हैंड वॉश और टूथपेस्ट से भी होता है कैंसर! आपके लिए जानना है जरूरी

हैंड वाश और टूथपेस्ट में पाए जाने वाले जीवाणुरोधी संघटक ट्राइक्लोजन (Trichlogen) से गट बैक्टीरिया (अंतड़ियो में पाए जाने वाले सूक्ष्मजीव) बदल सकते हैं, जिनसे मलाशय के कैंसर (Cancer) का खतरा बढ़ सकता हैं।

 

वाशिंगटन-

 

हैंड वाश और टूथपेस्ट में पाए जाने वाले जीवाणुरोधी संघटक ट्राइक्लोजन (Trichlogen) से गट बैक्टीरिया (Bacteria) (अंतड़ियो में पाए जाने वाले सूक्ष्मजीव) बदल सकते हैं, जिनसे मलाशय के कैंसर का खतरा बढ़ सकता हैं। ‘साइंस ट्रांसलेशनल मेडिसिन’ (Science Translation Medicine) पत्रिका में प्रकाशित अध्यन में कहा गया की चूहों में किये गए प्रयोग में उनमें ट्राइक्लोजन से मलाशय में जलन हुई और उससे जुड़े कैंसर की रफ्तार बढ़ गई.

 

अमेरिका में यूनिवर्सिटी ऑफ मेसाचुसेट्स (University of Massachusetts) अम्हर्स्ट के गुओदांग झांग ने कहा, “इन नतीजों से पहली बार पता चला की ट्राइक्लोजन (Trichlogen) से हमारी अंतड़ियो के स्वस्थ्य पर प्रतिकूल असर पड सकता हैं, शोधकर्ताओ ने कहा की जीवनरोधी संघटक के रूप में ट्राइक्लोजन (Trichlogen) का व्यापक इस्तेमाल हो रहा है और यह 2,000 से ज्यादा उपभोक्ता उत्पादों में पाया जाता है.

 

चाय पीने से कम होता है कैंसर का खतरा-

 

अमेरिका में एक विश्वविद्यालय में किए गए शोध के अनुसार चाय खासकर काली और हरी चाय पीने से कैंसर का खतरा कम हो जाता है क्युकी इनमे ‘एंटी-आक्सीडेंट’ (Anti-Oxidant) तत्व मौजूद होते हैं विस्कोनसिन विश्वविद्यालय (University of Visconsin) से जुड़े शोधकर्ता हसन मुख्तार ने कहा था के दुनिया भर में चाय एक लोकप्रिय पेय है और इसमें स्वास्थ्य के लिए फायदेमंद तत्व होने का पता लगा गया था. इंडियन टी एसोसिएशन द्वारा शुक्रवार को यहां आयोजित एक सेमिनार में मुख्तार ने कहा था कि हरी चाय में कैंसर निवारक प्रभाव होने का पता लगा है.

 


Doctor Consutation Free of Cost=

Disclaimer: GoMedii  एक डिजिटल हेल्थ केयर प्लेटफार्म है जो हेल्थ केयर की सभी आवश्यकताओं और सुविधाओं को आपस में जोड़ता है। GoMedii अपने पाठकों के लिए स्वास्थ्य समाचार, हेल्थ टिप्स और हेल्थ से जुडी सभी जानकारी ब्लोग्स के माध्यम से पहुंचाता है जिसको हेल्थ एक्सपर्ट्स एवँ डॉक्टर्स से वेरिफाइड किया जाता है । GoMedii ब्लॉग में पब्लिश होने वाली सभी सूचनाओं और तथ्यों को पूरी तरह से डॉक्टरों और स्वास्थ्य विशेषज्ञों द्वारा जांच और सत्यापन किया जाता है, इसी प्रकार जानकारी के स्रोत की पुष्टि भी होती है।