जानें क्या है हाई कोलेस्ट्रॉल के लक्षण, कारण और उपचार

कोलेस्ट्रॉल क्या है

 

कोलेस्ट्रॉल (Cholesterol) एक तरह का वसा है, जो शरीर में लिवर (Liver) के द्वारा उत्पन्न होती है। हमारे शरीर की हर एक कोशिका को जीवित रहने के लिए कोलेस्ट्रॉल की आवश्यकता होती है। यह मोम जैसा चिकना पदार्थ होता है, जो की ब्लड प्लाज्मा (Blood plasma) के द्वारा शरीर के अन्य हिस्सों तक पहुंचता है।

यह हमारे रक्त में पाया जानेवाला वसा (Fat) है, जो की एक व्यक्ति के स्वस्थ जीवन के लिए बहुत ज़रूरी होता हैे, लेकिन अगर रक्त (blood) में इसकी मात्रा सामान्य से अधिक हो जाये, तो रक्त में थक्के (Blood Clotting ) जम जाते हैं, जो की हृदय के लिए बहुत ही हानिकारक होता है। डॉक्टर्स का कहना है की, हर किसी के शरीर में कोलेस्ट्रॉल का स्तर 200 एमजी/डीएल (Mg / dl) से कम ही रहना चाहिए। नहीं तो, हाई कोलेस्ट्रॉल होने पर बहुत सारी परेशानियों का सामना करना पड़ सकता है।

 

हाई कोलेस्ट्रॉल क्या है

हाई कोलेस्ट्रॉल का मुख्य कारण खराब कोलेस्ट्रॉल (LDL) है, जो की ज्यादातर खराब या अनियमित जीवनशैली और गलत तरह के खानपान की वजह से होता है। हाई कोलेस्ट्रॉल होने के कारण, रक्त वाहिकाओं (Blood vessels) में वसायुक्त पदार्थ जमा होने लगता हैं, जिस वजह से रक्त का प्रवाह सही मात्रा में नहीं होता है और जिसका सीधा असर दिल और मस्तिष्क (Heart and brain) को प्रभावित करता है और साथ ही कई अन्य प्रकार की बीमारियां जैसे की – दिल का दौरा, आघात (Stroke), सीने में दर्द जैसी परेशानी होने लगती है।

हमारे शरीर में कोलेस्ट्रॉल रक्त के माध्यम से प्रोटीन (Protein) से जुड़ा होता है और इस प्रोटीन और कोलेस्ट्रॉल के इस संयोजन को लिपोप्रोटीन (lipoprotein) कहा जाता है।

 

 

हाई कोलेस्ट्रॉल के प्रकार

 

 

कोलेस्ट्रॉल के मुख्य 2 प्रकार होते हैं, जो लिपोप्रोटीन के आधार पर होते है, जैसे की –

 

Treatment In India

गुड कोलेस्ट्रॉल (उच्च घनत्व वाले लिपोप्रोटीन (HDL))

जो उच्च घनत्व वाले लिपोप्रोटीन (HDL) होते है उसे गुड कोलेस्ट्रॉल भी कहा जाता है। यह शरीर से खराब कोलेस्ट्रॉल (एलडीएल) को लीवर में वापस लाकर शरीर को साफ़ करता है और साथ ही यह धमनियों (Arteries) में कोलेस्ट्रॉल पट्टिका (plaque) के निर्माण को रोकने में भी मदद करता है।

यदि आपके शरीर में गुड कोलेस्ट्रॉल (HDL cholesterol) का स्वस्थ स्तर है तो यह आपके शरीर में दिल का दौरा, स्ट्रोक और रक्त के थक्के जमने (Blood clotting) के जोखिम के स्तर को कम करने में मदद करता है।

 

 

खराब कोलेस्ट्रॉल (कम घनत्व वाले लिपोप्रोटीन)

 

यदि आपके रक्त में बहुत अधिक खराब कोलेस्ट्रॉल (कम घनत्व वाले लिपोप्रोटीन) है, तो इसे हाई कोलेस्ट्रॉल के रूप में जाना जाता है। कम घनत्व वाले लिपोप्रोटीन (LDL) को अक्सर “खराब कोलेस्ट्रॉल” कहा जाता है। यह आपकी धमनियों (arteries) में उच्च कोलेस्ट्रॉल को ले जाता है और रक्त के प्रवाह (Blood flow) में बाधा डालता है और साथ ही धमनियों (Arteries) को भी सिकोड़ कर छोटा कर देता है, जिस वजह से रक्त संचार (Blood circulation) ठीक तरह से दिल और मस्तिष्क में नहीं पहुँच पाता है।

 

 

हाई कोलेस्ट्रॉल के लक्षण

 

 

  • सीने में दर्द होना हो सकता है हाई कोलेस्ट्रॉल के लक्षण

 

 

  • दिल का दौरा (Heart Attack)

 

  • आघात (stroke)

 

 

यह सारी बीमारिया हाई कोलेस्ट्रॉल के लक्षण हो सकते है, अगर इनका सही समय से जांच नहीं हो पाता है, तो यह जानलेवा हो सकता है।

 

 

हाई कोलेस्ट्रॉल होने के कारण

 

 

  • अनियमित खानपान बन सकता है हाई कोलेस्ट्रॉल होने का कारण।

 

  • शारीरिक गतिविधि का अभाव होने से भी हाई कोलेस्ट्रॉल की संभावना बढ़ सकती है।

 

  • अत्यधिक धुम्रपान का सेवन करना भी हाई कोलेस्ट्रॉल का कारण हो सकता है।

 

  • अधिक वजन बढ़ने से भी हाई कोलेस्ट्रॉल की समस्या हो सकती है।

 

  • उम्र बढ़ने की वजह से भी आपके कोलेस्ट्रॉल का स्तर बढ़ता जाता है जो कई तरह के हार्मोनल परिवर्तन की वजह से हो सकता है।

 

  • आनुवंशिक (heredity) भी हो सकता है हाई कोलेस्ट्रॉल होने के कारण।

 

 

 

हाई कोलेस्ट्रॉल की जटिलताये

 

 

  • छाती में दर्द (Chest Pain)

 

  • दिल का दौरा (Heart Attack)

 

  • आघात (Stroke)

 

 

कोलेस्ट्रॉल बढ़ने पर इन खाद्य पदार्थो से परहेज करे

 

 

  • लाल मांस (red meat)

 

  • पूर्ण वसा वाली डेयरी पदार्थ (full-fat dairy product)

 

  • मक्खन (बटर)

 

  • हाइड्रोजनीकृत तेल (hydrogenated oils)

 

  • पके हुए खाद्य पदार्थ (baked goods)

 

 

हाई कोलेस्ट्रॉल की जांच

 

 

डॉक्टर हाई कोलेस्ट्रॉल के स्तर की जाँच करने के लिए रक्त परीक्षण कराने की सलाह देते है, जिसे लिपिड पैनल या लिपिड प्रोफाइल टेस्ट (lipid panel or lipid profile) भी कहा जाता है।

 

  • कुल कोलेस्ट्रॉल (Total cholesterol)

 

  • निम्न घनत्व वसा कोलेस्ट्रौल (LDL cholesterol)

 

  • एच डी एल कोलेस्ट्रॉल (HDL cholesterol)

 

  • ट्राइग्लिसराइड्स – रक्त में वसा का एक प्रकार (Triglycerides)

 

  • हाई कोलेस्ट्रॉल की जांच के सबसे सटीक माप के लिए, रक्त का नमूना (Blood sample) लेने से पहले नौ से 12 घंटे के लिए (पानी के अलावा) कुछ भी न खाएं न पीएं।

 

 

हाई कोलेस्ट्रॉल से बचने के उपाय

 

 

  • वजन को कम करें।

 

  • फलों, सब्जियों और साबुत अनाज का सेवन करें।

 

  • मोनोअनसैचुरेटेड वसा का सेवन करें (एवोकाडो, नट्स और ऑयली मछली स्वस्थ वसा के अन्य स्रोत हैं)।

 

  • अगर आप चाहते है की आपका कोलेस्ट्रॉल नियंत्रण में रहे तो आप नियमित रूप से व्यायाम करें।

 

  • यदि आप धूम्रपान करते हैं, तो इससे भी परहेज करे।

 

 

हाई कोलेस्ट्रॉल के कोई लक्षण दिखाई नही देते है, इसलिए इसे साइलेंट प्रॉब्लम (Silent problem) भी कहा जाता है। अगर आपको सीने में दर्द (Angina) या ऊपर बताये गए कोई भी लक्षण दिखाई दे या महसूस हो, तो तुरन्त ही डॉक्टर से जांच कराये, हो सकता है यह हाई कोलेस्ट्रॉल के लक्षण हो सकते है जो जानलेवा भी साबित हो सकते है।

 

 


Doctor Consutation Free of Cost=

Disclaimer: GoMedii  एक डिजिटल हेल्थ केयर प्लेटफार्म है जो हेल्थ केयर की सभी आवश्यकताओं और सुविधाओं को आपस में जोड़ता है। GoMedii अपने पाठकों के लिए स्वास्थ्य समाचार, हेल्थ टिप्स और हेल्थ से जुडी सभी जानकारी ब्लोग्स के माध्यम से पहुंचाता है जिसको हेल्थ एक्सपर्ट्स एवँ डॉक्टर्स से वेरिफाइड किया जाता है । GoMedii ब्लॉग में पब्लिश होने वाली सभी सूचनाओं और तथ्यों को पूरी तरह से डॉक्टरों और स्वास्थ्य विशेषज्ञों द्वारा जांच और सत्यापन किया जाता है, इसी प्रकार जानकारी के स्रोत की पुष्टि भी होती है।