गुर्दे में संक्रमण के कारण, लक्षण और बचाव

UPTO20

इंसान के शरीर के सभी अंग उसके लिए महत्वपूर्ण होते है। जिनमें सबसे एहम है इंसान का गुर्दा (Kidney), लेकिन कुछ वजह से गुर्दे में संक्रमण हो जाता है। आज हम गुर्दे में संक्रमण (Kidney Infection) के कारण, लक्षण और उपाए के बारे में जानेंगे। वैसे आज कल के समय में सभी लोग कुछ भी खाते है और कुछ भी पीते है। जिसकी वजह से उनके शरीर पर बुरा प्रभाव पड़ता है और शरीर में कई तरह की बीमारी होने लगती है। जिनमें सबसे एहम है गुर्दा यानि किडनी, आपके शरीर के लिए सबसे आवश्यक अंग है, क्योंकि ये आपके शरीर में प्यूरीफायर का काम करती है।

 

यदि किसी कारण वश आपके एक गुर्दा में संक्रमण हो जाता है तो आपका दूसरा गुर्दा काम करता है। लेकिन एक गुर्दे के ख़राब होने के बाद एक गुर्दे पर जीवन जीना बहुत मुश्किल हो जाता है। तो आइये गुर्दे में संक्रमण (Kidney Infection) के कारणों को जानते है।

गुर्दे में संक्रमण के कारण

 

अधिक शराब का सेवन : यह गुर्दे में संक्रमण का सबसे एहम कारण होता है, इसलिए ऐसा करने से बचे।

गंदे पानी का सेवन : इसकी वजह से आपको कई अन्य बीमारिया भी हो सकती है, इसलिए जब भी पानी पीए तो साफ़ पानी ही पीए।

मधुमेह होना (Diabetes) : जिन लोगों को मधुमेह होता है. उनकी किडनी जल्दी ख़राब होने के चांस होते है। मधुमेह के मरीजों को अपना बहुत ध्यान रखने की जरुरत होती है।

उच्च रक्तचाप (High Blood Pressure) : यदि आपको उच्च रक्तचाप की समस्या है तो आपको ये संक्रमण हो सकता है।

आयरन वाले फूड्स का ज्यादा सेवन : कुछ लोग ज्यादा आयरन वाले खाद्य पदार्थ का सेवन करते है, उस वजह से किडनी पर जोर पड़ता है और उसमें इन्फेक्शन हो जाता है।

शरीर में यूरिक एसिड बढ़ जाना : शरीर में यूरिक एसिड तब बढ़ता है जब आप दालों का सेवन अधिक करते है, इसलिए ऐसा न करें।

ज्यादा नमक का सेवन : अपने खाने में नामक का सेवन कम ही रखे, इससे आपकी किडनी में संक्रमण होने के कम चांस रहते है।

ज्यादा कैफीन : कुछ लोग कॉफी का सेवन करते है अपना स्ट्रेस कम करने के लिए, लेकिन उसका सीधा असर उनकी किडनी पर पड़ता है।

ये सभी आपके गुर्दे में संक्रमण (Kidney Infection) के मुख्य कारण होते है, ऐसे बहुत से लोग होते है, जिन्हें गुर्दे में संक्रमण का पता काफी बाद में चलता है। जिसकी वजह से इलाज में काफी दिक्कत आती है और इस देरी की वजह से लोगों को काफी ज्यादा पैसे खर्च करना पड़ता है। इसलिए जरुरी है, की आपको गुर्दे में संक्रमण के लक्षणों के बारे में भी पता होना चाहिए।

 

गुर्दे में संक्रमण लक्षण

 

  • पेशाब में खून आना : जिन लोगों को पेशाब में हल्का सा भी खून आता है तो उन्हें तुरंत डॉक्टर से सलाह लेनी चाहिए।
  • ज्यादा पेशाब होना : अक्सर कुछ लोगों को सामान्य से ज्यादा पेशाब आता है, जो गुर्दे के ख़राब होने के लक्षण होते है।
  • थकावट और कमजोरी होना : जिन लोगों को अक्सर थकान और शरीर में कमजोरी रहती है उन्हें इस बात का ध्यान रखना चाहिए की कहीं ये उनकी किडनी ख़राब होने के लक्षण तो नहीं।
  • उलटी आना : यदि आपको हमेशा उलटी आने जैसा फील होता है तो ये भी इसके लक्षण होते है।
  • पेशाब कम मात्रा में होना : डॉक्टरों का कहना है जिन लोगों को बहुत कम पेशाब होता है, तो ये भी इसके लक्षण होते है।
  • पैरों और टखनों में सूजन : जिन लोगों के शरीर में सूजन रहती है, उन्हें भी एक बार डॉक्टर से सलाह लेनी चाहिए।
  • नींद में कमी : जिन लोगों को नींद नहीं आती है तो ये भी कई बीमारी का संकेत होता है, कई बार नींद पूरी न लेने से बाल भी बहुत तेजी से झड़ने लगते है।
  • भूख कम लगना : यदि अचानक आपकी भूख कम होने लगे तो ये भी गुर्दे संक्रमण के लक्षण होते है। ऐसा होने पर तुरंत डॉक्टर से सलाह लें।
  • पेट में दर्द होना : ये तो बहुत आम है लेकिन ये पेट दर्द हमेशा रहता है, तो आपको डॉक्टर को बताना चाहिए तब डॉक्टर अल्ट्रासॉउन्ड के जरिये गुर्दे में संक्रमण का पता लगाया जाता है।

 

ये सभी लक्षण यदि आपको खुद में या आपके किसी जानने वाले में दिखाई देते है तो आपको तुरंत डॉक्टर से सलाह लेने की जरुरत है। जिससे आपका समय से इलाज शुरू किया जा सके और किडनी को इलाज के द्वारा ठीक किया जा सके। एक बार गुर्दा ख़राब होने के बाद आपके शरीर में कई अन्य बीमारियों के होने का खतरा रहता है।


Doctor Consutation Free of Cost=

Disclaimer: GoMedii  एक डिजिटल हेल्थ केयर प्लेटफार्म है जो हेल्थ केयर की सभी आवश्यकताओं और सुविधाओं को आपस में जोड़ता है। GoMedii अपने पाठकों के लिए स्वास्थ्य समाचार, हेल्थ टिप्स और हेल्थ से जुडी सभी जानकारी ब्लोग्स के माध्यम से पहुंचाता है जिसको हेल्थ एक्सपर्ट्स एवँ डॉक्टर्स से वेरिफाइड किया जाता है । GoMedii ब्लॉग में पब्लिश होने वाली सभी सूचनाओं और तथ्यों को पूरी तरह से डॉक्टरों और स्वास्थ्य विशेषज्ञों द्वारा जांच और सत्यापन किया जाता है, इसी प्रकार जानकारी के स्रोत की पुष्टि भी होती है।