किस करने से भी फैल सकता है गोनोरिया: स्टडी

 

 

जाने क्या है गोनोरिया

 

 

गोनोरिया (Gonorrhea) या सूजाक एक यौन संचारित जीवाणु (Transmitted bacteria) के कारण होने वाला संक्रमण है, जो पुरुषों और महिलाओं दोनों को संक्रमित कर सकता है। गोनोरिया या सूजाक अक्सर मूत्रमार्ग, मलाशय या गले को प्रभावित करता है। महिलाओं में, गोनोरिया गर्भाशय को भी संक्रमित कर सकता है।

 

गोनोरिया या सूजाक सेक्स के दौरान सबसे ज्यादा सामने आता है। लेकिन अगर जन्म देने वाली महिला इस रोग से संक्रमित है, तो बच्चे के जन्म के दौरान बच्चे संक्रमित हो सकते हैं। बच्चों में, गोनोरिया आमतौर पर आंखों को प्रभावित करता है।

 

 

अध्ययनों के अनुसार

 

 

  • क्या आप अनुमान लगा सकते हैं कि किस करने से भी गोनोरिया नाम की बीमारी फैल सकती है? हाल ही में जो एक स्टडी आयी है वह तो कुछ ऐसा ही दावा करती है।

 

  • एक हालिया अध्ययन एक ऐसे ही दावे के साथ आया है। गोनोरिया यानि सूजाक एक यौन संचारित रोग है जो कि निसेरिया गोनोरिया (Neisseria gonorrhoeae) नामक वायरस से फैलता है। यह बीमारी महिला और पुरुषों में प्रजनन मार्ग के जरिए या फिर सेक्स के दौरान फैलती है और मूत्रमार्ग के अलावा गले और गुदा को प्रभावित करता है।

 

  • अध्ययन के बारे में बात करते हैं। पत्रिका ‘द लांसेट’ में प्रकाशित इस अध्ययन में 3600 से अधिक पुरुषों पर अध्ययन किया गया है, जिन्होंने मार्च 2016 से 12 महीने की अवधि में पुरुषों के साथ यौन संबंध बनाए हैं। परिणामस्वरूप यह देखा गया कि उन लोगों में गोनोरिया का जोखिम अधिक था, जो सिर्फ पार्टनर को किस करते हैं। जबकि उन लोगों में बीमारी का खतरा ज्यादा देखा गया, जो किस करने के बाद भी सेक्स करते हैं। वहीं, केवल सेक्स करने वाले लोगों में इस बीमारी का कोई खतरा नहीं था।

 

 

पुरुषों में गोनोरिया संक्रमण के लक्षण

 

 

  • मूत्र त्याग करने में दर्द।

 

  • अगर गॉनोरिया का असर आंखों तक पहुंच गया है तो आंखों से पस निकलने लगता है।

 

  • अंडकोष में दर्द या सूजन।

 

 

महिलाओं में गोनोरिया संक्रमण के लक्षण

 

 

  • योनि स्राव में वृद्धि।

 

  • मूत्र त्याग करने में दर्द।

 

  • योनि संभोग के बाद अवधि के बीच योनि से खून बहना।

 

 

गॉनोरिया रोग के कारण

 

 

गोनोरिया बैक्टीरिया अक्सर मौखिक, गुदा या योनि संभोग के दौरान एक व्यक्ति से दूसरे में जाता है।

 

 

गॉनोरिया रोग के जोखिम

 

 

गोनोरिया संक्रमण के जोखिम को बढ़ाने वाले कारकों में शामिल हैं, उदाहरण के लिए,

 

  • छोटी उम्र

 

  • एक नया सेक्स पार्टनर

 

  • एक यौन साथी जो एक समवर्ती साथी है

 

  • मल्टीपल सेक्स पार्टनर

 

  • पिछले सूजाक निदान

 

 

गोनोरिया से बचाव करने के तरीके

 

 

योनिशोथ

 

महिलाओं में सुजाक से योनिशोथ भी हो जाता है। जनन अंग की जाँच करने से मूत्रपथ में पीप दिखाई देती है। इसके अलावा, मूत्रमार्ग में दर्द दर्दनाक होता है। सूजन के कारण, महिला को योनि और श्रोणि (पेल्विक) में तेज दर्द हो सकता है। कुछ मामलों में, गर्भाशय ग्रीवा से गर्भाशय ग्रीवा से प्रवाह करने के लिए स्पैकुलम की परीक्षा देखी जा सकती है।

 

नियमित जांच कराएं

 

यदि आप कई लोगों के साथ जुड़ रहे हैं तो नियमित रूप से अपना चेकअप कराना जरूरी है। यह गोनोरिया के लिए सबसे महत्वपूर्ण उपाय है। हर 3 से 6 महीने में जाँच करें।

 

 

सावधान रहे

 

 

कभी-कभी कंडोम का इस्तेमाल रिश्ते के बीच में किया जाता है। यह सही नहीं है। कंडोम रिश्ते की शुरुआत से ही करें। ताकि बैक्टीरिया किसी भी तरह से आपको संक्रमित न कर सके।

 

ओरल सेक्स से बचें

 

90 प्रतिशत गोनोरिया में ओरल सेक्स किया जाता है। ओरल सेक्स बैक्टीरिया के संक्रमण का मुख्य कारण है। यदि यह संभव है, तो मुख मैथुन से बचें। वैसे भी ओरल सेहत के लिए हानिकारक है।

 

 

कन्डोम का प्रयोग करे

 

ओरल सेक्स करते समय भी कंडोम का इस्तेमाल करें। ताकि बैक्टीरिया आपके शरीर में प्रवेश न कर सकें। यह आपके साथी के लिए भी सही रहेगा।

 

 

जागरूक बने

 

अगर आप कैजुअल सेक्स में विश्वास करते हैं, तो इससे जुड़ी जानकारी को अपने पास रखें। आकस्मिक यौन विकारों और संक्रमणों के बारे में जानकारी रखें। इससे आपको सावधान रहने में आसानी होगी।

 

 

आपके साथी को सूजाक के लिए भी परीक्षण और उपचार किया जाना चाहिए, भले ही उसके कोई लक्षण न हों। आपके साथी को वैसा ही इलाज मिलता है जैसा आप करते हैं। यहां तक कि अगर आपके गोनोरिया का इलाज किया गया है, भले ही आपके साथी का इलाज न किया गया हो, तो आप फिर से संक्रमित हो सकते हैं।

 

 


Doctor Consutation Free of Cost=

Disclaimer: GoMedii  एक डिजिटल हेल्थ केयर प्लेटफार्म है जो हेल्थ केयर की सभी आवश्यकताओं और सुविधाओं को आपस में जोड़ता है। GoMedii अपने पाठकों के लिए स्वास्थ्य समाचार, हेल्थ टिप्स और हेल्थ से जुडी सभी जानकारी ब्लोग्स के माध्यम से पहुंचाता है जिसको हेल्थ एक्सपर्ट्स एवँ डॉक्टर्स से वेरिफाइड किया जाता है । GoMedii ब्लॉग में पब्लिश होने वाली सभी सूचनाओं और तथ्यों को पूरी तरह से डॉक्टरों और स्वास्थ्य विशेषज्ञों द्वारा जांच और सत्यापन किया जाता है, इसी प्रकार जानकारी के स्रोत की पुष्टि भी होती है।