लिवर एंजाइम क्या है, इसका इलाज कब किया जाता है ?

Treatment In India

लिवर स्पंज जैसा हमारे शरीर का नाजुक अंग यदि खराब हो जाए तो पूरे शरीर की सेहत पर असर डालता है। लिवर की बीमारी का यदि समय पर इलाज न हो तो यह गंभीर समस्या भी बन सकती है। लिवर में कई तरह की बीमारी होने का अधिक खतरा तब होता है जब आपका खान पान सही नहीं होता है ,जो लोग शराब का सेवन करते हैं उनका लिवर अन्य लोगों के मुकाबले जल्दी खराब हो जाता है। लेकिन लिवर की एक ऐसी बीमारी है जिसका नाम है लिवर एंजाइम। आज हम आपको इसके बारे में विस्तार से बताएंगे।

 

 

लिवर एंजाइम क्या है?

 

आपके शरीर में लिवर एंजाइम का उच्च स्तर आपके पूरे लिवर की कार्य छमता को प्रभावित करता है। दरअसल ये लिवर कोशिकाओं की क्षति और सूजन पैदा कर सकता है। ये एंजाइम आमतौर पर लीवर की कोशिकाओं के अंदर पाए जाते हैं, लेकिन जब लीवर खराब हो जाता है, तो ये एंजाइम रक्तप्रवाह से बाहर निकल जाते हैं। इसका पता रक्त परीक्षण में चलता है। लीवर एंजाइम के लिए सबसे आम परीक्षण एएलटी या लैनिन ट्रांसएमिनेस और एएसटी या एस्पार्टेट ट्रांसएमिनेस हैं। लीवर की बीमारी के लक्षण लीवर एंजाइम में मामूली वृद्धि से शुरू होते हैं।

 

 

शरीर में लिवर का आकर कब बढ़ता है?

 

आपके शरीर में लीवर का बढ़ना लीवर एंजाइम के सबसे आम लक्षणों में से एक है। इसके बढ़ने को हेपटोमेगाली कहा जाता है। विशेषज्ञों के अनुसार हेपेटोमेगाली के सबसे आम कारणों में हेपेटाइटिस या आपके लिवर की सूजन शामिल है। इसके अलावा ए, बी, और सी जैसे हेपेटाइटिस वायरस हेपेटोमेगाली, साथ ही संक्रामक मोनोन्यूक्लिओसिस, एपस्टीन-बार वायरस के साथ-साथ अल्कोहलिक लिवर रोग और लिवर कैंसर, ल्यूकेमिया या लिम्फोमा का कारण बनते हैं।

ऐसे में सबसे महत्वपूर्ण बात ये हैं की आपको लिवर की किसी भी तरह की बीमारी को नज़रअंदाज़ नहीं करना चाहिए। लिवर की बीमारी का इलाज सब जगह आसानी से उपलब्ध है। यदि आपको लिवर से जुड़ी कोई समस्या है तो आप हमारे डॉक्टर से ऑनलाइन कंसल्ट कर सकते हैं।

 

 

कैसे जाने की लिवर एंजाइम की समस्या है?

 

 

आपको बता दें कि आपके लीवर एंजाइम में मामूली वृद्धि कुछ लक्षण पैदा करती है, लेकिन इतनी वृद्धि लीवर की बीमारी के लिए पूरी तरह जिम्मेदार नहीं होता है। इन लक्षणों में बुखार, मतली, उल्टी, पेट में दर्द और भूख न लगना शामिल हैं। हेपेटाइटिस बी, जोड़ों का दर्द, पित्ती जैसे दाने या पित्ती का अत्यधिक विकास, वायरस लीवर एंजाइम में वृद्धि का कारण बनता है।

 

दरअसल पॉलीमायोसिटिस मांसपेशियों की सूजन है जो आपके लिवर एंजाइमों में वृद्धि, मांसपेशियों की कमजोरी, बोलने में समस्या और कुछ भी खाने की चीज को निगलने में समस्या, सांस की तकलीफ और थकान का कारण बनती है। सीलिएक रोग, जो ग्लूटेन को पचा नहीं पता है। दरअसल यह प्रोटीन ब्रेड और पास्ता में पाया जाता है, और सूजन, दस्त और वजन घटाने के साथ-साथ लिवर एंजाइमों में वृद्धि का कारण बन सकता है। जिसके बार आपको इसके इलाज की सख्त जरूरत होती है।

 

 

एलानिन एमिनोट्रांस्फरेज टेस्ट और रिजल्ट (Alanine Aminotransferase Test in Hindi)

 

 

यह लिवर में पाया जाता है। एएलटी का बढ़ना लीवर की चोट का सीधा संकेत है। यह मामूली या गंभीर हो सकता है लेकिन इसे नजरअंदाज न करें। डॉक्टर एएलटी टेस्ट की मदद से यह देखते हैं कि रक्त में ALT के स्तर कितना है। जब एएलटी का स्तर बढ़ जाता है तो यह लीवर को नुकसान पहुंचाता है।

ALT भोजन को ऊर्जा में बदलता है। इसके परिणाम से डॉक्टर पता लगते हैं कि लिवर में समस्या कहां है। इसे IU/L (अंतरराष्ट्रीय इकाई प्रति लीटर) में मापा जाता है। जब हम वयस्कों के लिए ALT के सामान्य स्तर के बारे में बात कर रहे हैं, तो यह 7 से 55 IU/L के बिच में होगा। यदि यह इस मान से ऊपर दिखाता है। तब यह बढ़े हुए लीवर एंजाइम का संकेत होता है।

 

 

लिवर रोग का निदान और इलाज कैसे किया जाता है?

 

लिवर रोग का पाता आमतौर पर रुटीन चेकअप के दौरान चलता है, अल्ट्रासाउंड स्कैन लिवर की समस्या का पता लगाता है , जब लिवर रोग का पता लगाने के लिए रक्त परीक्षण भी किया जा सकता है। कुछ नए परीक्षण “फाइब्रोस्कैन” और “फाइब्रोटेस्ट” के रूप में जाने जाते हैं जो अधिक विश्वसनीय हैं। उपचार इस बात पर निर्भर करेगा कि ऊंचा लिवर एंजाइम किस कारण से हो रहा है।

 

 

क्या बढ़े हुए लीवर एंजाइम को रोका जा सकता है?

 

लीवर एंजाइम को बढ़ाने वाली कुछ चिकित्सीय स्थितियों को रोका नहीं जा सकता है। लेकिन आपके लीवर को स्वस्थ रखने के लिए आप कुछ कदम उठा सकते हैं:

 

 

  • स्वस्थ आहार का सेवन करें।

 

 

  • यदि आपको मधुमेह है तो रक्त शर्करा का प्रबंधन करें।

 

  • अपने प्रदाता को आपके द्वारा ली जाने वाली सभी दवाओं के बारे में बताएं।

 

  • अपना वजन को नियंत्रण में रखें।

 

  • नियमित रूप से व्यायाम करें।

 

लिवर के इलाज के लिए सबसे अच्छे हॉस्पिटल

 

  • फोर्टिस हार्ट अस्पताल, ओखला, दिल्ली

 

  • नारायण सुपरस्पेशलिटी अस्पताल, गुरुग्राम

 

  • मैक्स सुपर स्पेशलिटी अस्पताल, वैशाली, गाजियाबाद

 

GoMedii आपको भारत में विश्व स्तरीय उपचार विकल्प प्रदान करता है। अगर आप हमें चुनते हैं तो हम आपकी हर संभव मदद करेंगे। GoMedii आपका चिकित्सा पर्यटन और उपचार भागीदार है, जो यह सुनिश्चित करता है कि यात्रा की शुरुआत में ही रोगियों को विश्व स्तरीय चिकित्सा सुविधा प्रदान किए जाएं। यदि आप उपचार प्राप्त करना चाहते हैं, तो बस अपने प्रश्नों को Whatsapp (+91 9654030724)  पर छोड़ दें या हमें Connect@gomedii.com पर ईमेल करें, हमारी टीम जल्द से जल्द आपसे संपर्क करेगी।


Doctor Consutation Free of Cost=

Disclaimer: GoMedii  एक डिजिटल हेल्थ केयर प्लेटफार्म है जो हेल्थ केयर की सभी आवश्यकताओं और सुविधाओं को आपस में जोड़ता है। GoMedii अपने पाठकों के लिए स्वास्थ्य समाचार, हेल्थ टिप्स और हेल्थ से जुडी सभी जानकारी ब्लोग्स के माध्यम से पहुंचाता है जिसको हेल्थ एक्सपर्ट्स एवँ डॉक्टर्स से वेरिफाइड किया जाता है । GoMedii ब्लॉग में पब्लिश होने वाली सभी सूचनाओं और तथ्यों को पूरी तरह से डॉक्टरों और स्वास्थ्य विशेषज्ञों द्वारा जांच और सत्यापन किया जाता है, इसी प्रकार जानकारी के स्रोत की पुष्टि भी होती है।