जानें प्रेगनेंसी में कब्‍ज का कारण और इससे राहत पाने के उपाय

GoMedii Offer

ऐसी बहुत सी महिलाएं हैं जिन्हें प्रेगनेंसी में कब्ज की शिकायत हो जाती है। दरअसल गर्भावस्था के समय महिलाओं को हार्मोनंस में होने वाले बदलाव की वजह से इस तरह की समस्याओं से जूझना पड़ता है। लेकिन कभी-कभी ये समस्याएं इतनी गंभीर हो जाती हैं कि बिना इलाज के इसकी रोकथाम करना बहुत मुश्किल हो जाता है। इन्हीं समस्याओं में से कुछ समस्याएं ऐसी है जैसे कब्ज और पाइल्स जिसकी वजह से पेट में दर्द ,अपच और गैस भी हो सकती हैं।

 

प्रेगनेंसी में कब्ज का कारण

 

प्रेगनेंसी में कब्ज का कारण आपकी खाने पीने की कुछ गलत आदतें होती हैं। वैसे भी इस समय एक महिलाओं को अपना बहुत ज्यादा ध्यान रखने की जरूरत होती है। प्रेगनेंसी के दौरान प्रोजेस्टेरोन हार्मोन में वृद्धि से आपके शरीर की मांसपेशियों को आराम मिलता है। जिसमें आपकी आंतें भी शामिल हैं। आपकी पाचन क्रिया की गति थोड़ी धीमी हो जाती है इससे आपको कब्ज हो सकती है।

 

  • शारीरिक गतिविधि में कमी
  • खाने में चिकनाई वाले भोजन का सेवन ज्यादा करना
  • हार्मोन्स में बदलाव
  • दवा का दुष्प्रभाव

 

प्रेगनेंसी में कब्ज होना आम बात है। आपको बता दें की इस पर हुए एक अध्ययन के अनुसार, चार गर्भवती महिलाओं में से लगभग तीन महिलाओं को किसी न किसी समय पर कब्ज और दस्त का अनुभव करना ही पड़ता है।

 

प्रेगनेंसी में कब्ज के लक्षण

 

  • मल में खून आना
  • मल त्‍याग में दिक्कत होना
  • भूख में कमी
  • कब्ज की वजह से दर्द महसूस होना

प्रेगनेंसी में कब्ज को दूर करने के उपाय

 

भरपूर मात्रा में पियें पानी

 

प्रेगनेंसी में कब्ज को रोकने के लिए रोजाना महिला को कम से कम 10 गिलास पानी का सेवन करना चाहिए। खूब सारे पानी के साथ अच्छी फाइबर से भरपूर डाइट लें, क्योंकि यह शरीर से विषाक्त पदार्थों को बाहर निकलने के साथ आपके शरीर को डीटोक्स करने में मदद करता है। यह अतिरिक्त नमक को शरीर से बाहर निकालता है, जिससे सूजन की समस्या भी नहीं होती है।

 

हर दो घंटे पर कुछ हेल्दी खाएं 

 

प्रेगनेंसी में कब्ज से बचने के लिए आपको हर दो-दो घंटे में अच्छी डाइट लेने चाहिए। तला भुना खाने से बचना चाहिए, इसकी जगह आप हर दो घंटे में हेल्दी डाइट लें इससे ना केवल आपका पेट सही रहेगा बल्कि आपको एनर्जी भी मिलेगी।

 

दही का सेवन करें 

 

आपको ये तो पता ही होगा कि दही प्रोबायोटिक होता है, जो आंतों को स्‍वस्‍थ रखने और पाचन क्रिया को सही रखता है। जब आपको कब्‍ज महसूस होती है तो उस समय आपको कम से कम 2 कप सादे दही का सेवन करना चाहिए। यह प्रेगनेंसी में आपको बिना किसी साइड इफेक्‍ट के कब्‍ज से लड़ने में मदद करेगा।

 

नींबू पानी का सेवन करें 

 

नींबू पानी हमारे शरीर के लिये बेहद फायदेमंद होता है, हालांकि गर्मी में इसका सेवन बहुत अधिक किया जाता है। आधा नींबू निचोड़ कर पानी के साथ खाली पेट या फिर सोने के कुछ देर पहले पीने से आपको पेट से जुड़ी किसी भी तरह की समस्या से छुटकारा मिल जाएगा।

 

व्यायाम

 

प्रेगनेंसी में कब्ज से बचने के लिए आपको सुरक्षित रहते हुए और डॉक्टर से नियमित उपचार के साथ हल्का-फुल्का व्यायाम भी नियमित रूप से करने चाहिए। ऐसा करने से आप एक्टिव रहती हैं और आपकी मांसपेशियाँ नरम रहतीं हैं और आपका भोजन आसानी से पच जाता है।

 

नारियल का तेल करें इस्तेमाल

 

आपको बता दें की नारियल के तेल में फैटी एसिड की मात्रा होती है, जो मेटाबॉलिज्म  को सही रखता है और आंतों की कोशिकाओं को सक्रिय करता है। इसलिए एक से दो चम्मच नारियल के तेल का इस्तेमाल रोजाना करना चाहिए। इससे काफी हद तक कब्ज से राहत मिलती है।

 

दूध और चिया सीड्स

 

दूध के साथ चिया सीड्स को भिगोकर रखें और इसे रोजाना पीएं। दरअसल इसमें फाइबर की भरपूर मात्रा होती है, यह आहार सभी के लिये बहुत फायदेमंद होता है। क्योंकि इसमें ऐसे तत्व होते हैं जो शरीर की पाचन क्रिया में सुधार करता है साथ ही पेट को साफ रखते हैं।

 

प्रेगनेंसी में कब्ज होने पर आपको तुरंत डॉक्टर से सलाह लेनी चाहिए। इसके साथ ही आपको अपने खान पान में बदलाव करने की भी आवश्यकता होती है। आपको तला-भुना, और जंक फूड के सेवन से बचना चाहिए। बिना डॉक्टर की सलाह के किसी भी तरह की दवा का सेवन नहीं करना चाहिए, क्योंकि इस दौरान आप जो भी खाती हैं उसका सीधा असर आपके होने वाले बच्चे पर भी पड़ता है।


Doctor Consutation Free of Cost=

Disclaimer: GoMedii  एक डिजिटल हेल्थ केयर प्लेटफार्म है जो हेल्थ केयर की सभी आवश्यकताओं और सुविधाओं को आपस में जोड़ता है। GoMedii अपने पाठकों के लिए स्वास्थ्य समाचार, हेल्थ टिप्स और हेल्थ से जुडी सभी जानकारी ब्लोग्स के माध्यम से पहुंचाता है जिसको हेल्थ एक्सपर्ट्स एवँ डॉक्टर्स से वेरिफाइड किया जाता है । GoMedii ब्लॉग में पब्लिश होने वाली सभी सूचनाओं और तथ्यों को पूरी तरह से डॉक्टरों और स्वास्थ्य विशेषज्ञों द्वारा जांच और सत्यापन किया जाता है, इसी प्रकार जानकारी के स्रोत की पुष्टि भी होती है।