पुरुषों में होने वाली आम समस्याएं कौन-सी हैं

UPTO20

 

 

ऐसा नहीं है की सिर्फ महिलाओं को ही शारीरिक समस्या ज्यादा होती है, पुरुषों को भी कई तरह की समस्याएं होती हैं। इस लेख में हम आपको पुरुषों में होने वाली आम समस्याएं कौन सी होती हैं उन्हीं के बारे बताएंगे, जिनकी वजह से उन्हें काफी परेशानी होती है। पुरुषों में भी हर उम्र में कई बदलाव होते हैं जिसकी वजह से उन्हें कई तरह की दिक्कतें होती है।

 

 

 

पुरुषों में होने वाली आम समस्याएं कौन-सी हैं

 

 

 

पीठ पर बाल

 

बहुत से पुरुषों की पीठ पर बाल होते हैं, चाहे वह थोड़े हो, या बहुत अधिक। यदि वह इन्हें हटाना चाहते हैं तो उनके पास कई विकल्प हैं। अस्थायी परिणामों के लिए, वैक्सिंग, हेयर रिमूवल क्रीम या शेविंग से वह अपने पीठ के बालों से छुटकारा पा सकते हैं। अधिक स्थायी समाधान के लिए, लेजर ट्रीटमेंट के द्वारा बालों को हटा सकते हैं।

 

 

 

पेट पर मोटापा

 

पुरुषों की उम्र बढ़ने के साथ वजन भी बहुत तेजी से बढ़ता है। इसका सीधा असर उनके पेट पर दिखता है और उनका पेट बाहर की ओर निकलने लगता है। इसकी वजह से, हृदय रोग का खतरा बढ़ सकता है। पेट की चर्बी बढ़ने के संकेत मिलते ही पुरुषों को इसे कंट्रोल करने की कोशिश करनी चाहिए। जब आप उचित आहार और व्यायाम करेंगे तो पेट पर होने वाले मोटापे को कम करने मेंं सक्षम होंगे, साथ ही मोटापे से संबंधित कई तरह की बीमारियों से भी बचे रहेंगे।

 

 

 

बहुत ज़्यादा पसीना आना

 

पुरुषों को महिलाओं की तुलना में अधिक पसीना आता है, लेकिन कुछ पुरुषों में दूसरों की तुलना में अधिक पसीना आता है। अत्यधिक पसीना, या हाइपरहाइड्रोसिस, आमतौर पर उन क्षेत्रों को प्रभावित करता है जहाँ उन्हें सबसे अधिक पसीना आता हैं जैसे बगल, हाथों की हथेलियां और पैरों के तलवे। क्या यह आपके लिए एक समस्या है? तो इसके लिए आप अपने डॉक्टर से परामर्श लें।

 

 

 

यूनीब्रो (unibrow)

 

टेस्टोस्टेरोन, यह पुरुष में एक हार्मोन है, जो पुरुषों में महिलाओं की तुलना में अधिक बाल का कारण बनता है। उसे “यूनीब्रो” कहा जाता है, जिसकी भौहें बहुत मोटी होती हैं और वे केंद्र में मिलती हैं और अधिक भौंह बनाने लगती हैं। कुछ लोग इसे अच्छा नहीं मानते जबकि कुछ इसे पसंद करते हैं।

 

 

 

रोसैसिया (Rosacea)

 

रोसेसिया त्वचा से जुड़ा एक विकार है इस स्थिति में त्वचा की पर लालिमा, गड्ढे और फुंसियां होती हैं। यह विशेष रूप से नाक के आस-पास की त्वचा के मोटे होने का कारण भी हो सकती है, जो सूजन जैसी दिखाई दे सकती है। इसके लक्षण पुरुषों में ज्यादा खराब होते हैं, जबकि इसका कोई इलाज भी नहीं है।

 

 

 

गंजापन

 

पुरुषों में होने वाली सबसे आम समस्याओं में से एक है गंजापन। यह कई पुरुषों में होता है। लगभग आधे से ज्यादा पुरुष 35 वर्ष की आयु तक बालों के झड़ने का अनुभव करते हैं, और 45 वर्ष की आयु तक, एक अध्ययन में 70% से अधिक पुरुषों के बाल जल्दी झड़ जाते हैं। इसकी शुरुआत उनके बालों के पतले होने से शुरू होती है और धीरे-धीरे उनके बाल सबसे पहले साइड से झड़ते है और फिर सिर के बीच के हिस्से से झड़ने लगते हैं। बालों के झड़ने का इलाज करने के कई तरीके हैं, इसके लिए आप डॉक्टर से सलाह ले सकते हैं।

 

 

 

खर्राटे

 

खर्राटे लगभग 44% पुरुषों में आम हैं, जिससे महिलाओं की तुलना में पुरुषों में यह समस्या ज्यादा देखने को मिलती है। आपके द्वारा ली जाने वाली दवाएं, शराब और अंतर्निहित चिकित्सा स्थितियां इस पर निर्भर करती हैं। यह स्लीप एपनिया नामक एक गंभीर नींद विकार का संकेत भी हो सकती है, जो कम समय के लिए स्लीपर्स की साँस को रोक देता है। यदि खर्राटे आपकी नींद या आपके साथी की नींद में दिक्कत पैदा करते है। तो आपको तुरंत डॉक्टर से सलाह लेना चाहिए।

 

 

 

एथलीट फुट

 

एथलीट फुट एक ऐसी समस्या है जो पैरों और पैर की उंगलियों को प्रभावित करता है, जिससे खुजली, लाल होना, त्वचा निकलना, एड़िया फटना। छाले भी निकल सकते हैं। इसके लिए वह एंटिफंगल क्रीम के साथ इसका इलाज कर सकते हैं। इसके गंभीर मामले तब पैदा होते है, जब आप अपने पैरों को साफ नहीं रखते और बहुत अधिक समय तक आपको जूते पहन कर रहना पड़ता है। इसकी वजह से आपके पंजों में से बहुत अधिक बदबू आती है, इसके लिए आप डॉक्टर से सलाह लें सकते हैं और इस समस्या से छुटकारा पा सकते हैं


Doctor Consutation Free of Cost=

Disclaimer: GoMedii  एक डिजिटल हेल्थ केयर प्लेटफार्म है जो हेल्थ केयर की सभी आवश्यकताओं और सुविधाओं को आपस में जोड़ता है। GoMedii अपने पाठकों के लिए स्वास्थ्य समाचार, हेल्थ टिप्स और हेल्थ से जुडी सभी जानकारी ब्लोग्स के माध्यम से पहुंचाता है जिसको हेल्थ एक्सपर्ट्स एवँ डॉक्टर्स से वेरिफाइड किया जाता है । GoMedii ब्लॉग में पब्लिश होने वाली सभी सूचनाओं और तथ्यों को पूरी तरह से डॉक्टरों और स्वास्थ्य विशेषज्ञों द्वारा जांच और सत्यापन किया जाता है, इसी प्रकार जानकारी के स्रोत की पुष्टि भी होती है।