गुर्दे की बीमारी के कारण, लक्षण और उपाए

 

हमारे शरीर में गुर्दों की बीमारी के कारण तो कई सरे है और इन्हे जानना  बेहद महत्वपूर्ण भी है। शरीर की गंदगी बाहर करने के अलावा गुर्दों का काम हमारे शरीर में बनने वाले अम्ल की मात्र को भी निर्धारित करना होता है, ताकि हमारा रक्तचाप नियंत्रित रहे। आपको बता दें की हमारे देश में 75 प्रतिशत लोगो को गुर्दों के ख़राब होने का पता काफी बाद में चलता है। गुर्दों की एक खास बात यह होती है कि वे बिना किसी बड़ी वजह के दर्द नहीं देते। यदि आपके गुर्दों में या उनके आसपास के हिस्सों में दर्द हो रहा है तो इसे बिल्कुल नहीं करना चाहिए। यहां तक कि दुनिया में प्रचलित किडनी की गंभीर बीमारियों में से ज्यादातर में दर्द का लक्षण नहीं होता। यदि आप ज्यादा तनाव न लेते है, शराब का सेवन ज्यादा करते है तो ऐसा करना बंद का दें, क्योंकि ज्यादातर डॉक्टर्स का कहने है की शराब का अधिक सेवन करने से ही किडनी जल्दी ख़राब होती है।

 

क्या है गुर्दे की बीमारी के कारण

 

  • एनीमिया (जैसे खून की कमी)
  • पेशाब कम होना
  • उच्च रक्तचाप होना
  • त्वचा में लगातार खुजली होना
  • जल्दी-जल्दी पेशाब आना
  • मांसपेशियों में झनझनाहट होना
  • जी मिचलाना
  • शरीर के वजन में अचानक बदलाव होना
  • हमेशा से ज्यादा गहरे रंग में पेशाब आना।

 

क्या है गुर्दे की बीमारी के लक्षण

 

  • गंदे पानी का पीना
  • पेशाब जाने पर पेशाब का न होना
  • गलत खान-पान
  • शराब का सेवन करना
  • पेशाब में खून आना
  • पेट में दर्द होना
  • पेशाब करने में जलन होना

 

क्या है गुर्दे को ठीक करने के उपाए 

 

वैसे तो किडनी ख़राब होने के बाद किसी भी व्यक्ति के पास दो ही उपाए बचते है या तो डॉक्टर उसे दयलेसिस पर रखते है या उस व्यक्ति का किडनी ट्रांस्प्लान किया जाता है। जिस व्यक्ति की किडनी ख़राब हो जाती है उसे ता उम्र परहेज करना पड़ता है क्योंकि जरा सी लापरवाही आपकी किडनी को नुकसान पहुंचा सकती है। कई बार किडनी में इन्फेक्शन भी हो जाता है जिसमें डॉक्टर्स किडनी फंक्शन टेस्ट करते है और यह देखते है की किडनी ठीक से काम कर पा रही है या नहीं। मधुमेह के रोगियों को भी किडनी ख़राब होने के ज्यादा चांस होते है तो मधुमेह के रोगी को भी इससे सावधान रहने की जरुरत है।

 

गुर्दे ख़राब होने पर करें इन चीजों का सेवन

Treatment In India

 

गोभी : गोभी में विटामिन सी और कई भी पोषक तत्व होते हैं यह इंडोइंफ्लामेटरी यौगिकों और इंडेक् जैसे फायबर से भी भरपूर होती है। इसलिए किडनी के मरीज का गोभी खाना की सलाह तो डॉक्टर भी देते है

 

मशरूम : मशरूम में विटामिन बी, कॉपर, मैंगनीज और सेलेनियम की अच्छी मात्रा होती है। इसके अलावा इसमें पर्याप् मात्रा में फाइबर मौजूद होते हैं। यह बहुत ही फायदेमंद होता है जिन लोगो को कम प्रोटीन वाले आहार की तलाश होती हैं उनके लिए ये बहुत अच्छी चीज है और यह मांस का सबसे अच्छा विकल् होता है इसमें पर्याप् मात्रा में फाइबर मौजूद होते हैं।

 

ब्लूबेरी : ब्लूबेरी में एंटीऑक्सीडेंट की अच्छी मात्रा मौजूद रहती है ताजा ब्लूबेरी के एक कप ज्यूसही बहुत फायदेमंद होता है इन स्वादिष् और मीठे फलों में एंथियोक्सीडेंट होते हैं जिन्हें एंथोकाइनिन कहा जाता है और ये किडनी के मरीज के लिए बहुत ही अच्छा फल होता है।

 

शलजम : शलजम विटामिन सी, विटामिन बी6, मैंगनीज और कैल्शियम से भरपूर होती है।  इनका उपयोग आप आलू और कद्दू के तौर पर कर सकते है कंद वाली ये सब्जियां फाइबर और पोषक तत्वों से भरी होती हैं। इसका सेवन आप भूनकर या उबालकर कर सकते हैं, किडनी ख़राब होने के वक़्त इसका सेवन बहुत ही अच्छा माना जाता है।

 

गुर्दे ख़राब होने पर शराब का सेवन बिल्कुल न करें और पीने का पानी बिल्कुल साफ़ पिए क्योंकि गन्दा पानी भी आपकी किडनी पर सबसे जल्दी ख़राब करता है। ऊपर दिए गए इन लक्षणों को ध्यान में रखे अगर आपको या आपके किसी जानने वाले है में अगर ये लक्षण दिखते है तो आप हमारे डॉक्टर से संपर्क कर सकते है, क्योंकि सबके लिए जिंदगी बेहद अनमोल है, इसे संवारना सिर्फ आपके हाथ में है और अपने सेहत का ध्यान भी आपको खुद रखना है।


Doctor Consutation Free of Cost=

Disclaimer: GoMedii  एक डिजिटल हेल्थ केयर प्लेटफार्म है जो हेल्थ केयर की सभी आवश्यकताओं और सुविधाओं को आपस में जोड़ता है। GoMedii अपने पाठकों के लिए स्वास्थ्य समाचार, हेल्थ टिप्स और हेल्थ से जुडी सभी जानकारी ब्लोग्स के माध्यम से पहुंचाता है जिसको हेल्थ एक्सपर्ट्स एवँ डॉक्टर्स से वेरिफाइड किया जाता है । GoMedii ब्लॉग में पब्लिश होने वाली सभी सूचनाओं और तथ्यों को पूरी तरह से डॉक्टरों और स्वास्थ्य विशेषज्ञों द्वारा जांच और सत्यापन किया जाता है, इसी प्रकार जानकारी के स्रोत की पुष्टि भी होती है।