पेशाब की नली में सूजन का इलाज

GoMedii Offer

मूत्र पथ के संक्रमण का मूत्र संक्रमण आज आम है, यह कामकाजी जीवन में कई लोगों को होता है। इसके कारण पेशाब में जलन और दर्द होता है। महिलाओं और पुरुषों दोनों में मूत्र संक्रमण होता है। 100% लोगों में से, 80% लोगों को किसी न किसी समय यह समस्या होती है।

 

 

मूत्राशय में संक्रमण या अतिरिक्त रक्त (वह स्थान जहाँ मूत्र इकट्ठा होता है) से सूजन हो जाती है, जिससे रोगी के मूत्र में दर्द, दर्द और जलन होती है। इसके साथ, रोगी में पेशाब की बूंद गिरने जैसे लक्षण दिखाई देते हैं।

 

 

पेशाब की नली में सूजन के कारण

 

  • सूजन,
  • मूत्राशय में जलन,
  • मूत्र नली में मूत्रमार्ग में सूजन,
  • कोरियोन का विरूपण,
  • मधुमेह,
  • यक्ष्मा के कारण मूत्राशय में गांठ,
  • गर्मी में पानी न पिएं
  • यूरिन इन्फेक्शन का मुख्य कारण है

 

 

पेशाब की नली में सूजन के लक्षण

 

  • आंतरायिक पेशाब,
  • बार-बार पेशाब आना,
  • पीला मूत्र,
  • पेशाब के दौरान जलन होना

 

पेशाब की सूजन का इलाज घरेलू उपचार द्वारा।

 

तुलसी: तुलसी के पत्तों को मिश्री के साथ मिलाकर बार-बार पीने से मूत्राशय की जलन के रोग में लाभ होता है।

 

 

जंगली अजमोद: जंगली अजमोद का काढ़ा सिरका और शहद के साथ मिलाकर नाभि के नीचे सूजन और दर्द को ठीक करता है।

 

 

चंदन: बेताशे पर चंदन के तेल की 5 से 15 बूंदें डालकर दिन में 3 बार खाने से मूत्राशय की जलन ठीक हो जाती है।

 

 

गुग्गुल: लगभग आधा से एक ग्राम गुग्गुल गुड़ के साथ लेने से मूत्राशय की सूजन समाप्त हो जाती है।

 

 

लोबान: लगभग आधा से एक ग्राम लोबान को बादाम और गोंद के साथ सुबह-शाम लेने से पेशाब में आराम मिलता है।

 

 

शिलारस: गिलोय के साथ शिलारस का आधा से एक ग्राम सुबह-शाम सेवन करने से मूत्राशय की सूजन और पेशाब की जलन ठीक हो जाती है।

 

 

गाथिबान (बंटुलसी): गितिबन (बंटुलसी) के पत्तों को पीसकर मूत्राशय की सूजन पर लगाएं।

 

 

दालचीनी: आधा ग्राम दालचीनी का चूर्ण दूध के साथ या आधा ग्राम फिटकरी के साथ रोजाना तीन बार खाने से मूत्राशय की सूजन ठीक हो जाती है। इस पेस्ट को नाभि के नीचे लगाने से फायदा होता है।

 

 

छोटे गोखरू: छोटे गोखरू का काढ़ा दिन में दो बार लेने से मूत्राशय की सूजन में आराम मिलता है।

 

 

अपराजिता: मूत्राशय की सूजन में अपराजिता का फांट या घोल दिन में दो बार खाने से लाभ होता है।

 

 

अतीबाला: 4 से 8 ग्राम अतीबला के बीजों को सुबह-शाम खाने से नाभि के सभी रोग और सूजन ठीक हो जाते हैं।

 

 

कुश: कुश की जड़ को 3 से 6 ग्राम की मात्रा में पीसकर सुबह-शाम पीने से मूत्राशय से संबंधित सभी रोग दूर हो जाते हैं।

 

 

डाभी: 3 से 6 ग्राम दाबजी की जड़ को पीसकर सुबह-शाम पीने से मूत्राशय के सभी रोग समाप्त हो जाते हैं।

 

 

हरिदूब: हरिदूब की जड़ का 40 ग्राम काढ़ा सुबह और शाम लेने से जलन और पेशाब की सूजन समाप्त हो जाती है।

 

 

ग्वारपाठा की जड़: 40 ग्राम चूर्ण या ग्वारपाठा की जड़ का घोल सुबह-शाम लेने से मूत्राशय की सूजन समाप्त हो जाती है।

 

 

अपामार्ग: अपामार्ग की जड़ 5 ग्राम से 10 ग्राम या 15 ग्राम से लेकर 50 ग्राम तक काढ़ा दिन में दो बार पीने से मूत्राशय की सूजन और सूजन समाप्त होती है।

 

 

तालमखाना: तालमखाना की जड़ का 40 ग्राम काढ़ा या 2 से 4 ग्राम बीज सुबह-शाम दूध के साथ लेने से मूत्राशय की सूजन समाप्त हो जाती है।

 

 

पाताल गरूड़ी: पाताल गरूड़ की 3 से 6 ग्राम जड़ को सुबह और शाम देने से मूत्राशय की सूजन समाप्त होती है।

 

 

खलिहान की छाल: 20 ग्राम से 40 ग्राम काढ़ा, बरन की छाल, अपामार्ग, पुनर्नवा, यवक्षार, गोखरू, मुलेठी को मिलाकर सुबह-शाम सेवन करने से मवाद दर्द, मधुमेह, मूत्रकृच्छ (पेशाब) का इलाज होता है। जलन या उससे पीड़ित) रोगों में फायदेमंद है।

 

 

खीरा: आधा से 10 ग्राम खीरे के बीजों को पीसकर सिरप की तरह रोजाना 2 और 3 बार पीने से मूत्राशय का दर्द ठीक हो जाता है।


Doctor Consutation Free of Cost=

Disclaimer: GoMedii  एक डिजिटल हेल्थ केयर प्लेटफार्म है जो हेल्थ केयर की सभी आवश्यकताओं और सुविधाओं को आपस में जोड़ता है। GoMedii अपने पाठकों के लिए स्वास्थ्य समाचार, हेल्थ टिप्स और हेल्थ से जुडी सभी जानकारी ब्लोग्स के माध्यम से पहुंचाता है जिसको हेल्थ एक्सपर्ट्स एवँ डॉक्टर्स से वेरिफाइड किया जाता है । GoMedii ब्लॉग में पब्लिश होने वाली सभी सूचनाओं और तथ्यों को पूरी तरह से डॉक्टरों और स्वास्थ्य विशेषज्ञों द्वारा जांच और सत्यापन किया जाता है, इसी प्रकार जानकारी के स्रोत की पुष्टि भी होती है।