महिलाओं के पैर और कमर दर्द किस विटामिन की कमी से होता है? जानिए यहाँ

आपने अक्सर अपनी मां या पत्नी को ये कहते हुए सुना होगा कि आजकल टांगों और कमर में बहुत दर्द रहता है। थोड़ा सा काम करने पर भी हड्डियां दर्द करने लगती हैं। इसका मुख्य कारण शरीर में विटामिन और पोषक तत्वों की कमी है। बढ़ती उम्र के साथ शरीर में विटामिन डी कम(low vitamin D) होने लगता है, जिसका असर हड्डियों पर पड़ता है। शरीर में विटामिन डी की कमी होने पर हड्डियों में दर्द, जोड़ों में दर्द(हड्डियों में दर्द), हार्ट अटैक(heart attack) और स्ट्रोक जैसी गंभीर बीमारियों का खतरा बढ़ जाता है। खासकर गर्भावस्था के बाद शरीर में कई तरह के पोषक तत्वों की कमी बढ़ जाती है। इसलिए विटामिन डी की कमी के कारण शरीर में दिखने वाले लक्षणों को नजरअंदाज न करें।

 

 

 

महिलाओं में विटामिन डी (Vitamin D in women)

 

 

कई शोधों से पता चला है कि, जिन महिलाओं में विटामिन डी की कमी होती है उनमें हार्ट फेल्योर(heart failure), हार्ट अटैक(heart attack), स्ट्रोक(stroke), डायबिटीज(diabetes) और हाई ब्लड प्रेशर(high blood pressure) जैसी बीमारियों का खतरा बढ़ जाता है। गर्भावस्था के दौरान विटामिन डी की कमी से प्री-एक्लेमप्सिया(pre-eclampsia) और गर्भकालीन मधुमेह का खतरा बढ़ जाता है। विटामिन डी की कमी से हड्डियां कमजोर(weak bones) हो जाती हैं और उनके टूटने का खतरा बढ़ जाता है।

 

 

 

महिलाओं में विटामिन डी की कमी से दिखने वाले लक्षण (Symptoms of Vitamin D deficiency in women)

 

 

बीमार पड़ना – शरीर में विटामिन डी की कमी का सीधा संबंध आपकी इम्यूनिटी से होता है. जिन महिलाओं के शरीर में विटामिन डी कम होता है वे जल्दी बीमार पड़ जाती हैं और शरीर किसी भी वायरस या बैक्टीरिया से लड़ने में सक्षम नहीं होता है। विटामिन डी की कमी से सर्दी, फ्लू और बुखार जैसी समस्याएं हो सकती हैं।

 

हड्डियों में दर्द – विटामिन डी की कमी के कारण शरीर में हड्डियां कमजोर होने लगती हैं. हड्डियों को मजबूत बनाने के लिए कैल्शियम और विटामिन डी की सबसे ज्यादा जरूरत होती है। विटामिन डी कैल्शियम को हड्डियों में प्रवेश करने और उन्हें मजबूत बनाने में मदद करता है। विटामिन डी कम होने पर हड्डियों का घनत्व भी कम हो जाता है और हड्डियों के फ्रैक्चर(bone fractures) का खतरा बढ़ जाता है।

 

थकान और कमजोरी– बढ़ती उम्र के साथ महिलाओं को अक्सर थकान की समस्या होने लगती है. कई बार ऐसा शारीरिक कमजोरी और विटामिन डी की कमी के कारण भी हो सकता है। शरीर में विटामिन डी की कमी के कारण ब्लड शुगर लेवल कम(blood sugar level low) होने लगता है, जिससे हर वक्त थकान और कमजोरी महसूस होती है।

 

घाव भरने में देरी – विटामिन डी की कमी का एक लक्षण यह है कि अगर शरीर में कहीं भी चोट लग जाए तो घाव बहुत धीरे-धीरे ठीक होता है। अगर आपकी कोई सर्जरी हुई है तो उसे ठीक होने में भी समय लगता है। ये लक्षण शरीर में विटामिन डी की कमी के संकेत हैं।

 

 

 

विटामिन डी कमी कैसे पूरी करें

 

 

भारत में रहने वाले ज्यादातर लोग विटामिन डी की कमी से पीड़ित हैं। विटामिन डी की कमी महिलाओं और बच्चों के लिए विशेष रूप से खतरनाक है। विटामिन डी के लिए सुबह की धूप सबसे जरूरी है। आपको रोजाना सुबह 9 बजे तक धूप में बैठना चाहिए। धूप लेते समय आपके शरीर का अधिकतम भाग खुला रहना चाहिए। यदि आप धूप में नहीं बैठ सकते हैं, तो समुद्री भोजन(Sea food), पौधे-आधारित खाद्य पदार्थ, डेयरी उत्पाद(Dairy Products), अंडे और संतरे(Eggs and Oranges) जैसे विटामिन डी युक्त खाद्य पदार्थ खाएं।

Doctor Consutation Free of Cost=

Disclaimer: GoMedii  एक डिजिटल हेल्थ केयर प्लेटफार्म है जो हेल्थ केयर की सभी आवश्यकताओं और सुविधाओं को आपस में जोड़ता है। GoMedii अपने पाठकों के लिए स्वास्थ्य समाचार, हेल्थ टिप्स और हेल्थ से जुडी सभी जानकारी ब्लोग्स के माध्यम से पहुंचाता है जिसको हेल्थ एक्सपर्ट्स एवँ डॉक्टर्स से वेरिफाइड किया जाता है । GoMedii ब्लॉग में पब्लिश होने वाली सभी सूचनाओं और तथ्यों को पूरी तरह से डॉक्टरों और स्वास्थ्य विशेषज्ञों द्वारा जांच और सत्यापन किया जाता है, इसी प्रकार जानकारी के स्रोत की पुष्टि भी होती है।