स्तन कैंसर के प्रारंभिक लक्षण, कारण और इससे बचने के उपाय

UPTO20

 

 

स्तन कैंसर वह कैंसर है जो महिला के स्तन की कोशिकाओं में पनपता है। स्तन कैंसर के प्रारंभिक लक्षण को जानने  आपको यह समझना होगा की इसकी शुरुआत कैसे होती है। त्वचा कैंसर के बाद, स्तन कैंसर महिलाओं में होने वाले सबसे आम कैंसर है। आपको यह जानकर हैरानी होगी की स्तन कैंसर पुरुषों और महिलाओं दोनों में हो सकता है, लेकिन यह महिलाओं में कहीं अधिक सामान्य है।

 

स्तन कैंसर के प्रति जागरूकता और अनुसंधान के लिए भरपूर समर्थन ने स्तन कैंसर के निदान और उपचार में प्रगति की है। स्तन कैंसर बीमारी में वृद्धि तो हुई है, लेकिन इस बीमारी से जुड़ी मौतों की संख्या में लगातार गिरावट आ रही है, जिसका मुख्य कारण है इस बीमारी का पहले पता लगाना, दरअसल इसके उपचार के लिए एक नया व्यक्तिगत दृष्टिकोण और बीमारी की बेहतर समझ की वजह से लोगों को बचाया जा सकता है।

 

 

 

स्तन कैंसर के प्रकार (Types of breast cancer in Hindi)

 

 

विभिन्न प्रकार के स्तन कैंसर के साथ विभिन्न प्रकार के संबंधित लक्षण आते हैं। उदाहरण के लिए, इनवेसिव डक्टल कार्सिनोमा (invasive ductal carcinoma (IDC)), जो दूध नलिकाओं में बनता है, एक अलग स्तन गांठ का कारण हो सकता है जिसे आप महसूस कर सकते हैं। इनवेसिव लोब्युलर कार्सिनोमा (Invasive lobular carcinoma (ILC), जो दूध बनाने वाली ग्रंथियों में बनता है, स्तन में गांठ होने का कारण हो सकता है।

 

 

 

स्तन कैंसर के प्रारंभिक लक्षण (Early signs of breast cancer in Hindi)

 

 

  • त्वचा परिवर्तन, जैसे कि सूजन, लालिमा, या एक या दोनों स्तनों में अन्य दृश्यमान अंतर,

 

 

  • स्तन के आकार में परिवर्तन,

 

 

  • एक या दोनों निपल्स की उपस्थिति में परिवर्तन,

 

 

  • स्तन के दूध के अलावा निप्पल का स्त्राव,

 

 

  • स्तन के किसी भी भाग पर सामान्य दर्द,

 

 

  • स्तन के ऊपर या अंदर गांठ महसूस होना,

 

 

 

इनवेसिव स्तन कैंसर के लिए और अधिक विशिष्ट लक्षण हैं:

 

 

  • स्तन पर खुजली,

 

 

  • स्तन के रंग में बदलाव,

 

 

  • स्तन के आकार में बदलाव,

 

 

  • स्तन का कठोर, या बहुत अधिक कोमल होना,

 

 

  • निप्पल की त्वचा का छिलना,

 

 

  • स्तन की गांठ या मोटा होना।

 

 

 

स्तन कैंसर के कारण

 

 

हम अक्सर दर्द को नजरअंदाज करते हैं, लेकिन कुछ महिलाएं अपने स्तन में कोमलता या दर्द महसूस करती हैं, तो वे अक्सर इसे स्तन कैंसर मान लेती हैं। हालांकि, स्तन दर्द शायद ही कभी स्तन कैंसर का पहला लक्षण हो सकता है। वैसे तो कई अन्य कारक दर्द का कारण बन सकते हैं।

 

 

  • मासिक धर्म के कारण होने वाले हार्मोन का उतार-चढ़ाव,

 

 

  • जन्म से ली जाने वाली गोलियाँ,

 

 

  • बांझपन,

 

 

  • आपके ब्रा जो फिट नहीं हो,

 

 

  • स्तन अल्सर,

 

 

  • बड़े स्तन, जो गर्दन, कंधे या पीठ दर्द के साथ हो सकते हैं,

 

 

  • तनाव।

 

 

 

स्तन कैंसर से बचने के उपाय

 

इतनी जागरूकता के बाद भी निश्चित रूप से स्तन कैंसर को रोकने के कई तरीके हैं :

 

 

  • शराब के कम सेवन के साथ व्यायाम और स्वस्थ आहार निश्चित रूप से कैंसर फैलने के खतरे को कम कर सकते हैं।

 

 

  • टीमोक्सीफिन (Temoxifene) का प्रयोग स्तन कैंसर से बचने के लिए और इसके उच्च जोखिम वाले कारकों वाली महिलाओं को ठीक करने के लिए किया जाता है।

 

 

  • एविस्टा रालोक्सिफ़ेन (Avista raloxifene), रजोनिवृत्ति के बाद ऑस्टियोपोरोसिस का इलाज करने के लिए इस्तेमाल की जाने वाली दवा है, जो स्तन कैंसर से बचाने के लिए भी इस्तेमाल की जाती है।

 

 

  • प्रतिदिन अंगूर या अनार का रस पिएं, ऐसा करने से आप स्तन कैंसर से बचे रहते हैं।

 

 

  • रोजाना लहसुन का सेवन करने से स्तन कैंसर की संभावना कम हो जाती है।

 

 

  • नमक, शम्मी, मूली, सरसों और सहिजन के बीजों को पीसकर स्तनों पर इसका लेप लगाने से आपको काफी फायदा मिलेगा इसे करीब एक घंटे तक लगा कर रखें उसके बाद इसे साफ करें।

 

 

  • एक गिलास पानी में हर्बल ग्रीन टी उबालें और फिर इसे पिएं, ऐसा करने से भी आप स्तन कैंसर के प्रारंभिक लक्षण से बचे रह सकते हैं।

 

यदि आपके किसी परिचित या घर के किसी सदस्य को स्तन कैंसर जैसी घातक बीमारी है तो आप इन उपायों को कर सकते हैं लेकिन इससे पहले आप हमारे डॉक्टर से सलाह लें या अपने डॉक्टर से सलाह लेने के बाद ही इन उपायों को करें


Doctor Consutation Free of Cost=

Disclaimer: GoMedii  एक डिजिटल हेल्थ केयर प्लेटफार्म है जो हेल्थ केयर की सभी आवश्यकताओं और सुविधाओं को आपस में जोड़ता है। GoMedii अपने पाठकों के लिए स्वास्थ्य समाचार, हेल्थ टिप्स और हेल्थ से जुडी सभी जानकारी ब्लोग्स के माध्यम से पहुंचाता है जिसको हेल्थ एक्सपर्ट्स एवँ डॉक्टर्स से वेरिफाइड किया जाता है । GoMedii ब्लॉग में पब्लिश होने वाली सभी सूचनाओं और तथ्यों को पूरी तरह से डॉक्टरों और स्वास्थ्य विशेषज्ञों द्वारा जांच और सत्यापन किया जाता है, इसी प्रकार जानकारी के स्रोत की पुष्टि भी होती है।