लो ब्लड शुगर लेवल होने के लक्षण, ऐसे करें बचाव

GoMedii Offer

कम रक्त शर्करा का खतरा केवल मधुमेह के रोगियों में ही नहीं बल्कि स्वस्थ व्यक्ति में भी है। चीनी या ग्लूकोज हमारे शरीर में ऊर्जा का मुख्य स्रोत है। यह शुगर रक्त की मदद से हमारे शरीर के अंगों तक पहुँचती है यानी रक्त शर्करा हमारे शरीर की बुनियादी ज़रूरत है। शरीर में ब्लड शुगर की मात्रा बढ़ना भी खतरनाक है और घटाना भी खतरनाक है। निम्न रक्त शर्करा की स्थिति को हाइपोग्लाइसीमिया कहा जाता है।

 

शुगर लेवल कम होने के कारण

 

  • इंसुलिन या दवा लेने के बाद खाना खाने में असमर्थता।

 

  • इंसुलिन लेने वाले रोगियों में हाइपोग्लाइसीमिया अधिक होता है, लेकिन कभी-कभी मधुमेह विरोधी गोलियां लेने वाले रोगी भी इस आपातकाल में फंस जाते हैं।

 

  • मधुमेह के रोगी की अपने दिमाग से दवा लेने और छोड़ने की आदत भी हाइपोग्लाइसीमिया का एक कारण है।

 

  • कम चीनी के कारणों में इंसुलिन लेना या जरूरत से ज्यादा दवा लेना या गलती से दो बार लेना शामिल है।

 

 

  • भोजन के नियमों का पालन न करने पर भी हाइपरग्लेसेमिया या बेहोशी हो सकती है।

 

  • अत्यधिक शारीरिक परिश्रम या व्यायाम, मधुमेह के बच्चों में अधिक खेलने के कारण थकान।

 

  • यदि आप अत्यधिक शराब का सेवन करते हैं और नहीं खाते हैं तो भी हाइपोग्लाइसीमिया हो सकता है।

 

लो ब्लड शुगर के लक्षण

 

शरीर में झटके लगना

 

यदि शरीर में ग्लूकोज का स्तर बहुत कम है, तो शरीर के केंद्रीय तंत्रिका तंत्र को समस्या होने लगती है। शरीर में ग्लूकोज की कमी को पूरा करने के लिए, आपका शरीर कैटेकोलामाइन जारी करता है, जिसके कारण कभी-कभी आप शरीर में अचानक झटके या झुनझुनी महसूस कर सकते हैं।

 

तेज भूख लगना

 

यदि खाना खाने के बाद ऐसा लगता है कि पेट खाली है या अचानक तेज भूख लगी है, तो यह एक संकेत हो सकता है कि शरीर को अधिक ग्लूकोज की जरूरत है।

 

नींद न आना

 

हाइपोग्लाइसीमिया भी खराब नींद का कारण हो सकता है। अगर रात को पसीना, सपने या बेचैनी, तो ये लो ब्लड शुगर के संकेत हो सकते हैं।

 

अचानक मूड बदल जाना

 

अचानक मूड में बदलाव आना यानी मूड बदलना भी शरीर में कम शुगर लेवल का संकेत हो सकता है। यदि आपको लगता है कि आपका व्यवहार अचानक बदल गया है या आप बेचैन महसूस कर रहे हैं, तो यह ग्लूकोज की कमी का संकेत हो सकता है।

 

आंखों के सामने अंधेरा छाना

 

यह शरीर में ग्लूकोज की कमी का पहला और सामान्य संकेत है। कई बार जब आप लंबे समय तक भूखे रहते हैं और शरीर में ग्लूकोज का स्तर बहुत कम होता है, तो आपको चक्कर आने या आंखों के सामने कुछ पल के लिए अंधेरा छा जाने के लक्षण दिखाई देते हैं। चीनी के अलावा, चीनी के कई स्रोत भी हैं, जिन्हें रोज खाया जाता है। बेकरी उत्पादों, पेय, प्रसंस्कृत खाद्य पदार्थों में चीनी छिपी हुई है।

 

लो ब्लड शुगर का करे उपचार

 

यदि निम्न रक्त शर्करा का हल्का मामला है, तो किसी भी मीठी चीज को तुरंत खाया जाना चाहिए। अमेरिकन डायबिटीज एसोसिएशन के अनुसार, यदि आपका रक्त शर्करा का स्तर 70 मिलीग्राम / डीएल से नीचे है और आप सचेत हैं, तो 15-20 ग्राम ग्लूकोज का सेवन सही उपचार है।

आप किसी भी रूप में कार्बोहाइड्रेट का सेवन कर सकते हैं, इसमें ग्लूकोज (जैसे कैंडी, मिठाई या फलों का रस) होना चाहिए। हमेशा अपने बैग में इनमें से कुछ चीजें ले जाएं।

15 मिनट के बाद, अपने रक्त शर्करा के स्तर को फिर से जांचें। यदि रक्त शर्करा का स्तर अभी भी कम हो रहा है, तो फिर से कुछ मीठे पनीर खाएं।

जब आपका शुगर लेवल सामान्य हो जाता है, तो हाइपोग्लाइसीमिया को दोबारा होने से रोकने के लिए आपको नाश्ता या भरपूर भोजन करना चाहिए।

यदि रक्त शर्करा का स्तर बहुत कम हो जाता है, तो दौरे या बेहोशी जैसी समस्याएं हो सकती हैं। ऐसी स्थिति में आप खुद भी चीनी नहीं खा सकते हैं। ऐसे में रिकवरी के लिए दूसरे की जरूरत पड़ सकती है। गंभीर हाइपोग्लाइसीमिया (54 मिलीग्राम / डीएल से कम) के मामले में, परिवार के सदस्य या किसी परिचित की मदद से ग्लूकागन को इंजेक्ट करें।

यदि स्थिति में कोई सुधार नहीं होता है, तो रोगी को तुरंत अस्पताल जाना पड़ सकता है। ऐसी स्थिति में, डॉक्टर आपकी जांच करता है और पाता है कि आपने हाइपोग्लाइसीमिया के बार-बार हमले किए हैं या यह कि इससे संबंधित जानकारी की कमी के कारण ऐसा हुआ है।


Doctor Consutation Free of Cost=

Disclaimer: GoMedii  एक डिजिटल हेल्थ केयर प्लेटफार्म है जो हेल्थ केयर की सभी आवश्यकताओं और सुविधाओं को आपस में जोड़ता है। GoMedii अपने पाठकों के लिए स्वास्थ्य समाचार, हेल्थ टिप्स और हेल्थ से जुडी सभी जानकारी ब्लोग्स के माध्यम से पहुंचाता है जिसको हेल्थ एक्सपर्ट्स एवँ डॉक्टर्स से वेरिफाइड किया जाता है । GoMedii ब्लॉग में पब्लिश होने वाली सभी सूचनाओं और तथ्यों को पूरी तरह से डॉक्टरों और स्वास्थ्य विशेषज्ञों द्वारा जांच और सत्यापन किया जाता है, इसी प्रकार जानकारी के स्रोत की पुष्टि भी होती है।