जाने आंतों की कमजोरी के लक्षण क्या हैं और दूर करने के उपाय

Safe20

आंत हमारे शरीर का एक महत्वपूर्ण हिस्सा हैं। जो हम खाते हैं वह पचने के बाद हमारी आंतों से होकर गुजरता है। हमारे पचे हुए भोजन का अंतिम भाग आंत में एक अवशिष्ट पदार्थ के रूप में रहता है जब तक कि इसे मल के रूप में शरीर से बाहर नहीं निकाला जाता है। यही कारण है कि स्वस्थ आंतों का होना बहुत जरूरी है। अब तक आप समझ गए होंगे कि हमारे शरीर में आंत केवल एलिमेंटरी कैनाल का एक हिस्सा है जो पेट से गुदा तक फैली होती है। इसलिए, यह हमारे अस्वस्थ होने का सीधा प्रभाव है।

 

आंतों की कमजोरी के कारण

 

आंतों के कमजोर होने और अस्वस्थ होने के सही और सटीक कारणों के बारे में कुछ नहीं कहा जा सकता है। लेकिन अध्ययनों से पता चलता है कि खराब आंतों के स्वास्थ्य के लिए कई कारक जिम्मेदार हैं। सुस्‍त और निष्क्रिय जीवन शैली आंतों की कमजोरी का प्रमुख कारण है। ऐसी स्थिति में भोजन लेने के बाद शारीरिक परिश्रम न करने के कारण भोजन का देर से पाचन होता है, जिससे आंतों की कार्यक्षमता कम हो जाती है।

 

आंतों की कमजोरी के लक्षण

 

  • मल में रक्त,
  • बुखार, भूख न लगना,
  • एनीमिया,
  • तीव्र हृदय – गति,
  • पाचन समस्याओं में आंतों की सूजन के लक्षण शामिल हैं।

 

यदि इस समस्या का समय पर इलाज नहीं किया जाता है, तो व्यक्ति को वसा, प्रोटीन, विटामिन और खनिज की कमी हो सकती है। आम लोगों की तुलना में 10 साल या उससे अधिक समय तक अल्सरेटिव कोलाइटिस होने से आंत्र कैंसर का खतरा 200 गुना बढ़ जाता है।

 

आंतों की कमजोरी को दूर करने के उपाय

 

अलसी का तेल

 

आंतों की सूजन के घरेलू उपाय के रूप में, ओमेगा -3 फैटी एसिड युक्त तेलों का सेवन बढ़ाएं। मछली के तेल और अलसी के तेल में ओमेगा -3 अधिक पाया जाता है। ये तेल भड़काऊ प्रक्रिया को कम करने में मदद करते हैं। रोजाना एक से दो चम्मच अलसी के तेल का सेवन करना बेहतर होता है।

 

प्रोबायोटिक्स

 

माना जाता है कि प्रोबायोटिक्स अल्सरेटिव कोलाइटिस को नियंत्रित करने में फायदेमंद होते हैं। प्रोबायोटिक्स सूजन को कम करते हुए हानिकारक बैक्टीरिया को नियंत्रित करने में मदद करते हैं और पेट के बलगम अस्तर को सुरक्षा प्रदान करते हैं।

 

एलोवेरा जेल

 

शुद्ध एलोवेरा जैल अल्सरेटिव कोलाइटिस वाले लोगों में विरोधी भड़काऊ प्रभाव पाया गया है। हालाँकि, एलोवेरा का एक रेचक प्रभाव भी है, इसलिए दस्त की स्थिति में एलोवेरा का सेवन नहीं करना चाहिए।

 

सूजन हर्बल चाय

 

आंतों की सूजन के घरेलू उपचार में हर्बल टी बहुत फायदेमंद होती है। आपको चाय और कॉफी का सेवन करने के बजाय अदरक की चाय और ग्रीन टी पीना शुरू कर देना चाहिए। इसके विरोधी भड़काऊ और एंटी-माइक्रोबियल गुण आंतों के रोगों जैसे कि चिड़चिड़ा आंत्र रोग के लिए फायदेमंद हैं।

 

पर्याप्त पानी पिएं

 

अगर आप अपनी आंतों की मजबूती या आंतों की बेहतर सेहत चाहते हैं, तो पर्याप्त मात्रा में पानी का सेवन करें। पानी का उचित सेवन पाचन समस्याओं के लिए सबसे अच्छा घरेलू उपाय है

 

उपवास रखें

 

आंतों की कमजोरी को दूर करने के लिए, आपको सप्ताह में एक बार उपवास रखना चाहिए ताकि आपकी आंतों को अच्छी तरह से साफ किया जा सके और आप स्वस्थ रह सकें।

 

अदरक

 

अदरक का उपयोग प्राचीन काल से पाचन समस्याओं के उपचार में किया जाता रहा है। अगर आप कमजोर आंत के मरीज हैं तो भी अदरक आपके लिए बहुत फायदेमंद है।

 

आंतों में सूजन होने पर इन बातों का ख्याल रखे

 

  • डायरिया, पेट दर्द और गैस को कम करने के लिए डेयरी उत्पादों का सेवन कम या बंद करें।
  • उच्च फाइबर सामग्री जैसे कि ताजे फल और सब्जियां और साबुत अनाज से लक्षण बढ़ सकते हैं। ब्रोकोली और फूलगोभी अधिक समस्याएं पैदा कर सकते हैं, इसलिए इन चीजों को खाने से बचें।
  • ओमेगा -3 फैटी एसिड में स्वस्थ वसा होते हैं जो सामन और मैकेरल मछली में पाए जाते हैं। यह सूजन को खत्म करके अल्सरेटिव कोलाइटिस के लक्षणों को कम करता है। अपने आहार में वसायुक्त मछली को शामिल करें।
  • मसालेदार भोजन, शराब और कैफीन न लें। इस वजह से, लक्षण अधिक गंभीर रूप ले सकते हैं।
  • दिन में दो या तीन बार से अधिक खाने के बजाय पांच या छह बार कम मात्रा में भोजन करें। इससे खाना आसानी से पच जाता है।

Doctor Consutation Free of Cost=

Disclaimer: GoMedii  एक डिजिटल हेल्थ केयर प्लेटफार्म है जो हेल्थ केयर की सभी आवश्यकताओं और सुविधाओं को आपस में जोड़ता है। GoMedii अपने पाठकों के लिए स्वास्थ्य समाचार, हेल्थ टिप्स और हेल्थ से जुडी सभी जानकारी ब्लोग्स के माध्यम से पहुंचाता है जिसको हेल्थ एक्सपर्ट्स एवँ डॉक्टर्स से वेरिफाइड किया जाता है । GoMedii ब्लॉग में पब्लिश होने वाली सभी सूचनाओं और तथ्यों को पूरी तरह से डॉक्टरों और स्वास्थ्य विशेषज्ञों द्वारा जांच और सत्यापन किया जाता है, इसी प्रकार जानकारी के स्रोत की पुष्टि भी होती है।