लैक्टोज इनटॉलेरेंस: लक्षण, कारण और उपचार

online medicine

लैक्टोज इनटॉलेरेंस (lactose intolerance) मतलब दूध से एलर्जी, एक आम समस्या है और ये किसी भी उम्र के व्यक्ति को परेशान कर सकती हैं। यह समस्या लैक्टोज यानी डेयरी उत्पादों के सेवन करने की वजह से होती है। जिसमें उस व्यक्ति को दस्त, सूजन, पेट दर्द और पेट फूलने जैसी समस्या होती है। ऐसा होने पर व्यक्ति के शरीर में लैक्टोज तोड़ने में असमर्थ होते है। वैसे ये समस्या बच्चों में बहुत आम है, जो एक तरह से अस्थाई होती है। लेकिन आपको बता दें की वयस्कों में लैक्टोज इनटॉलेरेंस की समस्या एक समय के बाद गंभीर तथा स्थाई भी हो सकती है।

क्या है लैक्टोज इनटॉलेरेंस ? (Lactose Intolerance)

 

लैक्टोज इनटॉलेरेंस, ये शरीर में पाचन से सम्बंधित होता है इसका संतुलन बिगड़ने से पाचन से जुड़ी समस्या होने लगती है। इसका संबंध सभी डयरी उत्पादों से होता है, जिनमें मुख्य रूप से कार्बोहाइड्रेट, लैक्टोज (lactose) होता है। यह समस्या सूजन (bloating), दस्त (diarrhea) और पेट में ऐंठन (abdominal cramps), गैस सहित ये विभिन्न लक्षण को पैदा करती है। इसका पूरा संबंध आपके पेट से होता है। इन्ही को हम लैक्टोज इनटॉलेरेंस कहते है।

लैक्टोज इनटॉलेरेंस के लक्षण

  • अचानक दस्त शुरू हो जाना
  • जी मिचलाने लगना
  • उल्टी होना
  • पेट में मरोड़ (दर्द होना)
  • पेट के आस-पास सूजन होना
  • गैस बनना
  • पेट फूलना
  • कब्ज होना

लैक्टोज इनटॉलेरेंस के कारण

  • दूध पीने से ऐसा होता है
  • अनियमित जीवनशैली
  • समय पर भोजन न करना
  • जरुरत से ज्यादा खाने का सेवन
  • पेट में इन्फेक्शन

लैक्टोज इनटॉलेरेंस (lactose intolerance) होने का सबसे बड़ा कारण है, इंसान के शरीर द्वारा लैक्टेज एंजाइम का बहुत कम उत्पादन या उत्पादन बिल्कुल न करना। मतलब जब छोटी आंत दूध में उपस्थित शर्करा (लैक्टोज) को पचाने के लिए पर्याप्त एंजाइम (लैक्टेज) का उत्पादन नहीं करती है, तब यह स्थिति लैक्टोज असहिष्णुता (lactose intolerance) का कारण बनती है। इसके होने के पीछे आप बढ़ती उम्र का होना भी कह सकते है। क्योंकि पहले के समय में ये समस्या उम्र दराज लोगों को होती थी। लेकिन अब ये छोटे बच्चों में ज्यादा देखने को मिलती है।

 

लैक्टोज इनटॉलेरेंस से बचने के उपाए

 

  • ब्रोकोली (Broccoli) : यदि आप इससे बचना चाहते है, तो आप ब्रोकोली का सेवन करें, इसके सेवन से आपको इस समस्या से निजात मिल जाएगी।
  • संतरे (Oranges) : संतरा खाने से भी आपको इससे छुटकारा मिल सकता है, वैसे भी ये आसानी से सब जगह उपलब्ध होता है।
  • कैल्शियम उत्पाद जैसे कि ब्रेड (breads) और जूस : यदि आप सुबह के समय ब्रेड और जूस का सेवन करेंगे तो ये आपके लिए ज्यादा अच्छा होगा। आपको लैक्टोज असहिष्णुता से छुटकारा मिल जाएगा।
  • पिंटो बीन्स (Pinto beans) : ये भी काफी हद तक आपको इससे छुटकारा दिलाने में सक्षम है,  कुछ लोगों को मूंगफली से तो एलर्जी होती है, लेकिन इससे नहीं।
  • दूध से बनी चीजें खाना बंद कर दें : ये समस्या होने के पीछे का कारण है दूध, इसलिए आप यही कोशिश करें की दूध से बनी सभी चीजें बिल्कुल भी नहीं खाए।
  • रेवतचीनी (Rhubarb) : ये एक तरीके का सदाबहार पौधा है। दरअसल इस पर हर मौसम में पत्ते होते हैं। इससे भी आप लैक्टोज असहिष्णुता से छुटकारा पा सकते है।
  • सोया मिल्क (soy milk) और राइस मिल्क (rice milk) : इनमें से आप किसी का भी सेवन करें, आपको इससे आसानी से छुटकारा मिल जाएगा।
  • पालक (Spinach) : पालक में भरपूर मात्रा में आयरन होता है, ये आपको बहुत ज्यादा ताकत प्रदान करता है और ये इसे रोकता भी है।
  • उच्च फाइबर युक्त आहार : यदि आप रोजाना उच्च फाइबर वाला खाना खाते है, तो आपको ये समस्या होगी ही नहीं।
  • आलू चिप्स : ऐसा होने पर इसका सबसे अच्छा इलाज है की आप आलू चिप्स खाए ये इसे रोकने में सक्षम है।

 

आपको कौन-सी चीजें नहीं खानी चाहिए जैसे पनीर, आइसक्रीम, दही, गाय का दूध, बकरी का दूध, मक्खन,मिठाई (Desserts) और कस्टर्ड (custards), इसके अतिरिक्त लैक्टोज युक्त सॉस और ग्रेवीज और नट्स इत्यादि। ये सभी चीजें आपको उस समय पर अवॉयड करना चाहिए ऐसी कोई भी समस्या होने पर आप हमारे डॉक्टर संपर्क कर सकते है


Doctor Consutation Free of Cost=

Disclaimer: GoMedii  एक डिजिटल हेल्थ केयर प्लेटफार्म है जो हेल्थ केयर की सभी आवश्यकताओं और सुविधाओं को आपस में जोड़ता है। GoMedii अपने पाठकों के लिए स्वास्थ्य समाचार, हेल्थ टिप्स और हेल्थ से जुडी सभी जानकारी ब्लोग्स के माध्यम से पहुंचाता है जिसको हेल्थ एक्सपर्ट्स एवँ डॉक्टर्स से वेरिफाइड किया जाता है । GoMedii ब्लॉग में पब्लिश होने वाली सभी सूचनाओं और तथ्यों को पूरी तरह से डॉक्टरों और स्वास्थ्य विशेषज्ञों द्वारा जांच और सत्यापन किया जाता है, इसी प्रकार जानकारी के स्रोत की पुष्टि भी होती है।