मधुमेह के लिए जामुन के बीज के फायदे क्या है?

जामुन के साथ सबकी बचपन की यादें जुड़ी है आप कैसे और कितने मजे से जामुन खाते थे, बिना उसके स्वाद को पसंद किए और बिना ये जाने की ये आपके स्वास्थ्य के लिए भी कितना फायदेमंद है क्या आप ये बात जानते है ? लेकिन आप तो बस अपनी जीभ को बैंगनी करने के लिए इसे खाते थे। मगर आपको मालूम है की जामुन के बीज मधुमेह के रोगी के लिए कितने फायदेमंद होते है ? इसलिए अब आप जब भी जामुन खाए तो इसके बीजों का ना फेंके।

 

 

मधुमेह क्या है?

 

 

जब किसी व्यक्ति के रक्त में शर्करा का स्तर बढ़ जाता है तब उस व्यक्ति को मधुमेह हो जाता है और ऐसा तब होता है जब वह मीठे में पेय पदार्थ का सेवन ज्यादा करते है। जिसके बाद उन्हें अपनी सारी ज़िंदगी परहेज करना पड़ता है, मधुमेह होना के बहुत सारे कारण होते है जैसे अनियमित जीवनशैली, गलत खान-पान और शारीरिक श्रम बिल्कुल न करना यही सब वजहों के कारण ही मधुमेह होता है। जिन्हें मधुमेह है उन्हें जामुन तो खाना ही चाहिए उसके साथ ही इसके बीज का भी सेवन करना चाहिए क्योंकि ये उसके लिए बहुत फायदेमंद है।

 

 

जामुन क्या है?

 

 

जामुन एक ऐसा फल है जो मधुमेह के रोगी के लिए बहुत फायदेमंद है। आपको बता दें की प्राचीन काल से औषधीय रूप में केवल बीज, झंडा और जामुन की छाल (Syzygium cumini Linn।, Skeels।) का उपयोग किया जाता है। दरअसल आयुर्वेद का सुझाव है कि जामुन अक्सर पेशाब की समस्या को कम करने में मदद करता है।

 

इसमें हाइपोग्लाइकेमिक (Hypoglycaemic ) गुण होते हैं जो रक्त शर्करा के स्तर को कम करने में मदद करते हैं। इसमें ऐसे एंटीऑक्सिडेंट होते हैं, जो इसे नियंत्रण रखते हैं, जामुन के बीज मधुमेह को कंट्रोल करने में मदद करता है। इसके अलावा, विभिन्न अध्ययनों में कहा गया है कि जामुन के बीज के पाउडर के सेवन से रक्त शर्करा को बिल्कुल नियंत्रण में रखता है।

 

 

मधुमेह में जामुन के बीज के फायदे?

 

 

टाइप 2 मधुमेह से बचाता है : जहां टाइप 2 मधुमेह रोगियों में रक्त शर्करा में इंसुलिन बढ़ता है तो ये उसे कम करने में मदद करता है।

 

 

खून को साफ करता है : जामुन के बीज रक्त को साफ करते हैं और एनीमिया की समस्या से भी बचाने में मदद करते हैं। इनमें आयरन की अच्छी मात्रा होती है और ये शरीर के स्वास्थ्य के लिए बहुत लाभकारी होते हैं।

 

 

सूजन को कम करता है : कुछ मधुमेह के रोगियों को सूजन की समस्य रहती है यदि वो भी इनका सेवन करेंगे तो इससे उनकी सूजन कम होने लगेगी।

 

 

मधुमेह में ब्लड प्रेशर को नियंत्रण में रखता है : जामुन के बीज रक्तचाप को नियंत्रित रखने में मदद करते हैं। उनके पास औषधीय गुण हैं और रक्त के उतार-चढ़ाव को कम करता है । अक्सर ऐसा होता है जिन्हें मधुमेह होता है उन्हें ब्लड प्रेशर की भी समस्य रहती है।

 

 

पेट से जुड़ी समस्या को ख़त्म करता है : कब्ज, दस्त आदि जैसी कई पेट से संबंधित समस्याओं के उपचार में जामुन के बीज बहुत मदद करते है। यह पेट में दर्द, पेट के संक्रमण आदि कम करने में भी काफी मददगार साबित होते हैं।

 

 

यूरिन संबंधी समस्या : जिन लोगों को लगातार यूरिन महसूस होता है या बार-बार यूरिन आने जैसा लगता है तो आपको नियमित रूप से जामुन के बीज के पाउडर का सेवन करना चाहिए।

 

 

 

जामुन के बीज का कैसे करें मधुमेह में इस्तेमाल

 

 

  • जामुन के बीज निकालें और उन्हें एक कंटेनर में इकठ्ठा करते रहें।

 

  • यह सुनिश्चित करें की जामुन के बीज के ऊपर जामुन ना लगा हो उसके बाद उन बीजों को अच्छे से पानी से धोलें।

 

  • एक साफ कपड़ा लेकर इन बीजों को अच्छी तरह से पोछे और एक कपड़े पर फैलाएं और इसे धूप में सूखाने के लिए रख दें।

 

  • उसे 3 या 4 दिनों तक सुखाएं उसके बाद, उन बीजों की बाहरी परत छीले और बीज के अंदर हरे भाग को निकालें।

 

  • फिर उस हरे भाग को कुछ और दिनों के लिए धूप में रखें ताकि वह अंदर से पूरी तरह सुख जाए।

 

  • उसके बाद इसे ग्राइंडर में पीस लें और उसका पाउडर बना लें।

 

  • जिसके बाद कुछ बीज ऐसे होंगे जो अभी भी पूरी तरह से पीसे नहीं होंगे उन्हें दोबारा धुप में सुखाकर फिर से पीसे।

 

  • पाउडर बनाने के बाद आप इसे नियमित रूप से इसका सेवन करें।

 

 

जामुन के बीज में जाम्बोलिन (jambolin) और जम्बोसिन (jambosin) होता है, जो स्टार्च को चीनी में कम मात्रा में परिवर्तित करता है। जिससे आपको मधुमेह नहीं होता है या नियंत्रण में रहता है। इसकी वजह से आपको चयापचय की समस्या भी नहीं होती है, इसके साथ ही रक्त शर्करा (ब्लड शुगर) के स्तर में अचानक बढ़ने की संभावना को बहुत कम कर देता है। साथ ही ये इन्सुलिन को भी नियंत्रण में रखता है।

 

यदि आप भी मधुमेह से ग्रसित है तो आप ऐसा कर सकते है इससे आपको काफी फायदा देखने को मिलेगा। बल्कि इसके साथ आप डॉक्टर से भी सलाह लें सकते है और उनके द्वारा दी गई दवाइयों का प्रयोग भी कर सकते है। ऐसा करने से आप खुद को मधुमेह होने पर भी स्वस्थ रख पाएंगे।


Doctor Consutation Free of Cost=

Disclaimer: GoMedii  एक डिजिटल हेल्थ केयर प्लेटफार्म है जो हेल्थ केयर की सभी आवश्यकताओं और सुविधाओं को आपस में जोड़ता है। GoMedii अपने पाठकों के लिए स्वास्थ्य समाचार, हेल्थ टिप्स और हेल्थ से जुडी सभी जानकारी ब्लोग्स के माध्यम से पहुंचाता है जिसको हेल्थ एक्सपर्ट्स एवँ डॉक्टर्स से वेरिफाइड किया जाता है । GoMedii ब्लॉग में पब्लिश होने वाली सभी सूचनाओं और तथ्यों को पूरी तरह से डॉक्टरों और स्वास्थ्य विशेषज्ञों द्वारा जांच और सत्यापन किया जाता है, इसी प्रकार जानकारी के स्रोत की पुष्टि भी होती है।