हार्ट ट्रांसप्‍लांट कैसे किया जाता है, जानिए ट्रांसप्‍लांट से जुड़ी पूरी प्रक्रिया

Treatment In India

अनियमित खान-पान और गलत दिनचर्या के कारण भारत समेत पूरी दुनिया में दिल की बीमारियों का खतरा बढ़ता रहा है। ऐसे में जब दिल की बीमारियों का इलाज सही समय पर नहीं किया जाता है तो हार्ट ट्रांसप्लांट के मामले में भी समस्या काफी बढ़ जाती है।

हार्ट ट्रांसप्‍लांट की प्रक्रिया में जिस व्यक्ति का मस्तिष्क मृत हो जाता है उसका हृदय लिया जाता है और साथ ही उस व्यक्ति का रक्त समूह भी लिया जाता है और हृदय के आकार का मिलान प्राप्तकर्ता व्यक्ति के आकार से किया जाता है। इसके लिए डोनर के परिवार के सदस्यों की सहमति लेना सबसे जरूरी होता है।

 

 

हृदय ट्रांसप्‍लांट क्या है?

 

आपको बता दें कि हार्ट ट्रांसप्लांट को हिंदी में हृदय प्रत्यारोपण भी कहते हैं। यह एक शल्य प्रक्रिया है जो डॉक्टरों की टीम मिलकर इस प्रक्रिया को करती है। जिसमें एक रोगग्रस्त हृदय को सामान्य दाता हृदय से बदल दिया जाता है। हालांकि, यहां यह ध्यान रखना महत्वपूर्ण है कि दाता के हृदय का आकार और रक्त समूह ‘प्राप्तकर्ता’ के शरीर के अनुकूल होना चाहिए। डोनर हार्ट आमतौर पर ब्रेन डेड व्यक्ति से रिश्तेदारों से उचित सहमति प्राप्त करने के बाद प्राप्त किया जाता है। इससे पहले डॉक्टर मरीज के सभी टेस्ट करता है।

 

 

हृदय ट्रांसप्‍लांट की आवश्यकता कब होती है?

 

  • यदि कोई व्यक्ति दिल की विफलता, इस्केमिक हृदय रोग, कार्डियोमायोपैथी, जन्मजात हृदय रोग आदि के अंतिम चरण में पहुंच गया है।

 

  • यदि किसी व्यक्ति में हृदय प्रत्यारोपण के बिना रहने की संभावना एक वर्ष से अधिक नहीं होती है।

 

  • व्यक्ति को अन्य समस्याएं नहीं होनी चाहिए जो उसके जीवन को प्रभावित करती हैं।

 

  • अगर डॉक्टर को भरोसा है कि उसका मरीज हार्ट ट्रांसप्लांट के बाद बेहतर जिंदगी जी सकता है।

 

  • कुछ केंद्रों में, हृदय ट्रांसप्‍लांट के रोगियों को सर्जरी से पहले 4 से 6 महीने तक धूम्रपान और शराब का सेवन न करने की भी सख्त हिदायत दी जाती है।

 

वास्तव में, हृदय की विफलता हृदय ट्रांसप्‍लांट का सबसे आम कारण है। दिल की विफलता एक ऐसी स्थिति है जब हृदय शरीर की आवश्यकता के अनुसार रक्त पंप करने में सक्षम नहीं होता है। प्रारंभ में, दिल की विफलता का इलाज एटियलजि, नमक प्रतिबंध, द्रव प्रतिबंध और दवाओं के साथ किया जाता है। कुछ मामलों में, विशेष पेसमेकर (कार्डियक रीसिंक्रनाइज़ेशन थेरेपी) हृदय की पंपिंग क्रिया को बेहतर बनाने में सहायक होते हैं।

 

 

हृदय ट्रांसप्‍लांट कैसे किया जाता है?

 

दरअसल हृदय ट्रांसप्‍लांट सर्जरी की प्रक्रिया बहुत जटिल है, यह एक बड़ी सर्जरी है जो अनुभवी डॉक्टरों द्वारा की जाती है। जब डोनर हार्ट उपलब्ध होता है, तो जिस व्यक्ति को हार्ट ट्रांसप्लांट की जरुरत होती है उसे अस्पताल बुलाया जाता है। कभी-कभी प्राप्तकर्ता को पहले से ही दिल की विफलता के इलाज के लिए या प्रत्यारोपण के लिए अस्पताल में भर्ती कराया जा सकता है।

 

ट्रांसप्लांट किए जा रहे व्यक्ति के इम्यून सिस्टम को सही रखने के लिए दवाएं भी दी जा सकती हैं ताकि उनका शरीर डोनर हार्ट को रिजेक्ट न करे। उसे एंटीबायोटिक्स जैसी अन्य दवाएं भी दी जाती हैं। उसे ऑपरेशन थियेटर में ले जाया जाता है और सामान्य संज्ञाहरण दिया जाता है। उन्हें हार्ट-लंग मशीन पर रखा गया है। रोगग्रस्त हृदय को हटा दिया जाता है, और उस स्थान पर एक दाता हृदय रखा जाता है। इस सर्जरी में आमतौर पर 5 से 6 घंटे लगते हैं।

 

 

हृदय ट्रांसप्‍लांट किस आयु वर्ग के लिए अच्छा है?

 

हृदय ट्रांसप्‍लांट का लाभ ज्यादातर 60 वर्ष से कम उम्र के युवा रोगियों को मिलता है। हालांकि, यह 70 वर्ष से अधिक आयु के रोगियों में भी किया जा सकता है, यदि रोगी शारीरिक रूप से स्वस्थ है। वृद्धावस्था में सर्जरी और प्रत्यारोपण अस्वीकृति दर का जोखिम अधिक होता है। इसके अलावा हृदय एक बहुमूल्य अंग है, जिसे आम तौर पर युवा और उत्पादक आयु वर्ग के रोगियों के लिए आरक्षित किया जाना चाहिए।

हृदय ट्रांसप्‍लांट सफलता दर?

 

अभी तक हृदय ट्रांसप्‍लांट प्रक्रिया वाले लगभग 90% लोग जीवित रहते हैं। इनमें से लगभग 4% लोगों के पास हर साल एक सफल हृदय ट्रांसप्‍लांट प्रक्रिया नहीं होती है। आपको बता दें कि तीव्र अस्वीकृति या संक्रमण हृदय ट्रांसप्‍लांट विफलता का मुख्य कारण होता है।

इसके कारण, इस प्रक्रिया में सफलता दर बुजुर्गों की तुलना में युवा लोगों के लिए अधिक है। एक अध्ययन के अनुसार, 55 वर्ष या उससे कम उम्र के युवाओं की सफलता दर बुजुर्गों की तुलना में 24% अधिक है। जबकि बच्चों में यह सफलता दर 79 प्रतिशत तक है।

 

हृदय ट्रांसप्‍लांट से ठीक होने का समय क्या है?

 

ट्रांसप्‍लांट के बाद रोगी को लगभग 2 से 3 सप्ताह तक अस्पताल में रहने  की सलाह दी जाती है। नियमित फिजियोथेरेपी सर्जरी के बाद मरीज को जल्दी ठीक होने में मदद करती है। अधिकांश रोगी सर्जरी के 2 से 3 महीने के भीतर नियमित गतिविधियों को करने में सक्षम होते हैं, बाकि यह मरीज के ऊपर निर्भर करता है।


Doctor Consutation Free of Cost=

Disclaimer: GoMedii  एक डिजिटल हेल्थ केयर प्लेटफार्म है जो हेल्थ केयर की सभी आवश्यकताओं और सुविधाओं को आपस में जोड़ता है। GoMedii अपने पाठकों के लिए स्वास्थ्य समाचार, हेल्थ टिप्स और हेल्थ से जुडी सभी जानकारी ब्लोग्स के माध्यम से पहुंचाता है जिसको हेल्थ एक्सपर्ट्स एवँ डॉक्टर्स से वेरिफाइड किया जाता है । GoMedii ब्लॉग में पब्लिश होने वाली सभी सूचनाओं और तथ्यों को पूरी तरह से डॉक्टरों और स्वास्थ्य विशेषज्ञों द्वारा जांच और सत्यापन किया जाता है, इसी प्रकार जानकारी के स्रोत की पुष्टि भी होती है।