नी लिगामेंट सर्जरी कब की जाती है और जाने कितना होगा इसका खर्च

GoMedii

घुटने में दर्द होना आम बात है, क्योंकि यह समस्या किसी को भी किसी भी उम्र में हो सकता है। वैसे तो यह समस्या ज्यादातर उम्रदराज़ लोगों में देखी जाती है, लेकिन कई बार चोट लगने के कारण भी घुटने में दर्द होने लगता है। घुटने का दर्द घुटनों में मौजूद लिगामेंट के फटने और जोड़ों में मौजूद रेशेदार और लचीले सफेद रंग के ऊतक के फटने से होता है।

यह ऊतक आपके घुटनों, गले और सांस प्रणाली सहित शरीर के कई हिस्सों में स्थित होता है। घुटने का दर्द गठिया, रहेउमाटिस्म (rheumatism) और संक्रमण के कारण भी हो सकता है। यदि किसी को घुटनों से जुड़ी कोई भी समस्या है तो आप डॉक्टर से कंसल्ट कर सकते हैं, कंसल्ट करने के लिए  यहाँ क्लिक करें

 

 

नी लिगामेंट सर्जरी कब की जाती है? (When is knee ligament surgery done in Hindi)

 

एंटीरियर क्रूसिएट लिगामेंट (anterior cruciate ligament) घुटने के सामने की ओर स्थित होता है। यह घायल होने वाला सबसे आम लिगामेंट है। अचानक मुड़ने की से एसीएल अक्सर खिंच या फटा जाता है। स्कीइंग, बास्केटबॉल और फ़ुटबॉल ऐसे खेल हैं जिनमें एसीएल चोटों का अधिक जोखिम होता है।  पोस्टीरियर क्रूसिएट लिगामेंट (पीसीएल) घुटने के पीछे की ओर स्थित होता है। यह घायल होने के लिए एक सामान्य घुटने का लिगामेंट भी है। हालांकि, पीसीएल की चोट आमतौर पर अचानक लगती है, जैसे कार दुर्घटना में या फुटबॉल खेलने के समय। मेडियल कोलेटरल लिगामेंट (एमसीएल) घुटने के  अंदरूनी हिस्से में स्थित होता है। यह लेटरल कोलेटरल लिगामेंट (LCL) की तुलना में घुटने को ज्यादा घायल कर सकता है, जो घुटने के बाहरी तरफ होता है।

 

 

भारत में नी लिगामेंट सर्जरी का खर्च कितना होगा? (What is the knee ligament surgery cost in India in Hindi)

 

 

भारत में नी लिगामेंट सर्जरी का खर्च 2 लाख से 4 लाख के बीच में है। लेकिन यह मरीज के स्थिति पर निर्भर करता है। डॉक्टर पहले मरीज की बारीकी से जाँच करते हैं उसके बाद ही वह सर्जरी करने का निर्णय लेते हैं।

 

 

नी लिगामेंट सर्जरी के लिए हॉस्पिटल (Hospital For Knee Ligament Surgery in Hindi)

 

 

यदि आप नी लिगामेंट सर्जरी कराना चाहते हैं तो आप हमारे द्वारा बताए गए इनमें से कोई भी हॉस्पिटल में अपना इलाज करवा सकते हैं:

 

नी लिगामेंट सर्जरी के लिए दिल्ली के बेस्ट अस्पताल

 

  • बीएलके-मैक्स सुपर स्पेशलिटी अस्पताल, राजिंदर नगर, दिल्ली

 

  • इंद्रप्रस्थ अपोलो अस्पताल, सरिता विहार, दिल्ली

 

  • फोर्टिस हार्ट अस्पताल, ओखला, दिल्ली

 

  • मैक्स सुपर स्पेशलिटी अस्पताल, साकेत, दिल्ली

 

नी लिगामेंट सर्जरी के लिए गुरुग्राम के बेस्ट अस्पताल

 

  • नारायण सुपरस्पेशलिटी अस्पताल, गुरुग्राम

 

  • मेदांता द मेडिसिटी, गुरुग्राम

 

  • फोर्टिस हेल्थकेयर लिमिटेड, गुरुग्राम

 

  • पारस अस्पताल, गुरुग्राम

 

नी लिगामेंट सर्जरी के लिए ग्रेटर नोएडा के बेस्ट अस्पताल

 

  • शारदा अस्पताल, ग्रेटर नोएडा

 

  • यथार्थ अस्पताल, ग्रेटर नोएडा

 

  • बकसन अस्पताल, ग्रेटर नोएडा

 

  • जेआर अस्पताल, ग्रेटर नोएडा

 

  • प्रकाश अस्पताल, ग्रेटर नोएडा

 

  • दिव्य अस्पताल, ग्रेटर नोएडा

 

  • शांति अस्पताल, ग्रेटर नोएडा

 

नी लिगामेंट सर्जरी के लिए मेरठ के बेस्ट अस्पताल

 

  • सुभारती अस्पताल, मेरठ

 

  • आनंद अस्पताल, मेरठ

 

नी लिगामेंट सर्जरी के लिए हापुड़ के बेस्ट अस्पताल

 

  • शारदा अस्पताल, हापुड़

 

  • जीएस अस्पताल, हापुड़

 

  • बकसन अस्पताल, हापुड़

 

  • जेआर अस्पताल, हापुड़

 

  • प्रकाश अस्पताल, हापुड़

 

नी लिगामेंट सर्जरी के लिए कोलकाता के सबसे अच्छे अस्पताल

 

  • रवींद्रनाथ टैगोर इंटरनेशनल इंस्टीट्यूट ऑफ कार्डिएक साइंस, मुकुंदपुर, कोलकाता

 

नी लिगामेंट सर्जरी के लिए बैंगलोर के सबसे अच्छे अस्पताल

 

  • फोर्टिस अस्पताल, बन्नेरगट्टा रोड, बैंगलोर

 

  • अपोलो अस्पताल, बैंगलोर

 

नी लिगामेंट सर्जरी के लिए मुंबई के सबसे अच्छे अस्पताल

 

  • नानावटी सुपर स्पेशलिटी अस्पताल, विले पार्ले वेस्ट, मुंबई

 

  • लीलावती अस्पताल और अनुसंधान केंद्र, बांद्रा, मुंबई

 

नी लिगामेंट सर्जरी के लिए हैदराबाद के सबसे अच्छे अस्पताल

 

  • ग्लेनीगल्स ग्लोबल हॉस्पिटल्स, लकडी का पूल, हैदराबाद

 

नी लिगामेंट सर्जरी के लिए चेन्नई के सबसे अच्छे अस्पताल

 

  • अपोलो प्रोटॉन कैंसर सेंटर, चेन्नई

 

नी लिगामेंट सर्जरी के लिए अहमदाबाद के सबसे अच्छे अस्पताल

 

  • केयर इंस्टीट्यूट ऑफ मेडिकल साइंसेज, सोला, अहमदाबाद

 

यदि आप इनमें से कोई अस्पताल में इलाज करवाना चाहते हैं तो हमसे व्हाट्सएप (+91 9654030724) पर संपर्क कर सकते हैं।

 

 

नी लिगामेंट सर्जरी के लाभ क्या हैं? (What are the benefits of knee ligament surgery in Hindi)

 

सर्जरी ही एकमात्र उपाय है क्योंकि:

 

  • घुटने में दर्द और उलझन में आराम

 

  • घुटने में बार-बार होने वाली सूजन में आराम मिलना

 

  • जीवनशैली में सुधर होना

 

  • सर्जरी के बाद आप तेजी से चल सकते हैं, जिम कर सकते हैं, डांस कर सकते हैं।

 

 

कितने प्रकार के लिगमेंट होते हैं? (How many types of ligaments are there in Hindi)

 

 

घुटने में 4 प्रमुख लिगमेंट होते हैं। घुटने में लिगमेंट फीमर (जांघ की हड्डी) को टिबिया (पिंडली की हड्डी) से जोड़ते हैं, और इसमें निम्नलिखित शामिल हैं:

 

  • एंटीरियर क्रूसिएट लिगामेंट (एसीएल): घुटने के केंद्र में स्थित लिगामेंट, जो टिबिया (पिंडली की हड्डी) के रोटेशन और आगे की गति को नियंत्रित करता है।

 

  • पोस्टीरियर क्रूसिएट लिगामेंट (पीसीएल): घुटने के केंद्र में स्थित लिगामेंट, जो टिबिया (पिंडली की हड्डी) के पिछे से घुटने को नियंत्रित करता है।

 

  • मेडियल कोलेटरल लिगामेंट (एमसीएल): लिगामेंट जो आंतरिक घुटने को स्थिरता देता है।

 

  • लेटरल और कोलैटेरल लिगामेंट (एलसीएल): लिगामेंट जो बाहरी घुटने को स्थिरता देता है।

 

 

लिगामेंट्स का क्या कार्य है? (What is the function of ligaments in Hindi)

 

लिगमेंट का मुख्य कार्य यह सुनिश्चित करना है कि जोड़ अपने सही स्थान पर स्थित है या नहीं। अगर हड्डियाँ अपनी सही जगह पर हों तो ही वे ठीक से काम कर सकती हैं।

 

यदि आप नी लिगामेंट सर्जरी कराना चाहते हैं या इससे सम्बंधित किसी भी समस्या का इलाज कराना चाहते हैं, या कोई सवाल पूछना चाहते हैं तो यहाँ क्लिक करें। इसके अलावा आप प्ले स्टोर से हमारा ऐप डाउनलोड करके डॉक्टर से डायरेक्ट कंसल्ट कर सकता हैं। आप हमसे  व्हाट्सएप (+91 9654030724) पर भी संपर्क कर सकते हैं। इसके अलावा आप हमारी सेवाओं के संबंध में हमें Connect@gomedii.com पर ईमेल भी कर सकते हैं। हमारी टीम जल्द से जल्द आपसे संपर्क करेगी।

 
Doctor Consutation Free of Cost=

Disclaimer: GoMedii  एक डिजिटल हेल्थ केयर प्लेटफार्म है जो हेल्थ केयर की सभी आवश्यकताओं और सुविधाओं को आपस में जोड़ता है। GoMedii अपने पाठकों के लिए स्वास्थ्य समाचार, हेल्थ टिप्स और हेल्थ से जुडी सभी जानकारी ब्लोग्स के माध्यम से पहुंचाता है जिसको हेल्थ एक्सपर्ट्स एवँ डॉक्टर्स से वेरिफाइड किया जाता है । GoMedii ब्लॉग में पब्लिश होने वाली सभी सूचनाओं और तथ्यों को पूरी तरह से डॉक्टरों और स्वास्थ्य विशेषज्ञों द्वारा जांच और सत्यापन किया जाता है, इसी प्रकार जानकारी के स्रोत की पुष्टि भी होती है।