थ्रोप्लास्टी)

 

टोटल जॉइंट रिप्लेसमेंट (TJR) क्षतिग्रस्त जोड़ को धातु, प्लास्टिक या सिरेमिक से बने कृत्रिम (Synthetic) इम्प्लांट से बदल देता है। टीजेआर अक्सर घुटने या कूल्हे पर किया जाता है, लेकिन कहीं और किया जा सकता है। टोटल नी रिप्लेसमेंट से जीवन की गुणवत्ता और गतिशीलता में सुधार करते हुए दर्द को कम किया जा सकता है।

 

पार्शियल जॉइंट रिप्लेसमेंट 

 

पार्शियल जॉइंट रिप्लेसमेंट आपके पूरे जोड़ के बजाय केवल आपके घुटने या कूल्हे के हिस्से को बदला जाता है। घुटने के लिए, इसे करने का सबसे आम तरीका आंतरिक या बाहरी डिब्बे को हटाना है। कूल्हे के लिए, संयुक्त सॉकेट को धातु के कप से बदल दिया जाता है, और जोड़ की कटोरी को धातु की परत से ढक दिया जाता है।

 

ऑस्टियोटॉमी

 

ऑस्टियोटॉमी में आपकी एक या अधिक हड्डियों को काटना, या आपके क्षतिग्रस्त जोड़ के पास एक कील जोड़ना, आगे की क्षति को रोकने के लिए शामिल है। उदाहरण के लिए, घुटने के अस्थि-पंजर में जोड़ पर दबाव को कम करने के लिए आपकी पिंडली की हड्डी या ऊपरी पैर की हड्डी को काटना और फिर से आकार देना शामिल है।

 

 

अर्थराइटिस के इलाज के लिए दिल्ली एनसीआर के बेस्ट हॉस्पिटल (Best Hospitals in Delhi NCR for Treatment of Arthritis in Hindi)

 

 

यदी आप अर्थराइटिस का इलाज कराना चाहते हैं तो आप हमारे द्वारा बताए गए इनमें से कोई भी हॉस्पिटल में अपना इलाज करवा सकते हैं:

 

अर्थराइटिस के इलाज के लिए गुरुग्राम के बेस्ट अस्पताल

 

  • नारायण सुपरस्पेशलिटी अस्पताल, गुरुग्राम

 

  • मेदांता द मेडिसिटी, गुरुग्राम

 

  • फोर्टिस हेल्थकेयर लिमिटेड, गुरुग्राम

 

  • पारस अस्पताल, गुरुग्राम

 

अर्थराइटिस के इलाज के लिए दिल्ली के बेस्ट अस्पताल

 

  • बीएलके-मैक्स सुपर स्पेशलिटी अस्पताल, राजिंदर नगर, दिल्ली

 

  • इंद्रप्रस्थ अपोलो अस्पताल, सरिता विहार, दिल्ली

 

  • फोर्टिस हार्ट अस्पताल, ओखला, दिल्ली

 

  • मैक्स सुपर स्पेशलिटी अस्पताल, साकेत, दिल्ली

 

अर्थराइटिस के इलाज के लिए ग्रेटर नोएडा के बेस्ट अस्पताल

 

  • शारदा अस्पताल, ग्रेटर नोएडा

 

  • यथार्थ अस्पताल, ग्रेटर नोएडा

 

  • बकसन अस्पताल, ग्रेटर नोएडा

 

  • जेआर अस्पताल, ग्रेटर नोएडा

 

  • प्रकाश अस्पताल, ग्रेटर नोएडा

 

  • दिव्य अस्पताल, ग्रेटर नोएडा

 

  • शांति अस्पताल, ग्रेटर नोएडा

 

यदि आप इनमें से कोई अस्पताल में इलाज करवाना चाहते हैं तो हमसे व्हाट्सएप (+91 9654030724) पर संपर्क कर सकते हैं।

 

 

अर्थराइटिस का कारण (Cause of arthritis in Hindi)

 

अर्थराइटिस में जोड़ों में काफी दर्द होता है, जिसे सहन करना कई बार मुश्किल हो जाता है। कभी-कभी यह जोड़ों में अधिक यूरिक एसिड के जमा होने, हड्डियों में कैल्शियम की कमी, सूजन, जोड़ों के दर्द के कारण होता है। इसे नजरअंदाज करने से अर्थराइटिस या आर्थराइटिस की समस्या होने लगती है। आजकल की भागदौड़ भरी लाइफस्टाइल में गलत खान-पान की वजह से गठिया की बीमारी बढ़ती जा रही है। कुछ साल पहले गठिया बुजुर्गों के लिए एक समस्या हुआ करती थी, लेकिन अब यह कम उम्र के लोगों को भी होने लगी है।

 

 

अर्थराइटिस के प्रकार (Types of arthritis in Hindi)

 

रूमेटाइड अर्थराइटिस

यह रोग अर्थराइटिस का सबसे आम गंभीर रूप है। इसका प्रभावी उपचार समय पर प्राप्त करना आवश्यक है, अन्यथा रोग बढ़ने पर शरीर के जोड़ एक वर्ष के भीतर क्षतिग्रस्त हो जाते हैं।

 

सोरियाटिक अर्थराइटिस

अर्थराइटिस के दर्द का यह रूप सोरायसिस के साथ विकसित होता है। समय पर और ठीक से इलाज न करने पर यह बीमारी काफी घातक और लाइलाज हो जाती है।

 

ऑस्टियोपोरोसिस

इस प्रकार का गठिया अनुवांशिक हो सकता है। यह उम्र के साथ दिखाई देता है। यह विशेष रूप से शरीर के वजन बढ़ने वाले हिस्सों जैसे पीठ, कमर, घुटनों और पैरों को प्रभावित करता है।

 

पोलिमेल्जिया रुमेटिका

यह 50 की उम्र पार कर चुके लोगों को होता है। इसमें गर्दन, कंधे और कमर में असहनीय दर्द होता है और इन अंगों को हिलाने में भी परेशानी होती है। अगर सही समय पर सही इलाज किया जाए तो इस बीमारी का निदान किया जा सकता है। लेकिन कई कारणों से आमतौर पर इसका इलाज संभव नहीं हो पाता है।

 

रीढ़ की हड्डी के जोड़ों की निरोधात्मक सूजन

यह रोग आमतौर पर पीठ के जोड़ों और शरीर के निचले हिस्से में होता है। दर्द हल्का होता है लेकिन स्थिर रहता है। यह इलाज योग्य है लेकिन सही समय पर इसका पता लगाया जा सकता है और इलाज किया जा सकता है।

 

प्रतिक्रियाशील गठिया (Reactive arthritis)

शरीर में किसी भी तरह का संक्रमण फैलने पर रिएक्टिव आर्थराइटिस होने का खतरा रहता है। आंतों या जननांगों में संक्रमण के बाद इसके होने की संभावना अधिक होती है। इसमें सही इलाज काफी कारगर साबित होता है।

 

अर्थराइटिस या गांठ

गांठदार गठिया तब होता है जब जोड़ों में मोनोसोडियम यूरेट क्रिस्टल का निर्माण होता है। कुछ दिनों तक खान-पान में परिवर्तन करने और कुछ सहायक औषधियों का सेवन करने से यह रोग ठीक हो जाता है।

 

स्यूडोगाउट

यह रूमेटोइड और गठिया के समान है। स्यूडोगाउट में जोड़ों का दर्द जोड़ों में कैल्शियम पाइरोफॉस्फेट या हाइड्रोपेटाइट क्रिस्टल के जमा होने के कारण होता है।

 

सिस्टमिक लुपस (systemic lupus)

यह एक ऑटोइम्यून बीमारी है जो जोड़ों के अलावा त्वचा और शरीर के अन्य हिस्सों को प्रभावित करती है। यह प्रसव उम्र की महिलाओं में होता है। वैसे तो यह एक जानलेवा बीमारी है, लेकिन समय रहते इसकी पहचान कर इसे नियंत्रण में रखा जा सकता है।

 

 

अर्थराइटिस का पता लगाने के लिए टेस्ट (Tests to Detect Arthritis in Hindi)

 

 

कुछ प्रमुख परीक्षणों के आधार पर रोग का निदान किया जाता है। यदि रक्त में यूरिक एसिड का स्तर अधिक है, तो इसका मतलब है कि व्यक्ति गठिया से पीड़ित है। श्लेष द्रव, जिसे श्लेष द्रव भी कहा जाता है, जोड़ों के बीच पाया जाता है। यह परीक्षण इस तरल पदार्थ को जोड़ के अंदर से लेकर किया जाता है, जिसमें मोनोसोडियम यूरेट क्रिस्टल होते हैं। कभी-कभी यूरिक एसिड भी पेशाब में पाया जाता है, जो टेस्ट में गठिया का पता लगा सकता है।

जहां सूजन होती है वहां एक्स-रे किया जाता है। एडवांस्ड अर्थराइटिस (advanced arthritis) में, एक्स-रे एक अच्छा विकल्प होता है। अर्थराइटिस के रोगी को मांसाहारी भोजन, दाल, पनीर और टमाटर के साथ-साथ शराब और धूम्रपान से का सेवन नहीं करना चाहिए। पौष्टिक आहार का सेवन करना चाहिए और  पर्याप्त मात्रा में पानी पीना चाहिए । यदि आपके शरीर का वजन ज्यादा है तो आपको उसे कम करना चाहिए या अपने वजन को नियंत्रित रखना चाहिए।

 

यदि आप अर्थराइटिस का इलाज की तलाश कर रहे हैं तो बस इससे सम्बंधित किसी भी तरह की जानकारी पाना चाहते हैं तो हमसे व्हाट्सएप (+91 9654030724) पर संपर्क करें। आप हमारी सेवाओं के संबंध में हमें Connect@gomedii.com पर ईमेल भी कर सकते हैं। हमारी टीम जल्द से जल्द आपके पास वापस आएगी।

 
Doctor Consutation Free of Cost=

Disclaimer: GoMedii  एक डिजिटल हेल्थ केयर प्लेटफार्म है जो हेल्थ केयर की सभी आवश्यकताओं और सुविधाओं को आपस में जोड़ता है। GoMedii अपने पाठकों के लिए स्वास्थ्य समाचार, हेल्थ टिप्स और हेल्थ से जुडी सभी जानकारी ब्लोग्स के माध्यम से पहुंचाता है जिसको हेल्थ एक्सपर्ट्स एवँ डॉक्टर्स से वेरिफाइड किया जाता है । GoMedii ब्लॉग में पब्लिश होने वाली सभी सूचनाओं और तथ्यों को पूरी तरह से डॉक्टरों और स्वास्थ्य विशेषज्ञों द्वारा जांच और सत्यापन किया जाता है, इसी प्रकार जानकारी के स्रोत की पुष्टि भी होती है।