मोटापे से रखे दूर और विटामिन से भरपूर है चिया सीड !

 

चीया सीड का नाम इन दिनों काफी सुनने में आ रहा है, तो आइये जानते है की चीया सीड क्या है और इसका इस्तेमाल सबसे पहली बार कहाँ किया गया था। वैसे चीया सीड को हिंदी में तकमारिया या तुकमलंगा के नाम से भी जाना जाता है। आप अपनी रोज मर्रा की जिंदिगी में कैसे चीया सीड का इस्तेमाल करें। साथ ही जानेंगे इसके फायदे और नुकसान के बारे में की इसका इस्तेमाल करके हम किस तरह अपने शरीर को स्वस्थ रख सकते है।

 

 

पहली बार कहा हुई थी “चीया सीड” की खेती? (Where was Chia seed cultivation for the first time)

 

दरअसल पहली बार चीया सीड की खेती मैक्सिको और ग्वाटेमाला में की गई थी। वर्त्तमान समय में चीया सीड की खेती दक्षिण अमेरिका, मध्य अमेरिका और ऑस्ट्रिलया में इसके बीजो की खेती की जाती है। आपको बता दें की इसकी खेती काफी लम्बे समय से की जा रही है, इसका इस्तेमाल हाल ही के दिनों में काफी बढ़ा है क्यूंकि इसके सेवन से लोगो को काफी चीजों में फायदा हुआ है।

 

 

कैसे दिखते है चिया सीड? (How does Chia seed look)

 

चिया सीड के पौधे का नाम साल्विया हिस्फैलिका है और यह इस पौधे के ही बीज होते है। इसके बीज अंडाकार होते है, लेकिन ये दिखने में तो छोटे होते है मगर चिया सीड में भरपूर मात्रा में एनर्जी होती है। हालंकि इनमे कोई स्वाद नहीं होता है और इनका इस्तेमाल आपको काफी स्वस्थ बना सकता है।

 

 

कैसे करें चिया बीज का सेवन ? (How to consume chia seeds in hindi)

 

सेहत के लिए फायदेमंद चिया के बीज को आप रात भर पानी में भिगोकर रखे, जिससे यह सुबह तक एक जेल के रूप में तब्दील हो जाएगा और इसके बाद आप इसका सेवन किसी भी पेय पदार्थ में मिलाकर कर सकते है। नहीं तो आप चियाके बीज को पीस कर पॉवडर के रूप में भी इस्तेमाल कर सकते है और सुबह दही में मिलकर या अपने किसी भी पकवान में मिलाकर उसे और पौष्टिक बना कर खा सकते है।

 

 

चिया सीड खाने के फायदे ! (Benefits of Chia Seed In Hindi)

 

आपको बता दें की चिया सीड वजन घटाने में भी बहुत मददगार साबित होते है। इसमें ओमेगा 3, एक गिलास दूध के बराबर क्लासियम होता है, प्रोटीन ,विटामिन और कई खनिज पदार्थ भी होते है जो हमारी सेहत के लिए बहुत फायदे मंद होते है।

 

चिया सीड का सेवन कुछ लोग वजन घटाने के लिए भी करते है और इसका सेवन करने से हड्डिया काफी मजबूत होती है, दरअसल अमेरिका की एक यूनिवर्सिटी ने इसको लेकर एक शोध किया था जिसमें ये पाया गया की इसका सेवन करने से वजन घटना आसान होता है। इसका सेवन लोग विभिन्न तरीको के लिए करते है। इसमें 4.7 ग्राम प्रोटीन होता है जो हड्डियों को मजबूत करने में शरीर की मदद करता है और इसमें सारे आठ आवश्यक अमीनो पाए जाते है।

 

चिया सीड में कौन से पोषक तत्व पाए जाते है। (What nutrients are found in Chia seed?)

 

आइए जानते है किया के बीज में कौन से पोषक तत्व कितनी मात्रा में पाए जाते है और हमारे स्वस्थ्य के लिए लाभकारी है

 

  • 137 कैलोरी

 

  • 12.3 कार्बोहाइड्रेट

 

  • 4.4 ग्राम प्रोटीन

 

  • 8.6 ग्राम वसा

 

  • 10.6 ग्राम फाइबर

 

  • 0.6 मिली ग्राम मैंगनीज

 

  • 177 मिली ग्राम कैल्शियम

 

  • 1 मिली ग्राम जस्ता

 

  • 0.1 मिली ग्राम ताम्बा

 

  • 44.8 मिली गर्म पोटाशियम

 

तो इतने सारे प्रोटीन्स से भरपूर है चिया सीड तो अब तो आपको भी चिया सीड का सेवन शुरू कर देना चाहिए।

 

इसके इस्तेमाल करने के फायदे ! Benefits of using it!

 

चिया सीड का सेवन करने से ह्रदय रोग से भी बचा जा सकता है, इसका इस्तेमाल करने से मधुमेय से ग्रहस्त लोगो को भी फायदा होता है और इसके रोज सेवन से मधुमेय नियंत्रण में रहता है। इनका सेवन कैंसर पीड़ितों के लिए भी कारगर साबित होता है, किया सीड में अल्फा लिपोयिक एसिड होता है जो कैंसर पीड़ितों को स्वस्थ रखने में उनकी मदद करता है। 2013 में किये गए एक शोध में ये पता चला है की चिया सीड का सेवन शरीर की सामन्य कोशिकाओं को बिना नुकसान पहुंचाए कैंसर कोशिकाओं को जल्दी ख़त्म करने में मदद करता है। वहीँ इसका सेवन करने से त्वचा में भी निखार बना रहता है और ये त्वचा के रूखेपन को भी काम करता चिया सीड दांतो के लिए भी बहुत अच्छा माना जाता है क्यूंकि इसमें विटामिन A होता है और ये शरीर को स्वस्थ रखने के साथ साथ दांतो को भी मजबूत रखता है।


Doctor Consutation Free of Cost=

Disclaimer: GoMedii  एक डिजिटल हेल्थ केयर प्लेटफार्म है जो हेल्थ केयर की सभी आवश्यकताओं और सुविधाओं को आपस में जोड़ता है। GoMedii अपने पाठकों के लिए स्वास्थ्य समाचार, हेल्थ टिप्स और हेल्थ से जुडी सभी जानकारी ब्लोग्स के माध्यम से पहुंचाता है जिसको हेल्थ एक्सपर्ट्स एवँ डॉक्टर्स से वेरिफाइड किया जाता है । GoMedii ब्लॉग में पब्लिश होने वाली सभी सूचनाओं और तथ्यों को पूरी तरह से डॉक्टरों और स्वास्थ्य विशेषज्ञों द्वारा जांच और सत्यापन किया जाता है, इसी प्रकार जानकारी के स्रोत की पुष्टि भी होती है।