आपको मालूम है पेट में भी होता है माइग्रेन

माइग्रेन (Migraine) एक ऐसा सर दर्द हैं, जिससे सिर दर्द से फटा ही चला जाता है। यह दर्द इतना तेज होता हैं, की जो माइग्रेन का मरीज होता हैं। उसके लिए ये दर्द असहनीय होता है। माइग्रेन  (Migraine) के दर्द से बचने के लिए लोग तरह तरह के उपाए करते हैं. लेकिन आपको जानकर आश्‍चर्य होगा कि माइग्रेन  (Migraine) का दर्द सिर्फ सिर में ही नहीं होता है।

 

बल्कि पेट में भी हो सकता हैं पेट में होने वाले माइग्रेन को ऐब्डॉमिनल माइग्रेन (Abdominal Migraine) कहते हैं और इसकी वजह से आपको तेज दर्द, मरोड़, थकान और उल्टी हो सकती है। आइए जानते है पेट के माइग्रेन  (Migraine) के बारे में।

 

कितना होता हैं खतरा-

 

पेट का माइग्रेन  (Migraine) अक्सर 7 से 10 साल के बीच के बच्चों को ज्‍यादा प्रभावित करते हैं। इसका सबसे ज्यादा खतरा उन बच्चो को होता हैं, जिसके माता-पिता पहले से माइग्रेन के शिकार हैं।बच्चों में भी इस तरह के माइग्रेन के मामले सबसे ज्यादा लड़कियों में देखे गए हैं। जिन बच्चो को बचपन में एब्डॉमिनल माइग्रेन (Abdominal Migraine) की शिकायत होती है, बड़े होकर उन्हें सिर का माइग्रेन होने की संभावना भी बहुत ज्यादा होती है।

 

पेट के माइग्रेन का कारण-

 

पेट में माइग्रेन (Migraine) के सही-सही कारण का अब तक पता नहीं लगा हैं, लेकिन डॉक्टर मानते हैं कि शरीर में बनने वाले दो कंपाउंड हिस्टामाइन और सेरोटोनिन इस तरह के दर्द के जिम्मेदार होते हैं। शरीर में ये दोनों ही कंपाउंड ज्यादा चिंता करने और अवसाद के कारण बनते हैं, चाइनीज फूड्स और इंस्टैंट नूडल्स में इस्तेमाल होने वाला मोनोसोडियम ग्लूटामेट (Monosodium Glutamate) या एमएसजी, प्रोसेस्ड मीट और चॉकलेट के ज्यादा सेवन से भी शरीर में ये कंपाउंड बनते हैं। कई बार ज्यादा मात्रा में हवा निगल लेने के कारण भी ऐब्डॉमिनल या पेट के माइग्रेन (Migraine) की समस्या हो सकती है। इसलिए अपने बच्‍चें को वयस्‍क को समय समय पर हेल्‍दी खुराक देते रहें।

 

कैसे मालूम चलेंगे इसके लक्षण-

 

आमतौर पर पेट में माइग्रेन के लक्षण पहले से नहीं दिखाई देते हैं, कई बार पेट के माइग्रेन का दर्द आधे घंटे में ही ठीक हो जाता हैं, और कई दफा दो-तीन दिन तक बना रहता हैं, पेट के माइग्रेन का मुख्य लक्षण बेली बटन के आसपास दर्द होता हैं या सुस्ती आने लगती हैं, इसके आलावा पेट के दर्द की समस्या , पेट का रंग पीला दिखाई देना भूख कम लगना और खाने-पीने का मन न करना, आंखों के नीचे काले घेरे आना।

 

क्या हैं इलाज-

 

पेट के माइग्रेन का वैसे तो कोई सटीक इलाज नहीं हैं। आमतौर पर एब्डॉमिनल माइग्रेन (Abdominal Migraine) का पता चलने पर चिकित्सक इसका इलाज सामान्य माइग्रेन की तरह करते हैं, जिससे कई बार मरीज को पूरा लाभ नहीं मिल पाता हैं, आमतौर पर बिना किसी गंभीर लक्षण के दिखाई दिए, चिकित्सक दवा न लें।


Doctor Consutation Free of Cost=

Disclaimer: GoMedii  एक डिजिटल हेल्थ केयर प्लेटफार्म है जो हेल्थ केयर की सभी आवश्यकताओं और सुविधाओं को आपस में जोड़ता है। GoMedii अपने पाठकों के लिए स्वास्थ्य समाचार, हेल्थ टिप्स और हेल्थ से जुडी सभी जानकारी ब्लोग्स के माध्यम से पहुंचाता है जिसको हेल्थ एक्सपर्ट्स एवँ डॉक्टर्स से वेरिफाइड किया जाता है । GoMedii ब्लॉग में पब्लिश होने वाली सभी सूचनाओं और तथ्यों को पूरी तरह से डॉक्टरों और स्वास्थ्य विशेषज्ञों द्वारा जांच और सत्यापन किया जाता है, इसी प्रकार जानकारी के स्रोत की पुष्टि भी होती है।