हर्निया का ऑपरेशन कब कराएं, किन लोगों को होती है ये समस्या?

Treatment In India

हर्निया को लेकर लोगों में बहुत कम जागरूकता है। बहुत से लोग नहीं जानते कि हर्निया क्या है? दरअसल हर्निया एक बहुत ही आम समस्या है, लेकिन बहुत से लोग हर्निया के कारणों और लक्षणों को समझने में देरी करते हैं। कई बार लोगों ने यह कहते सुना होगा कि हर्निया का ऑपरेशन कब कराएं। आपको बता दें कि हर्निया का इलाज सिर्फ ऑपरेशन है। हर्निया की समस्या तब होती है जब पेट से कोई अंग या मांसपेशी या ऊतक छेद के माध्यम से बाहर निकल जाता है। उदाहरण के लिए, अक्सर आंत कमजोर पेट की दीवार में एक छेद के माध्यम से बाहर निकलती है। पेट की हर्निया सबसे आम हैं, लेकिन यह ऊपरी जांघ, मध्य और कमर के क्षेत्रों (पेट और जांघ के बीच का क्षेत्र) में भी हो सकती है।

 

 

हर्निया का ऑपरेशन कब कराएं?

 

हर्निया छाती से कमर के बीच में एक गांठ जैसा महसूस होता है। लेटने पर यह गांठ दिखना बंद हो जाती है। खड़े होने, झुकने और खांसने पर हर्निया की गांठ महसूस होती है। जहां गांठ होती है वहां दर्द भी बहुत होता है। कुछ लोगों को सीने में जलन और दर्द होता है। हर्निया के कारण खाना निगलने में भी कठिनाई होती हैं। आपको बता दें कि कुछ मामलों में हर्निया के कोई लक्षण नहीं होते हैं। अगर आपको इनमें से कोई भी समस्या है तो आपको हर्निया का ऑपरेशन करवाना चाहिए। जैसे की पेट का साफ न होना, मल में खून आना, चलने या बैठने में तकलीफ होना, उल्टी आना, और पेट के ऊपरी भाग में दर्द होना। यदि ऐसे कोई परेशानी आपको होती है तो आपको तुरंत डॉक्टर से सलाह लेनी चाहिए।

 

 

भारत में हर्निया के ऑपरेशन का कितना खर्च आता है ?

 

यदि आप भारत में हर्निया का ऑपरेशन का खर्च जानना चाहते हैं तो इसमें लगभग 55,000 रुपय से 2,00,000 रुपय तक का खर्च आता है। आपको बता दें की अलग अलग शहरों में इसके ऑपरेशन की खर्च अलग हो सकता है। यदि आप इसके लिए हमें चुनते हैं तो हम आपको सस्ती कीमतों पर इलाज मोहैया कराने की कोशिश करेंगे।

 

 

हर्निया कितने प्रकार के होते हैं?

 

हर्निया मुख्यत 3 प्रकार के होते हैं, जो इस प्रकार हैं:

 

  • इंजुईनल हर्निया (Inguinal hernia): यह हर्निया का सबसे आम प्रकार है, जिसे वंक्षण हर्निया के रूप में भी जाना जाता है। यह मुख्य रूप से जांघ के जोड़ में होता है। इसमें फैले हुए अंडकोष की मदद से आंत अंडकोष में फिसल जाती है और अंडकोष सूज जाता है।

 

  • फेमोरल हर्निया (Femoral hernia): फेमोरल हर्निया मुख्य रूप से तब होता है जब पेट के अंग जांघ से पैर तक जाने वाली धमनी से बाहर निकलते हैं। पुरुष इस हर्निया से अधिक प्रभावित होते हैं।

 

  • अम्बिलिकल हर्निया(Umbilical hernia): इसे अम्बिलिकल हर्निया के नाम से भी जाना जाता है। जैसा कि नाम से पता चलता है, इस प्रकार की हर्निया मुख्य रूप से नाभि से संबंधित होती है, जो तब उत्पन्न होती है जब पेट की सबसे कमजोर मांसपेशियां नाभि से बाहर निकलती हैं।

 

 

हर्निया से होने वाले नुकसान क्या हैं?

 

हालांकि हर्निया का हर्निया सर्जरी से सफलतापूर्वक इलाज किया जा सकता है, लेकिन कुछ जोखिम हो सकते हैं जिन्हें जानने की जरूरत है।

 

  • आंतों में दर्द: कई बार हर्निया की सर्जरी कराने के बाद व्यक्ति को आंतों में दर्द महसूस होता है।

 

  • रक्तस्राव: इस सर्जरी के बाद रक्तस्राव एक और जोखिम है।

 

  • संक्रमण: कुछ लोगों में इस सर्जरी के बाद संक्रमण भी हो जाता है।

 

  • पेट खराब होना: कई बार ऐसा भी देखा गया है कि कुछ लोगों को इस सर्जरी के बाद भी पेट खराब रहता है और ऐसे में उन्हें दोबारा यह सर्जरी करवानी पड़ती है।

 

  • तेजी से दिल की धड़कन: अक्सर ऐसा होता है कि हर्निया की सर्जरी के बाद व्यक्ति का दिल बहुत तेजी से धड़कता है।

 

 

हर्निया का ऑपरेशन कैसे किया जाता है?

 

जब कोई डॉक्टर किसी व्यक्ति को हर्निया का ऑपरेशन कराने की सलाह देता है तो उसके दिमाग में सबसे पहला सवाल यही आता है कि हर्निया के ऑपरेशन खर्चा आएगा। जो की हमने आपको ऊपर बता ही दिया है। तो आइए जानते हैं हर्निया सर्जरी की प्रक्रिया के बारे में, जिसमें कुछ महत्वपूर्ण चरण शामिल हैं, जो इस प्रकार हैं:

 

  • चरण 1: व्यक्ति को पीठ के बल लेटना: हर्निया का ऑपरेशन पीठ के बल लेटने से शुरू होता है।

 

  • स्टेप 2: व्यक्ति को एनेस्थीसिया: इसके बाद उसे एनेस्थीसिया दिया जाता है, ताकि उसे इस दौरान किसी तरह का दर्द महसूस न हो।

 

  • चरण 3: लैप्रोस्कोपी मॉनिटर की स्थापना: व्यक्ति को एनेस्थेटाइज करने के बाद, डॉक्टर ऑपरेशन के दौरान आंदोलनों की निगरानी के लिए लैप्रोस्कोपी मॉनिटर लगाता है।

 

  • स्टेप 4: त्वचा में कट बनाना: इसके बाद डॉक्टर व्यक्ति के शरीर के जिस हिस्से में हर्निया की समस्या होती है, उस पर कट लगाते हैं।

 

  • चरण 5: एक पतला दायरा सम्मिलित करना: कट बनाने के बाद, डॉक्टर शरीर की आंतरिक गतिविधियों को देखने के लिए आपके शरीर में एक पतली, रोशनी वाली दूरबीन को सम्मिलित करता है।

 

  • स्टेप 6: हर्निया का इलाज: इस सर्जरी के अंत में हर्निया का इलाज किया जाता है, जिसके लिए डॉक्टर एक पतली ट्यूब का इस्तेमाल करते हैं।

 

यदि आप सस्ती कीमत पर हर्निया का ऑपरेशन की तलाश कर रहे हैं या इससे सम्बंधित किसी भी तरह की जानकारी हासिल करना चाहते हैं तो यहाँ क्लिक करें आप हमसे व्हाट्सएप (+91 9654030724) पर संपर्क कर सकते हैं। इसके अलावा आप हमारी सेवाओं के संबंध में हमें Connect@gomedii.com पर ईमेल भी कर सकते हैं। हमारी टीम जल्द से जल्द आपसे संपर्क करेगी।


Doctor Consutation Free of Cost=

Disclaimer: GoMedii  एक डिजिटल हेल्थ केयर प्लेटफार्म है जो हेल्थ केयर की सभी आवश्यकताओं और सुविधाओं को आपस में जोड़ता है। GoMedii अपने पाठकों के लिए स्वास्थ्य समाचार, हेल्थ टिप्स और हेल्थ से जुडी सभी जानकारी ब्लोग्स के माध्यम से पहुंचाता है जिसको हेल्थ एक्सपर्ट्स एवँ डॉक्टर्स से वेरिफाइड किया जाता है । GoMedii ब्लॉग में पब्लिश होने वाली सभी सूचनाओं और तथ्यों को पूरी तरह से डॉक्टरों और स्वास्थ्य विशेषज्ञों द्वारा जांच और सत्यापन किया जाता है, इसी प्रकार जानकारी के स्रोत की पुष्टि भी होती है।