यूरिनरी इनकॉन्टिनेंस क्या है, जानिए इसका इलाज कैसे होता है?

Treatment In India

कई बार कुछ लोगों को खांसते, छींकते समय, भारी वस्तु को उठाते समय या कुछ देर चलने के बाद उनका पेशाब अपने आप निकलने लता है। ऐसा होने पर वह इसे कंट्रोल नहीं कर पाते हैं। अगर यह आपके साथ भी होता है तो ये एक गंभीर समस्या है। अगर आपने इस पर ध्यान नहीं दिया तो ये आने वाले समय में आपकी मुश्किलें बढ़ा सकती है। आज के इस बदलते दौर में यह समस्या ज्यादातर लोगों को होती है। कभी-कभी पेशाब करने के लिए शौचालय जाते समय पैंट में पेशाब निकल जाता है। इस समस्या को मूत्र असंयम कहा जाता है। यूरिन लीकेज या यूरिन लीकेज की यह समस्या तब होती है जब आप ब्लैडर पर कंट्रोल नहीं कर पाते हैं। कभी टॉयलेट पहुंचने से पहले यूरिन लीक हो जाता है। ऐसा स्ट्रेस के कारण भी होता है दरअसल आपके ब्लैडर पर प्रेशर बन जाता है, जिससे यूरिन लीक हो जाता है। जब आप बार-बार खांसने और छींकते हैं उससे ये समस्या और बढ़ जाती है।

 

 

यूरिनरी इनकॉन्टिनेंस क्या है? (What is Urinary Incontinence in Hindi)

 

यह एक ऐसी बीमारी है जो आपको बहुत ही शर्मिंदगी महसूस करवा सकती है। ऐसे में वह व्यक्ति असहज महसूस करता है क्योंकि इससे कभी भी और कहीं भी पेशाब का रिसाव हो सकता है। खांसने, छींकने, हंसने, भारी चीजें उठाने, सीढ़ियां चढ़ने आदि पर पेशाब का रिसाव अपने आप होने लगता है। ऐसा अनुमान है कि हर 8 में से एक पुरुष इस समस्या से पीड़ित है। इस बीमारी का इलाज आसानी से किया जा सकता है।

 

यूरिनरी इनकॉन्टिनेंस के प्रकार (Types of Urinary Incontinence in Hindi)

 

हमने आपको ये तो बता दिया कि यूरिनरी इनकॉन्टिनेंस क्या है? अब यह भी जानिए इसके कितने प्रकार होते हैं। आपको बता दे कि यूरिनरी इनकॉन्टिनेंस तब होता है जब एक व्यक्ति के पैल्विक ऊतक और मांसपेशियां कमजोर हो जाती हैं। यदि कोई पुरुष या महिला अपने मूत्राशय को पूरी तरह से खाली करने में असमर्थ है, तो इसका मतलब है कि वह ओवरफ्लो इनकॉन्टिनेंस (overflow incontinence) से भी पीड़ित हो सकता है, जो ज्यादातर पुरुषों में देखा जाता है। फंक्शनल इनकॉन्टिनेंस (Functional incontinence)- इस स्थिति में व्यक्ति पेशाब करने में असमर्थ होता है।

 

 

यूरिनरी इनकंटीनेंस ट्रीटमेंट के लिए चेन्नई के सबसे अच्छे हॉस्पिटल? (Urinary incontinence treatment Best hospitals in Chennai)

 

  • सिम्स अस्पताल, जवाहरलाल नेहरू सलाई, चेन्नई (Sims Hospital, Jawaharlal Nehru Salai, Chennai)

 

  • कावेरी अस्पताल, अलवरपेट, चेन्नई (Kauvery Hospital, Alwarpet, Chennai)

 

  • क्लाउडनाइन अस्पताल, टी नगर, चेन्नई (Cloudnine Hospitals, T Nagar, Chennai)

 

  • अपोलो अस्पताल, ग्रीम्स लेन, चेन्नई (Apollo Hospitals, Greams Lane, Chennai)

 

 

यूरिनरी इनकंटीनेंस ट्रीटमेंट के लिए हैदराबाद के सबसे अच्छे हॉस्पिटल? (Urinary incontinence treatment Best hospitals in Hyderabad)

 

  • यशोदा सुपर स्पेशलिटी अस्पताल, सोमाजी गुडा, हैदराबाद (Yashoda Super Speciality Hospital, Somaji Guda, Hyderabad)

 

  • अपोलो हेल्थ सिटी, जुबिल हिल्स, हैदराबाद (Apollo Health City, Jubille Hills, Hyderabad)

 

  • कॉन्टिनेंटल हॉस्पिटल्स लिमिटेड, हैदराबाद (Continental Hospitals Limited, Hyderabad)

 

  • ग्लेनीगल्स ग्लोबल हॉस्पिटल्स, लकड़ी का पूल, हैदराबाद (Gleneagles Global Hospitals, Lakadi Ka Pool, Hyderabad)

 

 

यूरिनरी इनकंटीनेंस ट्रीटमेंट के लिए गुरुग्राम के सबसे अच्छे हॉस्पिटल? (Urinary incontinence treatment Best hospitals in Gurugram)

 

  • नारायण सुपरस्पेशलिटी अस्पताल, गुरुग्राम (Narayana Superspeciality Hospital, Gurugram)

 

  • मेदांता द मेडिसिटी, गुरुग्राम (Medanta The Medicity, Gurugram)

 

  • फोर्टिस हेल्थकेयर लिमिटेड, गुरुग्राम (Fortis Healthcare Ltd., Gurugram)

 

  • पारस अस्पताल, गुरुग्राम (Paras Hospitals, Gurugram)

 

 

यूरिनरी इनकंटीनेंस ट्रीटमेंट के लिए दिल्ली के सबसे अच्छे हॉस्पिटल? (Urinary incontinence treatment Best hospitals in Delhi)

 

आपको बता दें कि भारत में स्पाइन डीकंप्रेसन सर्जरी आसानी से उपलब्ध है इसके लिए आप हमें चुन सकते हैं हम आपको सबसे सस्ती कीमत पर इसका इलाज उपलब्ध कराने की पूरी कोशिश करेंगे। आप इनमें से किसी भी अस्पताल में इलाज करवा सकते हैं:

 

  • बीएलके सुपर स्पेशलिटी अस्पताल, राजिंदर नगर, दिल्ली (Blk Super Speciality Hospital, Rajinder Nagar, Delhi)

 

  • इंद्रप्रस्थ अपोलो अस्पताल, सरिता विहार, दिल्ली (Indraprastha Apollo Hospitals, Sarita Vihar, Delhi)

 

  • फोर्टिस हार्ट अस्पताल, ओखला, दिल्ली (Fortis Heart Hospital, Okhla, Delhi)

 

  • मैक्स सुपर स्पेशलिटी अस्पताल, साकेत, दिल्ली (Max Super Speciality Hospital, Saket, Delhi)

 

यूरिनरी इनकंटीनेंस ट्रीटमेंट के लिए बैंगलोर के सबसे अच्छे हॉस्पिटल? (Urinary incontinence treatment Best hospitals in Bangalore)

 

  • अपोलो अस्पताल, बन्नेरघट्टा रोड, बैंगलोर (Apollo Hospitals, Bannergatta Road, Bangalore)

 

  • फोर्टिस अस्पताल, बन्नेरघट्टा रोड, बैंगलोर (Fortis Hospital, Bannergatta Road, Bangalore)

 

  • नारायण इंस्टीट्यूट ऑफ कार्डिएक साइंसेज, अनेकल तालुक, बैंगलोर (Narayana Institute Of Cardiac Sciences, Anekal Taluk, Bangalore)

 

  • स्पर्श अस्पताल, यशवंतपुर, बैंगलोर (Sparsh Hospital, Yeshwantpur, Bangalore)

 

 

यूरिनरी इनकंटीनेंस ट्रीटमेंट के लिए मुंबई के सबसे अच्छे हॉस्पिटल? (Urinary incontinence treatment Best hospitals in Mumbai)

 

  • डॉ एल एच हीरानंदानी अस्पताल, मुंबई (Dr L H Hiranandani Hospital, Mumbai)

 

  • जसलोक अस्पताल और अनुसंधान केंद्र, पेडर रोड, मुंबई (Jaslok Hospital & Research Centre, Pedder Road, Mumbai)

 

  • लीलावती अस्पताल और अनुसंधान केंद्र, बांद्रा, मुंबई (Lilavati Hospital And Research Centre, Bandra, Mumbai)

 

  • नानावती सुपर स्पेशलिटी अस्पताल, विले पार्ले वेस्ट, मुंबई (Nanavati Super Speciality Hospital, Vile Parle West, Mumbai)

 

 

यूरिनरी इनकंटीनेंस का क्या कारण है? (What are the cause of urinary incontinence in Hindi)

 

जब आपकी पैल्विक मांसपेशियां कमजोर होने लगती हैं, तो यूरिनरी इनकॉन्टिनेंस हो सकता है।

प्रोस्टेट ग्रंथि पुरुषों के मूत्राशय के आसपास स्थित होती है। प्रोस्टेट ग्रंथि भी उम्र के साथ बढ़ती है। यह मूत्र असंयम या मूत्र रिसाव का कारण भी बन सकता है।

बढ़ती उम्र के कारण भी यूरिनरी असंयम की समस्या देखी जा सकती है। उम्र के साथ, मूत्राशय को सहारा देने वाली मांसपेशियां कमजोर होने लगती हैं। इससे पेशाब का रिसाव भी होता है।

जब मूत्राशय पेशाब से भर जाए तो उसे रुकना नहीं चाहिए। कुछ लोग इसे तब तक पकड़ कर रखते हैं जब तक कि भारी पेशाब शुरू न हो जाए। आपकी ये आदतें मूत्राशय को कमजोर कर सकती हैं।

आपके खाने की आदतें भी मूत्राशय को काफी हद तक प्रभावित कर सकती हैं। जंक फूड, शराब, सोडा, कार्बोनेटेड पेय, कैफीन आदि का सेवन मूत्राशय में जलन पैदा कर सकता है। इससे पेशाब का रिसाव भी हो सकता है।

 

 

यूरिनरी इनकंटीनेंस के लिए टेस्ट? (Test for urinary incontinence in Hindi)

 

आपके यूरिनरी इनकंटीनेंस के प्रकार को निर्धारित करना महत्वपूर्ण है, और आपके लक्षण अक्सर आपके डॉक्टर को बताते हैं कि आपके पास किस प्रकार के यूरिनरी इनकंटीनेंस की समस्या है। डॉक्टर के लिए यह जानकारी आपके उपचार निर्णयों का मार्गदर्शन करेगी।

आपके डॉक्टर द्वारा पूरी तरह से इतिहास और शारीरिक परीक्षा के साथ शुरुआत करेंगे। उसके बाद, आपका डॉक्टर संभवतः सिफारिश करेगा:

 

  • मूत्रालय (Urinalysis): इस टेस्ट में आपके पेशाब का सैंपल की जाँच की जाएगी।

 

  • मूत्राशय की डायरी (Bladder diary): इस परीक्षण में आपके पेशाब के सैंपल को कई दिनों के लिए रिकॉर्ड रखते हैं।

 

  • पोस्टवॉइड अवशिष्ट माप (Postvoid residual measurement): आपको एक कंटेनर में पेशाब (शून्य) करने के लिए कहा जाता है जो मूत्र उत्पादन को मापता है। फिर आपका डॉक्टर कैथेटर या अल्ट्रासाउंड परीक्षण का उपयोग करके आपके मूत्राशय में बचे हुए मूत्र की मात्रा की जांच करता है। आपके मूत्राशय में बड़ी मात्रा में बचे हुए मूत्र का मतलब यह हो सकता है कि आपको अपने मूत्र पथ में रुकावट है या आपके मूत्राशय की नसों या मांसपेशियों में कोई समस्या है।

 

यूरिनरी इनकंटीनेंस के लिए सर्जरी? (surgery for urinary incontinence in Hindi)

 

  • स्लिंग प्रोसीजर (Sling procedures): आपके शरीर के ऊतकों की सिंथेटिक सामग्री (जाल) या स्ट्रिप्स का उपयोग आपके मूत्रमार्ग के नीचे एक पेल्विक स्लिंग बनाने के लिए और मोटी मांसपेशियों के क्षेत्र में किया जाता है जहां मूत्राशय मूत्रमार्ग (मूत्राशय की गर्दन) से जुड़ता है। गोफन मूत्रमार्ग को बंद रखने में मदद करता है, खासकर जब आप खांसते या छींकते हैं। इस प्रक्रिया का उपयोग तनाव असंयम के इलाज के लिए किया जाता है।

 

  • ब्लैडर नैक सस्पेंशन (Bladder neck suspension:): यह प्रक्रिया आपके मूत्रमार्ग और मूत्राशय की गर्दन को सहायता प्रदान करने के लिए डिज़ाइन की गई है – मोटी मांसपेशियों का एक क्षेत्र जहां मूत्राशय मूत्रमार्ग से जुड़ता है। इसमें पेट का चीरा शामिल है, इसलिए यह सामान्य या स्पाइनल एनेस्थीसिया के दौरान किया जाता है।

 

  • प्रोलैप्स सर्जरी (Prolapse surgery): जिन महिलाओं में पेल्विक ऑर्गन प्रोलैप्स और मिक्स्ड इनकंटीनेंस है, सर्जरी में स्लिंग प्रक्रिया और प्रोलैप्स सर्जरी का संयोजन शामिल हो सकता है। केवल पेल्विक ऑर्गन प्रोलैप्स की मरम्मत से नियमित रूप से मूत्र असंयम के लक्षणों में सुधार नहीं होता है।

 

  • कृत्रिम मूत्र दबानेवाला यंत्र (Artificial urinary sphincter): मूत्राशय की ऊपर के चारों ओर एक छोटी, द्रव से भरी हुई अंगूठी को तब तक प्रत्यारोपित किया जाता है जब तक कि पेशाब करने की आवश्यकता न हो। पेशाब करने के लिए, आप अपनी त्वचा के नीचे लगाए गए एक वाल्व को दबाते हैं जिससे अंगूठी ख़राब हो जाती है और आपके मूत्राशय से मूत्र प्रवाहित होता है।

 

यदि आप सस्ती कीमत पर यूरिनरी इनकॉन्टिनेंस की सर्जरी की तलाश कर रहे हैं या इससे सम्बंधित किसी भी तरह की जानकारी हासिल करना चाहते हैं तो यहाँ क्लिक करें आप हमसे व्हाट्सएप (+91 9654030724) पर संपर्क कर सकते हैं। इसके अलावा आप हमारी सेवाओं के संबंध में हमें Connect@gomedii.com पर ईमेल भी कर सकते हैं। हमारी टीम जल्द से जल्द आपसे संपर्क करेगी।


Doctor Consutation Free of Cost=

Disclaimer: GoMedii  एक डिजिटल हेल्थ केयर प्लेटफार्म है जो हेल्थ केयर की सभी आवश्यकताओं और सुविधाओं को आपस में जोड़ता है। GoMedii अपने पाठकों के लिए स्वास्थ्य समाचार, हेल्थ टिप्स और हेल्थ से जुडी सभी जानकारी ब्लोग्स के माध्यम से पहुंचाता है जिसको हेल्थ एक्सपर्ट्स एवँ डॉक्टर्स से वेरिफाइड किया जाता है । GoMedii ब्लॉग में पब्लिश होने वाली सभी सूचनाओं और तथ्यों को पूरी तरह से डॉक्टरों और स्वास्थ्य विशेषज्ञों द्वारा जांच और सत्यापन किया जाता है, इसी प्रकार जानकारी के स्रोत की पुष्टि भी होती है।