विश्‍व कैंसर दिवस 2020 (World Cancer Day 2020), जानिए क्या है इस साल की थीम?

Safe20

 

 

वर्ल्ड कैंसर डे, हर साल 4 फरवरी को विश्व भर में मनाया जाता है। पूरी दुनिया में कैंसर लोगों की मौत का दूसरा सबसे प्रमुख कारण है। आपको बता दें की कैंसर शरीर के ऊतक (tissue) या कोशिकाओं (Cells) की असामान्य वृद्धि के कारण होता है। स्तन कैंसर, फेफड़े का कैंसर, पेट का कैंसर, त्वचा कैंसर, प्रोस्टेट कैंसर कई प्रकार के कैंसर हैं जो वर्तमान में अस्तित्व में हैं।

 

दरअसल कैंसर से संबंधित लक्षण इसके प्रकार पर निर्भर हैं। आप अपनी जीवनशैली और आहार में पौष्टिक भोजन को शामिल करके कैंसर के जोखिम को कम कर सकते हैं। हर साल भारत में कैंसर के मामले में इजाफा होता जा रहा है। भारत में कुछ महत्वपूर्ण तथ्यों और आंकड़ों पर नज़र डालें तो उसके आधार पर तो यही बात सामने आई है। भारत में हर साल एक लाख से अधिक नए कैंसर के मामले सामने आते हैं। उनमें से ज्यादातर लोगों की मौत इस बीमारी की अनदेखी के कारण होती है।

 

 

 

वर्ल्ड कैंसर डे 2020 की थीम क्या है?

 

 

हर साल कैंसर के प्रति लोगों को जागरूक करने के लिए अलग-अलग थीम रखी जाती है। उसी प्रकार वर्ल्ड कैंसर डे 2020 पर “आई एम एंड आई विल” (I am and I will) थीम रखी गई है। दरअसल इसका मतलब है की मैं कैंसर से पीड़ित हूँ और मैं इससे लडूंगी / लडूंगा। ये तो आप सभी जानते हैं की इसका नाम सुनकर ही उस व्यक्ति को एक गहरा सदमा लगता है और उसे यही लगता है की अब वह बच नहीं सकता है। कैंसर से पीड़ित व्यक्ति शारीरिक और मानसिक रूप से बहुत कमजोर होने लगता है। यदि कैंसर का पता सही समय पर चल जाता है तो उस व्यक्ति को इलाज के द्वारा ठीक किया जा सकता है।

 

 

 

कैंसर के प्रकार

 

 

 

 

  • फेफड़े का कैंसर,

 

 

  • पेट का कैंसर,

 

 

  • त्वचा कैंसर,

 

 

  • प्रोस्टेट कैंसर।

 

 

भारत में सबसे ज्यादा होने वाले कैंसर हैं :

 

 

  • लंग कैंसर,

 

 

  • स्तन कैंसर,

 

 

  • सर्वाइकल कैंसर,

 

 

  • कोलोरेक्टल कैंसर।

 

 

डब्लूएचओ (WHO) के अनुसार 2018 में अनुमानित 9.6 मिलियन लोगों की मौत हुई, यदि छह लोगों को कैंसर है तो उनमें से 1 व्यक्ति की मौत हो जाती है और पाँच लोगों को उपचार के द्वारा बचा लिया जाता है। पुरुषों में होने वाले कैंसर में, प्रोस्टेट, कोलोरेक्टल, पेट और लिवर कैंसर सबसे आम प्रकार के कैंसर हैं, जबकि स्तन, कोलोरेक्टल, फेफड़े, ग्रीवा और थायरॉयड कैंसर महिलाओं में सबसे आम हैं।

 

 

 

कैंसर के मुख्य तथ्य

 

 

  • कैंसर से होने वाली लगभग 70% मौतें निम्न और मध्यम आय वाले देशों में होती हैं।

 

 

  • कैंसर से होने वाली लगभग एक तिहाई मौतें 5 प्रमुख जोखिमों के कारण होती हैं: उच्च शरीर द्रव्यमान सूचकांक (high body mass index), कम फल और सब्जी का सेवन (low fruit and vegetable intake), शारीरिक श्रम में कमी (lack of physical activity), तंबाकू का उपयोग (tobacco) और शराब (alcohol) का सेवन।

 

 

  • तंबाकू का सेवन कैंसर के लिए सबसे बड़ा जोखिम कारक है, लगभग 22% कैंसर से होने वाली मौतों के लिए जिम्मेदार है।

 

 

  • कैंसर के कारण संक्रमण, जैसे हेपेटाइटिस और मानव पैपिलोमा वायरस (human papilloma virus HPV), निम्न और मध्यम आय वाले देशों में 25% तक कैंसर के मामलों के लिए जिम्मेदार हैं।

 

 

  • कैंसर का आर्थिक प्रभाव महत्वपूर्ण है और बढ़ता जा रहा है। 2010 में कैंसर की कुल वार्षिक आर्थिक लागत लगभग अनुमानित $ 1.16 ट्रिलियन थी।

 

 

  • केवल 5 में से 5 निम्न- और मध्यम-आय वाले देशों में कैंसर नीति चलाने के लिए आवश्यक डेटा है।

 

 

 

कैंसर के जोखिम कारक

 

 

तम्बाकू, शराब का सेवन, पौष्टिक आहार में कमी, और शारीरिक श्रम में कमी, दुनिया भर में प्रमुख कैंसर जोखिम कारक हैं।

 

निम्न और मध्यम आय वाले देशों में कुछ पुराने संक्रमण कैंसर के लिए जोखिम कारक हैं। 2012 में लगभग 15% कैंसर का निदान कार्सिनोजेनिक संक्रमण (carcinogenic infections) के लिए किया गया था, जिसमें हेलिकोबैक्टर पाइलोरी (Helicobacter pylori), ह्यूमन पैपिलोमावायरस (एचपीवी), हेपेटाइटिस बी वायरस (Hepatitis B virus), हेपेटाइटिस सी वायरस (Hepatitis C virus) और एपस्टीन-बार वायरस 3 (Epstein-Barr virus3) शामिल थे।

 

हेपेटाइटिस बी, सी वायरस और कुछ प्रकार के एचपीवी लिवर और गर्भाशय ग्रीवा के कैंसर के खतरे को बढ़ाते हैं। एचआईवी के साथ संक्रमण से सर्वाइकल कैंसर जैसे कैंसर का खतरा काफी बढ़ जाता है।

 

 

 

कैंसर से कैसे बचें

 

 

प्रमुख जोखिम कारकों को संशोधित या टालना कैंसर जैसी बीमारी को काफी कम कर सकता है। इन जोखिम कारकों में शामिल हैं:

 

 

  • सिगरेट और तंबाकू का उपयोग,

 

 

  • अधिक वजन या मोटापे होना,

 

 

  • कम फल और सब्जी का सेवन करना,

 

 

  • शारीरिक श्रम में कमी,

 

 

  • शराब का सेवन,

 

 

  • एचपीवी इन्फेक्शन से बचें,

 

 

  • हेपेटाइटिस या अन्य कार्सिनोजेनिक का टिका अवश्य लगवाए,

 

 

  • वायु प्रदूषण,

 

 

  • घरे में होने वाले धुएं से बचें।

 

 

 

यदि आप कैंसर जैसी खतरानक बीमारी से बचना चाहते हैं, तो आपको इन सभी चीजों का बहुत ध्यान रखना होगा। इन सभी चीजों को आपको अवॉयड करना होगा और एक स्वस्थ जीवनशैली को अपनाना होगा तभी आप इस बीमारी से बच सकते हैं। यदि आपको या आपके किसी परिचित को कैंसर है तो आप हमारे डॉक्टर से संपर्क कर सकते हैं


Doctor Consutation Free of Cost=

Disclaimer: GoMedii  एक डिजिटल हेल्थ केयर प्लेटफार्म है जो हेल्थ केयर की सभी आवश्यकताओं और सुविधाओं को आपस में जोड़ता है। GoMedii अपने पाठकों के लिए स्वास्थ्य समाचार, हेल्थ टिप्स और हेल्थ से जुडी सभी जानकारी ब्लोग्स के माध्यम से पहुंचाता है जिसको हेल्थ एक्सपर्ट्स एवँ डॉक्टर्स से वेरिफाइड किया जाता है । GoMedii ब्लॉग में पब्लिश होने वाली सभी सूचनाओं और तथ्यों को पूरी तरह से डॉक्टरों और स्वास्थ्य विशेषज्ञों द्वारा जांच और सत्यापन किया जाता है, इसी प्रकार जानकारी के स्रोत की पुष्टि भी होती है।