वजन कम करने के लिए कीटो डाइट प्लान

online medicine

आज के समय में बहुत से लोग है जो अपने बढ़ते वजन को लेकर काफी परेशान रहते है और इसे कम करने के लिए वह तरह-तरह के डाइट प्लान अपना रहे है। लेकिन आज हम आपको कीटो डाइट प्लान (Keto Diet Plan) के बारे में बताएंगे। इसका चलने पिछले कुछ समय से भारत में काफी लोकप्रिय रहा है। आपको बता दें की कीटो डाइट प्लान को फॉलो करने वाले लोगों ने खुद ये अनुभव किया है की उनका वजन इससे बहुत तेजी से घटा है।

 

 

 

कीटो डाइट प्लान क्या है?

 

 

 

यदि आपका वजन बहुत ज्यादा है तो कीटो डाइट प्लान (Keto Diet Plan) आपके लिए बहुत ही अच्छा विकल्प है। क्योंकि इसमें में कार्ब होता है और आप प्रतिदिन केवल 20 ग्राम तक ही कार्ब का सेवन कर सकते है। दरअसल इसमें संपूर्ण मात्रा में खाद्य पदार्थ शामिल होते हैं। वजन घटाने के लिए कीटो डाइट प्लान आपके शरीर से विषैले पदार्थ को बाहर निकालता है।

 

 

इस डाइट में उच्च वसा वाले खाद्य पदार्थ होते है, जिनमें कुल कैलोरी होती है 70-80 प्रतिशत। आपको बहुत कम कार्बोहाइड्रेट और उच्च वसा वाला आहार दिया जाते हैं, जो शरीर में रक्त शर्करा को बनाए रखता है और इससे आपका चयपाचय भी सही बना रहता है। इसी कारण आपके शरीर में लम्बे समय तक ऊर्जा बनी रहती है।

 

 

 

 

कीटो डाइट प्लान

 

 

सुबह के वक़्त 6 से 7 बजे : गर्म पानी में नींबू  मिलाकर/ग्रीन टी।

 

 

 

ब्रेक फास्ट  में 9 से 10 बजे : पनीर पकोड़े / आमलेट / फिश पकोड़ी / अंडा / पनीर भुर्जी।

 

लेकिन ध्यान रहे की आप इसे जैतून तेल / मूंगफली तेल / नारियल तेल में ही पकाए। ग्रीन टी / बुलेट कॉफी के साथ 2 चम्मच आयल मिलाएं।

 

 

 

मिड मॉर्निंग 11 बजे : बिना चीनी वाला सोया मिल्क और उसके साथ 5-6 बादाम / नींबू पानी बिना चीनी वाला।

 

 

 

1 से 2 बजे के बीच : सलाद, पालक, शिमला मिर्च, मशरूम इन्हें जैतून के तेल के साथ इस्तेमाल करें। यदि आप नॉन वेज खाते है, तो आप चिकन और अंडे / मछली का सेवन भी कर सकते है। क्रीम के साथ पका हुआ चिकन / बटर / मछली के पकौड़े / कोई भी दाल बटर के साथ। इनमें से किसी भी तेल का इस्तेमाल करें जैसे नारियल तेल / जैतून का तेल / मूंगफली तेल में ही पकाएं।

 

 

 

शाम के समय 4 से 5 बजे : ब्लैक कॉफी + पनीर।

 

 

 

शाम 6 बजे : क्रीम या बटर के साथ टमाटर का सूप / पालक का सूप / चिकन सूप।

 

 

 

रात का भोजन 7:30 से 8:30 बजे :  किसी भी प्रकार की दाल बटर के साथ, मशरूम सूप क्रीम के साथ या पनीर के साथ, उसके साथ फ्राइड फिश / ग्रिल्ड चिकन /ग्रिल्ड फिश / एग करी / वाइट एग भुर्जी के साथ बटर। केवल नारियल तेल / जैतून का तेल / मूंगफली तेल में ही पकाएं।

 

 

 

पोस्ट डिनर 10:30 : ब्लैक कॉफी + 2 चम्मच मलाई या नारियल का तेल।

 

 

 

कीटो डाइट में क्या खाएं और क्या ना खाएं

 

 

  • ब्रोकोली,

 

 

  • गोभी,

 

 

  • प्याज,

 

 

  • अजवायन,

 

 

  • बैंगन,

 

 

  • साग,

 

 

  • मशरूम,

 

 

  • टमाटर,

 

 

  • काली मिर्च,

 

 

 

ये ना खाएं :

 

  • बटरनट स्क्वाश,

 

 

  • मक्का,

 

 

  • मीठे आलू,

 

 

  • कद्दू,

 

 

  • अन्य स्टार्च वाली सब्जियां,

 

 

  • कैंडी,

 

 

  • फास्ट फूड,

 

 

  • मीठे खाद्य पदार्थ,

 

 

  • चीनी।

 

 

ना करें इन फलो का सेवन

 

 

  • केले,

 

 

  • खट्टे फल,

 

 

  • सूखे फल,

 

 

  • अंगूर,

 

 

  • अनानास,

 

 

 

कीटो डाइट प्लान किसे नहीं फॉलो करना चाहिए 

 

 

 

  • एक मधुमेह के मरीज को कभी भी कीटो डाइट (Keto Diet) नहीं लेनी चाहिए। क्योंकि इससे उनके शरीर में इन्सुलिन की मात्रा अनियंत्रित हो सकती है।

 

 

 

 

  • जो महिलाएं अपने बच्चे को स्तनपान कराती है उन्हें भी इस डाइट को नहीं लेना चाहिए।

 

 

यदि आप इनमें से किसी भी स्थिति में नहीं हैं, तो आप इस कीटो डाइट को फॉलो कर सकते है।

 

 

कीटो डाइट प्लान में उच्च वसा, कम प्रोटीन और कम कार्बोहाइड्रेट वाले आहार आते है। इसे फॉलो करने वाले लोगों को रोजाना 50 ग्राम से कम कार्ब का उपभोग करना चाहिए। इसे फॉलो करना बहुत ही मुश्किल है ऐसे बहुत से लोग है जो शुरू के दो या तीन ही दिन में हार मान कर इसे छोड़ देते है। यदि आप भी अपने अनुसार डाइट प्लान बनवाना चाहते है, तो हमारे डाइटिशियन से अपना डाइट प्लान बनवा सकते है


Doctor Consutation Free of Cost=

Disclaimer: GoMedii  एक डिजिटल हेल्थ केयर प्लेटफार्म है जो हेल्थ केयर की सभी आवश्यकताओं और सुविधाओं को आपस में जोड़ता है। GoMedii अपने पाठकों के लिए स्वास्थ्य समाचार, हेल्थ टिप्स और हेल्थ से जुडी सभी जानकारी ब्लोग्स के माध्यम से पहुंचाता है जिसको हेल्थ एक्सपर्ट्स एवँ डॉक्टर्स से वेरिफाइड किया जाता है । GoMedii ब्लॉग में पब्लिश होने वाली सभी सूचनाओं और तथ्यों को पूरी तरह से डॉक्टरों और स्वास्थ्य विशेषज्ञों द्वारा जांच और सत्यापन किया जाता है, इसी प्रकार जानकारी के स्रोत की पुष्टि भी होती है।