आईयूआई कब कराना चाहिए और जानिए इसकी प्रक्रिया कैसे की जाती है?

GoMedii

अंतर्गर्भाशयी गर्भाधान (Intrauterine insemination), जिसे आमतौर पर आईयूआई के रूप में जाना जाता है, एक सामान्य प्रजनन उपचार है जिसमें पुरुष साथी के वीर्य को सीधे महिला साथी के गर्भाशय में स्थानांतरित किया जाता है। जो कपल्स बच्चे को जन्म देना चाहते हैं और पिछले कुछ समस्य से गर्भ धारण करने के लिए संघर्ष कर रहें हैं तो ऐसे कपल्स के लिए आईयूआई को सबसे अच्छा और व्यवहार्य प्रजनन उपचार विकल्पों में से एक मान सकते हैं।

दरअसल आईयूआई को बांझपन की कई स्थितियों में आईवीएफ के रूप में प्रभावी माना जाता है, लेकिन आईवीएफ की तुलना में उपचार तुलनात्मक रूप से बहुत सस्ता और कम आक्रामक है। इसलिए, अधिकांश महिलाएं / कपल्स आईवीएफ और अन्य महंगे प्रजनन उपचार के साथ आगे बढ़ने से पहले आईयूआई पर विचार करते हैं। IUI को वैकल्पिक गर्भाधान, कृत्रिम गर्भाधान (artificial insemination,) या दाता गर्भाधान (donor insemination) के रूप में भी जाना जाता है।

 

 

आईयूआई के सफल होने की कितनी संभावनाएं हैं? (What are the chances of IUI being successful in Hindi)

 

आईयूआई के माध्यम से महिला के गर्भवती होने की सफलता दर विभिन्न कारकों पर निर्भर करती है, जिसमें महिला की उम्र, गंभीर प्रजनन समस्याएं जिनका निदान नहीं किया जा सकता है, इसमें दवाएं भी शामिल हैं।आईयूआई की सफलता दर हर महिला में भिन्न होती है। हालांकि, औसतन 35 वर्ष से कम उम्र की महिला के मामले में प्रत्येक आईयूआई के साथ गर्भवती होने की संभावना 10-20% होती है।यदि महिला की उम्र 40 साल से अधिक है तो इसकी सफलतादर कुछ मामले में2-5% ही होती है।

 

 

आईयूआई कब कराना चाहिए? (When should IUI be done in Hindi)

 

 

ऐसे कई कारण हैं जिनके लिए कपल्स IUI पर विचार करते हैं। महिला या पुरुष में बांझपन के कई कारण हो सकता है। हालांकि, निम्नलिखित स्थितियों में आईयूआई का उपयोग प्रजनन क्षमता बढ़ाने वाले के रूप में किया जा सकता है।

 

  • गर्भाशय के मुंह को गर्भाशय ग्रीवा (cervix) कहा जाता है: कभी-कभी गर्भाशय ग्रीवा की समस्याओं के कारण शुक्राणु अंदर नहीं जा पाते हैं। ऐसे में आईयूआई शुक्राणुओं को सीधे ट्यूबों में पहुंचाने का काम करता है।

 

  • बिना कारण के बांझपन होना : ओव्यूलेशन को प्रेरित करने वाली दवाओं के साथ आईयूआई की भी अस्पष्टीकृत बांझपन में सलाह दी जाती है।

 

  • डोनर स्पर्म : जिन पुरुषों का स्पर्म जीरो होता है और टेस्टिकुलर बायोप्सी में भी नहीं होते हैं, वे आईयूआई करके पति के मैचिंग प्रोफाइल का मिलान करके डोनर स्पर्म बैंक से स्पर्म मांगकर गर्भवती हो सकते हैं।

 

  • आईयूआई का उपयोग पुरुष बांझपन के लिए किया जा सकता है : कम शुक्राणुओं की समस्या, शुक्राणु की गतिशीलता में कमी या स्खलन। आईयूआई में स्वस्थ शुक्राणुओं को चुनकर एकत्र कर सीधे गर्भाशय में डाला जाता है, जिससे फर्टिलाइजेशन की संभावना बढ़ जाती है।

 

 

भारत में आईयूआई के इलाज के लिए बेस्ट हॉस्पिटल (Best hospital for IUI treatment in India in Hindi)

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

यदि आप इनमें से किसी भी अस्पताल में इलाज करवाना चाहते हैं तो हमसे व्हाट्सएप (+91 9654030724) पर संपर्क कर सकते हैं।

 

 

आईयूआई से पहले कौन से टेस्ट किए जाते हैं? (What tests are done before IUI in Hindi)

 

आईयूआई इलाज से पहले आपका डॉक्टर पुरुषों और महिलाओं दोनों के लिए कुछ महत्वपूर्ण टेस्ट करवाने को कहेंगा जिनमें ये टेस्ट शामिल हैं:

 

  • एचटीएलवी

 

  • सीमिन टेस्ट

 

  • प्रोलैक्टिन

 

  • आरपीआर

 

  • एचएसजी

 

  • वीडीआरएल

 

  • थाइरोइड

 

  • एचआईवी विरोधी

 

  • HIV

 

आईयूआई उपचार से पहले परीक्षण बांझपन और अन्य बीमारियों के सटीक कारण की पुष्टि कर सकता है और उपचार के सफल होने की संभावना को बढ़ा सकता है।

 

 

आईयूआई सफल होने पर कौन से लक्षण दिखते हैं? (What are the symptoms of successful IUI in Hindi)

 

  • इम्प्लांटेशन ब्लीडिंग: इम्प्लांटेशन के शुरुआती लक्षणों में से एक ब्लीडिंग है। चूंकि हर महिला इसका अनुभव नहीं करती है, इसलिए इसका होना या न होना सामान्य माना जाता है।

 

  • पीरियड्स में देरी: पीरियड्स में देरी प्रेग्नेंसी की संभावना की ओर एक बड़ा संकेत है। जबकि बीच में स्पॉटिंग या हल्का रक्तस्राव हो सकता है, चिंता की कोई बात नहीं है।

 

  • मॉर्निंग सिकनेस: जी मिचलाना या मॉर्निंग सिकनेस भी गर्भावस्था के सामान्य लक्षण हैं। यह एक तेज गंध, किसी विशेष खाद्य पदार्थ से घृणा, या कभी-कभी बिना किसी कारण के ट्रिगर हो सकता है।

 

  • थकान: आपके शरीर में प्रोजेस्टेरोन हार्मोन के बढ़े हुए स्तर के कारण इस अवधि के दौरान आप बहुत थका हुआ महसूस कर सकते हैं, क्योंकि यह हार्मोन नींद को प्रेरित करने के लिए जाना जाता है।

 

  • लगातार ऊंचा शरीर का तापमान: प्रोजेस्टेरोन के स्तर में वृद्धि आपके शरीर के तापमान को बढ़ा सकती है। यदि आप अपने शरीर के तापमान में 20 या अधिक दिनों से वृद्धि देख रहे हैं, तो यह एक अच्छा संकेत है, और आप गर्भवती हो सकती हैं। हार्मोन प्रोजेस्टेरोन के स्तर में वृद्धि आपके शरीर के तापमान को बढ़ा सकती है।

 

 

आईयूआई की प्रक्रिया कैसे की जाती है ? (Procedure of IUI in Hindi)

 

 

जिन महिलाओं को लगता है कि आईयूआई की प्रक्रिया में दर्द होता हैं तो ऐसा नहीं है यह एक दर्द रहित प्रक्रिया है। हालांकि कुछ मामलों में, आईयूआई दवाओं की आवश्यकता के बिना ही प्राकृतिक मासिक धर्म चक्र के दौरान किया जा सकता है। जब क्कोई महिला स्वाभाविक रूप से ओव्यूलेट करती है, तो डॉक्टर ओव्यूलेशन के दौरान एक क्लिनिक सेटअप में शुक्राणु को आपके गर्भाशय में रखता है।

 

इसके अलावा, आईयूआई डिम्बग्रंथि (ovarian) उत्तेजना के साथ किया जा सकता है। अंडाशय को परिपक्व होने और एक या अधिक अंडे छोड़ने में मदद करने के लिए डॉक्टर दवा लेना का सुझाव देते हैं।  आपको बता दें की यदि ओव्यूलेशन के दौरान एक से अधिक अंडे निकलते हैं, तो गर्भधारण की संभावना और भी बढ़ जाती है। आईयूआई की प्रक्रिया क्लिनिक, अस्पताल में की जाती है।

 

आईयूआई के लिए महिला को निम्नलिखित प्रक्रियाओं से गुजरना होगा:

 

  • आपको डॉक्टर के साथ कई अनुवर्ती बैठकें करनी होंगी जिसमें अल्ट्रासाउंड, रक्त परीक्षण और निर्धारित दवाएं आदि शामिल हैं।

 

  • आप अपनी अवधि के दौरान इसका सेवन कर सकते हैं यदि दवाएं निर्धारित हैं।

 

  • दवा लेना शुरू करने के एक हफ्ते बाद, आपको अल्ट्रासाउंड और रक्त परीक्षण के लिए क्लिनिक में वापस बुलाया जाता है।

 

  • परीक्षण के परिणामों के आधार पर, डॉक्टर पुष्टि करता है कि आप कब ओव्यूलेट करेंगे।

 

  • आईयूआई के दिन, पुरुष साथी अपने वीर्य का एक नमूना हॉस्पिटल या क्लिनिक को देता है या दाता के शुक्राणु को खींचा जाता है।

 

  • शुक्राणु मिलने के बाद लैब में शुक्राणु को शुद्ध किया जाता है ताकि गर्भाशय में जलन या अन्य कोई समस्या न हो।

 

  • सबसे पहले महिला को एक टेबल पर लेटने के लिए कहा जाएगा।

 

  • महिला के गर्भाशय को देखने के लिए डॉक्टर एक वीक्षक (speculum) नामक उपकरण का उपयोग करता है।

 

  • आपका डॉक्टर एक लंबी और पतली ट्यूब का इस्तेमाल करके गर्भाशय ग्रीवा के माध्यम से शुक्राणु को गर्भाशय में इंजेक्ट करते हैं।
  • उसके बाद, आपको लगभग 20-30 मिनट के लिए परीक्षा की मेज पर लेटने का सुझाव दिया जाता है।

 

  • प्रक्रिया समाप्त होने के कुछ घंटों बाद आपको क्लिनिक से छुट्टी दे दी जाती है।

 

यदि आप आईयूआई का इलाज कराना चाहते हैं या इससे सम्बंधित किसी भी तरह की जानकारी हासिल करना चाहते हैं तो यहाँ क्लिक करें या आप हमसे व्हाट्सएप (+91 9654030724) पर संपर्क कर सकते हैं। इसके अलावा आप हमारी सेवाओं के संबंध में हमें Connect@gomedii.com पर ईमेल भी कर सकते हैं। हमारी टीम जल्द से जल्द आपसे संपर्क करेगी। हम आपका सबसे अच्छे हॉस्पिटल में इलाज कराएंगे।

 
Doctor Consutation Free of Cost=

Disclaimer: GoMedii  एक डिजिटल हेल्थ केयर प्लेटफार्म है जो हेल्थ केयर की सभी आवश्यकताओं और सुविधाओं को आपस में जोड़ता है। GoMedii अपने पाठकों के लिए स्वास्थ्य समाचार, हेल्थ टिप्स और हेल्थ से जुडी सभी जानकारी ब्लोग्स के माध्यम से पहुंचाता है जिसको हेल्थ एक्सपर्ट्स एवँ डॉक्टर्स से वेरिफाइड किया जाता है । GoMedii ब्लॉग में पब्लिश होने वाली सभी सूचनाओं और तथ्यों को पूरी तरह से डॉक्टरों और स्वास्थ्य विशेषज्ञों द्वारा जांच और सत्यापन किया जाता है, इसी प्रकार जानकारी के स्रोत की पुष्टि भी होती है।