गर्भाशय में सूजन, जानिए इसके कारण और बचाव के तरीके

Treatment In India

किसी भी महिला के लिए गर्भवती होना बहुत सम्मान की बात है और इसमें उनका गर्भाशय बहुत एहम भूमिका निभाते है। यह महिलाओं की प्रजनन प्रणाली का एक महत्वपूर्ण हिस्सा होता है। अगर हम आंकड़ों की बात करें तो इसके अनुसार, पांच में से चार महिलाएं गर्भाशय से जुड़ी समस्याओं से परेशान रहती हैं। लेकिन इसमें से कुछ महिलाएं इसे नजरअंदाज करती है, उन्हें नहीं लगता की उनके गर्भाशय में किसी तरह की समस्या है। लेकिन बाद में यही समस्या किसी गंभीर बीमारी का रूप ले लेती है।

 

 

गर्भाशय में सूजन को डोक्टर की भाषा में एंडोमेट्राइटिस (Endometritis) कहा जाता है। महिलाओं के गर्भाशय में सूजन आमतौर पर उस दौरान होती है जब हर महीने उनका पीरियड होता है, ऐसे में उन्हें अपना बहुत ध्यान रखना पड़ता है क्योंकि उस समय उन्हें इन्फेक्शन होने का खतरा ज्यादा रहता है। लेकिन गर्भधारण के समय महिलाओं के गर्भाशय में सूजन हो सकती है।

 

 

आज के समय में महिलाओं में ये समस्या ज्यादा देखने को मिलती है। उनकी गलत खान-पान की आदतें और शारीरिक श्रम में कमी, अनियमित दिनचर्या उन्हें इस बीमारी का शिकार बनाती है। वैसे भी महिलाओं को इन्फेक्शन होने का खतरा ज्यादा रहता है इसलिए उन्हें अपना बहुत ध्यान रखने की जरूरत होती है। गर्भाशय में सूजन उनके लिए तो खतरानक होती ही है, बल्कि उनके होने वाले बच्चे के लिए भी बहुत नुकसान दायक होती है।

 

 

गर्भाशय में सूजन के कारण

 

 

एक जगह पर बैठे रहना : जो महिलाऐं पूरे दिन एक ही जगह पर बैठकर काम करती है उन्हें ये समस्या ज्यादा होती है। क्योंकि इसकी वजह से गर्भाशय पर दबाव पड़ता है, जिससे उसमें सूजन आ जाती है। कुछ महिलाओं को यह मोटापा महसूस नहीं होता है लेकिन पेट फूलने के कारण उन्हें पेट सख्त और फूला हुआ महसूस होता है

 

 

ज्यादा भोजन करना : ऐसा बहुत बार होता है की आप स्वाद के चक्कर में बहुत ज्यादा भोजन कर लेते है, जो गर्भाशय में सूजन का कारण बनता है।

 

 

दवाइयों का दुष प्रभाव : कई बार ऐसा होता है की जब महिलाएं कोई हाई डोज की दवाएं खा लेती है, तो उसकी वजह से भी उनके गर्भाशय में सूजन होने लगती है।

 

 

टाइट कपड़े पहनना : महिलाओं के लिए बहुत ज्यादा टाइट कपड़े पहनना भी नुकसानदायक होता है, इसकी वजह से उन्हें कई समस्या हो सकती है जिनमें से ये एक है।

 

 

ज्यादा एक्सरसाइज करना : बदलता मौसम भी इसका एक कारण होता है, लेकिन जो महिलाएं बहुत ज्यादा देर तक एक्सरसाइज करती है उनके गर्भाशय में भी इस तरह की दिक्कत आती है।

 

 

गर्भाशय में संक्रमण : जब आप कुछ गलत खा लेते है या आपकी दिनचर्या में बदलाव होता है तो ये आपके लिए हानिकारक हो सकता है। कई बार गर्भाशय में पाए जाने वाले बैक्टीरिया एंडोमेट्रैटिस का कारण बनती हैं।

 

 

एसिडिटी और कब्ज रहना : जिन महिलाओं को अधिक समय तक एसिडिटी होती है या खाना सही से पचता नहीं है, तो उन्हें कब्ज की समस्या होने लगती है जो गर्भाशय में सूजन का कारण बनती है।

 

 

गर्भाशय में सूजन किसी भी महिला के लिए बहुत पीढ़ा दाई होती है। इस समस्या को समझने के लिए आपको इसके लक्षणों को जानना होगा। गर्भाशय की सूजन के मामले में, महिलाओं के पेट का आकार बढ़ जाता है और यह गर्भावस्था जैसा दिखता है। इसके अलावा हल्का बुखार, उलटी, सिरदर्द, पेट में गैस, पीठ में दर्द, पीरियड के समय तेज दर्द होना और शरीर में कमजोरी महसूस होती है।

 

 

 

गर्भाशय में सूजन से बचने के उपाए

 

 

बादाम 

 

almonds benefits health and beauty benefits of eating, Order Medicine Online Online Pharmacy India Medicine Store Online Medical Store Purchase Medicine Online Medicine Online Online Pharmacy Noida Online Chemist Crossing Republic Online Medicines Buy Medicine Online India Online Pharmacy Gaur City

 

रात में सोने से पहले 3 या 4 बादाम पानी में भिगो दें। उसके बाद सुबह एक गिलास दूध के साथ उन्हें छील कर खा लें, इससे महिलाओं के गर्भाशय में होने वाली समस्या नहीं होगी। जिन्हें सूजन है उन्हें भी इस समस्या से राहत मिलेगी।

 

 

अलसी के बीज 

 

 

1 चम्मच पिसे हुए अलसी के बीजों को दूध में तब तक उबालें जब तक वह आधा न रह जाए उसके बाद इसे रात को सोने से पहले खाएं इससे आपको काफी राहत मिलेगी।

 

 

फ़ास्ट फ़ूड न खाएं 

 

 

अक्सर महिलाओं को फ़ास्ट फ़ूड खाने का बहुत मन करता है और यही उनके पूरे स्वास्थ्य के लिए हानिकारक होता है। इसलिए बाहर का खाना खाने से बचे।

 

 

हल्दी 

 

Ankylosing Spondylitis: causes, Symptoms and treatments, Order Medicine Online, Online Pharmacy India, Medicine Store, Online Medical Store, Purchase Medicine Online, Medicine Online, Online Pharmacy Noida, Online Chemist Crossing Republic, Online Medicines, Buy Medicine Online India, Online Pharmacy Gaur City

 

इसका प्रयोग भारत के सभी घरों में किया जाता है ज्यादातर इसका प्रोयग लोग अपने रोजाना के खाने में करते है उसके बाद जब किसी व्यक्ति को चोट लगती है तब उन्हें हल्दी का दूध दिया जाता है इसका इस्तेमाल महिलाओं के लिए भी अच्छा होगा। हल्दी को रुई की मदद से योनि में लगा सकते हैं इससे आपकी गर्भाशय की सूजन कम होने लगेगी।

 

 

नीम्बू 

 

 

नींबू एक ऐसी दवा है जिसका इस्तेमाल शरीर के किसी भी हिस्से में मौजूद संक्रमण को खत्म करने के लिए किया जाता है। आपको बता दें की नींबू में एंटी-बैक्टीरियल तत्व होते हैं और यह आपके संक्रमण को खत्म करने में आपकी मदद करता है। आप सुबह और शाम एक गिलास नींबू पानी में एक चुटकी काला नमक मिलाकर इसका सेवन करें तो आपको इससे काफी आराम मिलेगा।

 

 

अरंडी के पत्ते 

 

 

इसका इस्तेमाल हमेशा से कई बीमारियों में किया जा रहा है। यदि आपको गर्भाशय का संक्रमण है, तो अरंडी के पत्तों का रस निकालें और इसे रुई में भिगोकर थोड़ी देर तक योनी में रखें। यदि आप ऐसा रोजाना करेंगे तो आपके गर्भाशय का संक्रमण दूर हो जाएगा।

 

 

यह महिलाओं में होने वाली बहुत ही आम समस्या है यह एक महिला को किसी भी उम्र में हो सकती है ऐसा होने पर उनका लापरवाही करना उनके लिए नुकसानदायक हो सकता है। इसकी वजह से उन्हें यौन संबंधी समस्याएं भी हो सकती है ऐसा होने पर आप हमारे डॉक्टर से भी सलाह लें सकते है


Doctor Consutation Free of Cost=

Disclaimer: GoMedii  एक डिजिटल हेल्थ केयर प्लेटफार्म है जो हेल्थ केयर की सभी आवश्यकताओं और सुविधाओं को आपस में जोड़ता है। GoMedii अपने पाठकों के लिए स्वास्थ्य समाचार, हेल्थ टिप्स और हेल्थ से जुडी सभी जानकारी ब्लोग्स के माध्यम से पहुंचाता है जिसको हेल्थ एक्सपर्ट्स एवँ डॉक्टर्स से वेरिफाइड किया जाता है । GoMedii ब्लॉग में पब्लिश होने वाली सभी सूचनाओं और तथ्यों को पूरी तरह से डॉक्टरों और स्वास्थ्य विशेषज्ञों द्वारा जांच और सत्यापन किया जाता है, इसी प्रकार जानकारी के स्रोत की पुष्टि भी होती है।